Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
23 Jun 2023 · 1 min read

उसकी बाहो में ये हसीन रात आखिरी होगी

उसकी बाहो में ये हसीन रात आखिरी होगी

3 Likes · 689 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
■ आज का मुक्तक
■ आज का मुक्तक
*प्रणय प्रभात*
सपना
सपना
Dr. Pradeep Kumar Sharma
🥀 *अज्ञानी की कलम*🥀
🥀 *अज्ञानी की कलम*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
एक लम्हा है ज़िन्दगी,
एक लम्हा है ज़िन्दगी,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
पागल
पागल
Sushil chauhan
गजल सगीर
गजल सगीर
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
5) कब आओगे मोहन
5) कब आओगे मोहन
पूनम झा 'प्रथमा'
'बेटी बचाओ-बेटी पढाओ'
'बेटी बचाओ-बेटी पढाओ'
Bodhisatva kastooriya
ये बेजुबान हैं
ये बेजुबान हैं
Sonam Puneet Dubey
कौन कहता है कि लहजा कुछ नहीं होता...
कौन कहता है कि लहजा कुछ नहीं होता...
कवि दीपक बवेजा
मेरी अर्थी🌹
मेरी अर्थी🌹
Aisha Mohan
भूल जाऊं तुझे भूल पता नहीं
भूल जाऊं तुझे भूल पता नहीं
VINOD CHAUHAN
चुनाव फिर आने वाला है।
चुनाव फिर आने वाला है।
नेताम आर सी
भगवान ने कहा-“हम नहीं मनुष्य के कर्म बोलेंगे“
भगवान ने कहा-“हम नहीं मनुष्य के कर्म बोलेंगे“
कवि रमेशराज
कुत्ते का श्राद्ध
कुत्ते का श्राद्ध
Satish Srijan
देखना हमको फिर नहीं भाता
देखना हमको फिर नहीं भाता
Dr fauzia Naseem shad
*आओ खेलें खेल को, खेल-भावना संग (कुंडलिया)*
*आओ खेलें खेल को, खेल-भावना संग (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
****रघुवीर आयेंगे****
****रघुवीर आयेंगे****
Kavita Chouhan
पाँच मिनट - कहानी
पाँच मिनट - कहानी
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
...,,,,
...,,,,
शेखर सिंह
* पावन धरा *
* पावन धरा *
surenderpal vaidya
सम्मान तुम्हारा बढ़ जाता श्री राम चरण में झुक जाते।
सम्मान तुम्हारा बढ़ जाता श्री राम चरण में झुक जाते।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
सच्चे- झूठे सब यहाँ,
सच्चे- झूठे सब यहाँ,
sushil sarna
3117.*पूर्णिका*
3117.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
6) “जय श्री राम”
6) “जय श्री राम”
Sapna Arora
सीखा दे ना सबक ऐ जिंदगी अब तो, लोग हमको सिर्फ मतलब के लिए या
सीखा दे ना सबक ऐ जिंदगी अब तो, लोग हमको सिर्फ मतलब के लिए या
Rekha khichi
मैं अशुद्ध बोलता हूं
मैं अशुद्ध बोलता हूं
Keshav kishor Kumar
चाँद नभ से दूर चला, खड़ी अमावस मौन।
चाँद नभ से दूर चला, खड़ी अमावस मौन।
डॉ.सीमा अग्रवाल
"वो दिन दूर नहीं"
Dr. Kishan tandon kranti
मोहन वापस आओ
मोहन वापस आओ
Dr Archana Gupta
Loading...