Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
2 Apr 2024 · 1 min read

ऋतुराज (घनाक्षरी )

-(घनाक्षरी)
————————–
हरियाली छा रही है,धरा इठला रही है
मदमस्त आम्र कुंज ,कोयलिया गा रही है

बासन्ती बयार चली,झूम रही कली- कली
संदली बही है हवा ,सुख अति पा रही है।।

फूल खिले,मौन हिले,खुशियों को ठाँव मिले
कलियाँ नवीन देखो,घुँघटा हटा रही हैं।।

प्रीत से पलाश पगे,पीर ,पोर- पोर जगे
विरहा की दाह मन,को भी दहका रही है।।

कली खिली कचनार,हर्षित हरसिंगार
टेसू -टेसू हुआ मन,मानिनी लजा रही है।।

भावना भरी सुगंध,सुरभि से अनुबन्ध
रेशा -रेशा ,रोम -रोम,तन हुलसा रही है।।

भ्रमित भ्रमर हुये,मन प्रमुदित हुये
सेना ऋतुराज की ज्यों,दल संग आ रही है ।।
🌻✍🏻
डॉ .रागिनी स्वर्णकार (शर्मा )
इंदौर

Language: Hindi
3 Likes · 3 Comments · 1108 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
रूपेश को मिला
रूपेश को मिला "बेस्ट राईटर ऑफ द वीक सम्मान- 2023"
रुपेश कुमार
दलदल
दलदल
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
दोहा
दोहा
sushil sarna
खिल जाए अगर कोई फूल चमन मे
खिल जाए अगर कोई फूल चमन मे
shabina. Naaz
वो ख्वाबों में अब भी चमन ढूंढ़ते हैं।
वो ख्वाबों में अब भी चमन ढूंढ़ते हैं।
Phool gufran
मानवता की चीखें
मानवता की चीखें
Shekhar Chandra Mitra
सब अपने नसीबों का
सब अपने नसीबों का
Dr fauzia Naseem shad
2744. *पूर्णिका*
2744. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
बंद मुट्ठी बंदही रहने दो
बंद मुट्ठी बंदही रहने दो
Abasaheb Sarjerao Mhaske
*कभी तो खुली किताब सी हो जिंदगी*
*कभी तो खुली किताब सी हो जिंदगी*
Shashi kala vyas
जयंती विशेष : अंबेडकर जयंती
जयंती विशेष : अंबेडकर जयंती
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
पकौड़े चाय ही बेचा करो अच्छा है जी।
पकौड़े चाय ही बेचा करो अच्छा है जी।
सत्य कुमार प्रेमी
नज़ारे स्वर्ग के लगते हैं
नज़ारे स्वर्ग के लगते हैं
Neeraj Agarwal
■ शर्म भी कर लो।
■ शर्म भी कर लो।
*Author प्रणय प्रभात*
भाईदूज
भाईदूज
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
इश्क की गली में जाना छोड़ दिया हमने
इश्क की गली में जाना छोड़ दिया हमने
ठाकुर प्रतापसिंह "राणाजी"
17 जून 2019 को प्रथम वर्षगांठ पर रिया को हार्दिक बधाई
17 जून 2019 को प्रथम वर्षगांठ पर रिया को हार्दिक बधाई
Ravi Prakash
हमने तूफानों में भी दीपक जलते देखा है
हमने तूफानों में भी दीपक जलते देखा है
कवि दीपक बवेजा
जां से बढ़कर है आन भारत की
जां से बढ़कर है आन भारत की
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
शब्द से शब्द टकराए तो बन जाए कोई बात ,
शब्द से शब्द टकराए तो बन जाए कोई बात ,
ज्योति
हर दिन एक नई शुरुआत हैं।
हर दिन एक नई शुरुआत हैं।
Sangeeta Beniwal
पढ़िए ! पुस्तक : कब तक मारे जाओगे पर चर्चित साहित्यकार श्री सूरजपाल चौहान जी के विचार।
पढ़िए ! पुस्तक : कब तक मारे जाओगे पर चर्चित साहित्यकार श्री सूरजपाल चौहान जी के विचार।
Dr. Narendra Valmiki
फेसबूक में  लेख ,कविता ,कहानियाँ और संस्मरण संक्षिप्त ,सरल औ
फेसबूक में लेख ,कविता ,कहानियाँ और संस्मरण संक्षिप्त ,सरल औ
DrLakshman Jha Parimal
परिपक्वता (maturity) को मापने के लिए उम्र का पैमाना (scale)
परिपक्वता (maturity) को मापने के लिए उम्र का पैमाना (scale)
Seema Verma
दुखद अंत 🐘
दुखद अंत 🐘
Rajni kapoor
बाबासाहेब 'अंबेडकर '
बाबासाहेब 'अंबेडकर '
Buddha Prakash
kavita
kavita
Rambali Mishra
संगीत वह एहसास है जो वीराने स्थान को भी रंगमय कर देती है।
संगीत वह एहसास है जो वीराने स्थान को भी रंगमय कर देती है।
Rj Anand Prajapati
दोहे -लालची
दोहे -लालची
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
यादों की सुनवाई होगी
यादों की सुनवाई होगी
Shweta Soni
Loading...