Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
19 Jun 2023 · 1 min read

*उल्लू (बाल कविता)*

उल्लू (बाल कविता)

उल्लू पक्षी मूर्ख कहाता
बुद्धिहीन जग इसे बताता
निशिचर की श्रेणी में आता
दिन में जग है इसे सताता
लक्ष्मी का वाहन कहलाता
इस चक्कर में मारा जाता

रचयिता : रवि प्रकाश
बाजार सर्राफा, रामपुर, उत्तर प्रदेश
मोबाइल 99976 15451

506 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Ravi Prakash
View all
You may also like:
"सड़क"
Dr. Kishan tandon kranti
गर्मी की छुट्टियां
गर्मी की छुट्टियां
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
लुगाई पाकिस्तानी रे
लुगाई पाकिस्तानी रे
gurudeenverma198
■न्यू थ्योरी■
■न्यू थ्योरी■
*प्रणय प्रभात*
" न जाने क्या है जीवन में "
Chunnu Lal Gupta
खुशनसीब
खुशनसीब
Naushaba Suriya
दोस्ती
दोस्ती
Surya Barman
2985.*पूर्णिका*
2985.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
“ प्रेमक बोल सँ लोक केँ जीत सकैत छी ”
“ प्रेमक बोल सँ लोक केँ जीत सकैत छी ”
DrLakshman Jha Parimal
कविता
कविता
Rambali Mishra
उन दरख्तों पे कोई फूल न खिल पाएंगें
उन दरख्तों पे कोई फूल न खिल पाएंगें
Shweta Soni
निराशा एक आशा
निराशा एक आशा
डॉ. शिव लहरी
तुम जहा भी हो,तुरंत चले आओ
तुम जहा भी हो,तुरंत चले आओ
Ram Krishan Rastogi
है खबर यहीं के तेरा इंतजार है
है खबर यहीं के तेरा इंतजार है
सिद्धार्थ गोरखपुरी
बड़ा गुरुर था रावण को भी अपने भ्रातृ रूपी अस्त्र पर
बड़ा गुरुर था रावण को भी अपने भ्रातृ रूपी अस्त्र पर
सुनील कुमार
शिव का सरासन  तोड़  रक्षक हैं  बने  श्रित मान की।
शिव का सरासन तोड़ रक्षक हैं बने श्रित मान की।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
दोहा-सुराज
दोहा-सुराज
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
खोदकर इक शहर देखो लाश जंगल की मिलेगी
खोदकर इक शहर देखो लाश जंगल की मिलेगी
Johnny Ahmed 'क़ैस'
बचपन की यादें
बचपन की यादें
Neeraj Agarwal
मुक्तक
मुक्तक
गुमनाम 'बाबा'
ऐश ट्रे   ...
ऐश ट्रे ...
sushil sarna
आदिपुरुष आ बिरोध
आदिपुरुष आ बिरोध
Acharya Rama Nand Mandal
बज्जिका के पहिला कवि ताले राम
बज्जिका के पहिला कवि ताले राम
Udaya Narayan Singh
*शंकर जी (बाल कविता)*
*शंकर जी (बाल कविता)*
Ravi Prakash
असली अभागा कौन ???
असली अभागा कौन ???
VINOD CHAUHAN
गम के दिनों में साथ कोई भी खड़ा न था।
गम के दिनों में साथ कोई भी खड़ा न था।
सत्य कुमार प्रेमी
अपनी क़ीमत
अपनी क़ीमत
Dr fauzia Naseem shad
मां का महत्त्व
मां का महत्त्व
Mangilal 713
एक समय वो था
एक समय वो था
Dr.Rashmi Mishra
मिष्ठी रानी गई बाजार
मिष्ठी रानी गई बाजार
Manu Vashistha
Loading...