Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
6 Feb 2024 · 1 min read

उल्फत अय्यार होता है कभी कबार

उल्फत अय्यार होता है कभी कबार,
कभी कभी जिंदगी होती है आर,
ख़फ़ा हो जाते हैं लोग उनसे,
जो करते हैं गलती बार बार।

लब्बो से कोई बात निकलने में वक्त नहीं लगता,
रिश्तों को तोड़ने में वक्त नहीं लगता,
अगर तुम्हें चाहिए है इनायत,
तो तुम्हें चाहिए है, एक उल्फती और सुरूर आशना।

Language: Hindi
1 Like · 108 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
"कितना कठिन प्रश्न है यह,
शेखर सिंह
मन की आंखें
मन की आंखें
Mahender Singh
इरशा
इरशा
ओंकार मिश्र
ग़ज़ल- मशालें हाथ में लेकर ॲंधेरा ढूॅंढने निकले...
ग़ज़ल- मशालें हाथ में लेकर ॲंधेरा ढूॅंढने निकले...
अरविन्द राजपूत 'कल्प'
*ताना कंटक एक समान*
*ताना कंटक एक समान*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
किसान की संवेदना
किसान की संवेदना
Dr. Vaishali Verma
हार से भी जीत जाना सीख ले।
हार से भी जीत जाना सीख ले।
सत्य कुमार प्रेमी
जो हमने पूछा कि...
जो हमने पूछा कि...
Anis Shah
गमों की चादर ओढ़ कर सो रहे थे तन्हां
गमों की चादर ओढ़ कर सो रहे थे तन्हां
Kumar lalit
विचार
विचार
Godambari Negi
मैं बंजारा बन जाऊं
मैं बंजारा बन जाऊं
Shyamsingh Lodhi Rajput (Tejpuriya)
*किसी कार्य में हाथ लगाना (हास्य व्यंग्य)*
*किसी कार्य में हाथ लगाना (हास्य व्यंग्य)*
Ravi Prakash
जिंदगी न जाने किस राह में खडी हो गयीं
जिंदगी न जाने किस राह में खडी हो गयीं
Sonu sugandh
लिख दूं
लिख दूं
Vivek saswat Shukla
इज़्जत भरी धूप का सफ़र करना,
इज़्जत भरी धूप का सफ़र करना,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
2583.पूर्णिका
2583.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
Choose a man or women with a good heart no matter what his f
Choose a man or women with a good heart no matter what his f
पूर्वार्थ
है कौन वहां शिखर पर
है कौन वहां शिखर पर
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
.
.
Amulyaa Ratan
"राज़-ए-इश्क़" ग़ज़ल
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
सजनी पढ़ लो गीत मिलन के
सजनी पढ़ लो गीत मिलन के
Satish Srijan
बेअसर
बेअसर
SHAMA PARVEEN
आस
आस
Shyam Sundar Subramanian
दिन भर जाने कहाँ वो जाता
दिन भर जाने कहाँ वो जाता
डॉ.सीमा अग्रवाल
मैं तो महज एक नाम हूँ
मैं तो महज एक नाम हूँ
VINOD CHAUHAN
समर्पित बनें, शरणार्थी नहीं।
समर्पित बनें, शरणार्थी नहीं।
Sanjay ' शून्य'
*अज्ञानी की कलम*
*अज्ञानी की कलम*
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
गीत..
गीत..
Dr. Rajendra Singh 'Rahi'
#लघु कविता
#लघु कविता
*Author प्रणय प्रभात*
पसरी यों तनहाई है
पसरी यों तनहाई है
Dr. Sunita Singh
Loading...