Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
18 Jan 2024 · 1 min read

उम्र न जाने किन गलियों से गुजरी कुछ ख़्वाब मुकम्मल हुए कुछ उन

उम्र न जाने किन गलियों से गुजरी कुछ ख़्वाब मुकम्मल हुए कुछ उन्हीं गलियों में छूटे मिले,
मैं हर अधूरी ख्वाहिश के लिए क्यों अपने मसीहा को दोषी ठहराऊँ, कभी-कभी मेरी खामोशी भी हावी हुई है उन पर,
अग़र एक ख्वाहिश नाक़ाम होने से मैं ठहर जाती तो आज हक़ीक़त का ये जहां नहीं मिलता मुझे,
मैंने सींचा है अपनी जीवनरूपी लता को कइयों के सूखने के बाद भी कि कहीं एक और न सूख जाए।

149 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
भूल गए हम वो दिन , खुशियाँ साथ मानते थे !
भूल गए हम वो दिन , खुशियाँ साथ मानते थे !
DrLakshman Jha Parimal
आम के छांव
आम के छांव
Santosh kumar Miri
रूह की अभिलाषा🙏
रूह की अभिलाषा🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
खेत -खलिहान
खेत -खलिहान
नाथ सोनांचली
परीक्षा
परीक्षा
Dr. Pradeep Kumar Sharma
जिंदगी से कुछ यू निराश हो जाते हैं
जिंदगी से कुछ यू निराश हो जाते हैं
Ranjeet kumar patre
विज्ञान का चमत्कार देखो,विज्ञान का चमत्कार देखो,
विज्ञान का चमत्कार देखो,विज्ञान का चमत्कार देखो,
पूर्वार्थ
जीवन एक संगीत है | इसे जीने की धुन जितनी मधुर होगी , जिन्दगी
जीवन एक संगीत है | इसे जीने की धुन जितनी मधुर होगी , जिन्दगी
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
3352.⚘ *पूर्णिका* ⚘
3352.⚘ *पूर्णिका* ⚘
Dr.Khedu Bharti
जब से देखा है तुमको
जब से देखा है तुमको
Ram Krishan Rastogi
मां बेटी
मां बेटी
Neeraj Agarwal
Ab maine likhna band kar diya h,
Ab maine likhna band kar diya h,
Sakshi Tripathi
कुदरत
कुदरत
manisha
होली के दिन
होली के दिन
Ghanshyam Poddar
कुछ पल अपने लिए
कुछ पल अपने लिए
Mukesh Kumar Sonkar
दर्द का बस एक
दर्द का बस एक
Dr fauzia Naseem shad
भाड़ में जाओ
भाड़ में जाओ
ruby kumari
Red is red
Red is red
Dr. Vaishali Verma
*दो तरह के कुत्ते (हास्य-व्यंग्य)*
*दो तरह के कुत्ते (हास्य-व्यंग्य)*
Ravi Prakash
हिय  में  मेरे  बस  गये,  दशरथ - सुत   श्रीराम
हिय में मेरे बस गये, दशरथ - सुत श्रीराम
Anil Mishra Prahari
ये आंखें जब भी रोएंगी तुम्हारी याद आएगी।
ये आंखें जब भी रोएंगी तुम्हारी याद आएगी।
Phool gufran
■सीखने योग्य■
■सीखने योग्य■
*Author प्रणय प्रभात*
निशानी
निशानी
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
इंतिज़ार
इंतिज़ार
Shyam Sundar Subramanian
"जियो जिन्दगी"
Dr. Kishan tandon kranti
कहा था जिसे अपना दुश्मन सभी ने
कहा था जिसे अपना दुश्मन सभी ने
Johnny Ahmed 'क़ैस'
🥀*गुरु चरणों की धूल* 🥀
🥀*गुरु चरणों की धूल* 🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
**आजकल के रिश्ते*
**आजकल के रिश्ते*
Harminder Kaur
वो दौर था ज़माना जब नज़र किरदार पर रखता था।
वो दौर था ज़माना जब नज़र किरदार पर रखता था।
शिव प्रताप लोधी
अनुभूति
अनुभूति
Shweta Soni
Loading...