Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
6 May 2024 · 1 min read

उम्मीद

#दिनांक:-5/5/2024
#शीर्षक:-उम्मीद

हाँ निस्वार्थ था मेरा प्रेम
तुमने समझने में भूल की,
मुझमें घुलने की जिद की,
मुझे आजमाने की चाह की,
चुनौतीपूर्ण राह की….!

आह….!
क्यूँ तोड़ा मेरा भरोसा,
क्यूँ दिल को चोटिल किया,
क्यूँ जताया ‘हम तुम्हारे है’,
क्यूँ भावना को आहत किया….!

उफ्फ….!
कैसे सहन करूँ दिल की चीखे,
समन्दर हुई आँखों में जलन,
किसी की सुन पायी नहीं,
तुमको सुना पायी नहीं,
कैसा लगाव था तेरा,
तेरा दिया घाव,
तुमको ही दिखा पायी नहीं….!

सुनो….!
तेरी बाते हमे सताती है,
तेरी रुसवाई हमे खलती है,
बैरी कहूँ या हरजाई पिया,
अभी भी,
उम्मीद में दिन-रात साँसें चलती है….||

रचना मौलिक, स्वरचित और सर्वाधिक सुरक्षित है|
प्रतिभा पाण्डेय “प्रति”
चेन्नई

Language: Hindi
2 Likes · 31 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
"फलों की कहानी"
Dr. Kishan tandon kranti
मित्रता
मित्रता
जगदीश लववंशी
ना आसमान सरकेगा ना जमीन खिसकेगी।
ना आसमान सरकेगा ना जमीन खिसकेगी।
Lokesh Sharma
अलार्म
अलार्म
Dr Parveen Thakur
जज्बात लिख रहा हूॅ॑
जज्बात लिख रहा हूॅ॑
VINOD CHAUHAN
गुलाम
गुलाम
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
काश तुम्हारी तस्वीर भी हमसे बातें करती
काश तुम्हारी तस्वीर भी हमसे बातें करती
Dushyant Kumar Patel
"अन्तरात्मा की पथिक "मैं"
शोभा कुमारी
👌आभास👌
👌आभास👌
*प्रणय प्रभात*
नारी की शक्ति
नारी की शक्ति
Anamika Tiwari 'annpurna '
गाँधी जी की लाठी
गाँधी जी की लाठी
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
ज़िंदगी का सवाल
ज़िंदगी का सवाल
Dr fauzia Naseem shad
जब  सारे  दरवाजे  बंद  हो  जाते  है....
जब सारे दरवाजे बंद हो जाते है....
shabina. Naaz
2923.*पूर्णिका*
2923.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
जुते की पुकार
जुते की पुकार
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
माना जीवन लघु बहुत,
माना जीवन लघु बहुत,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
*
*"रक्षाबन्धन"* *"काँच की चूड़ियाँ"*
Radhakishan R. Mundhra
*वर्तमान पल भर में ही, गुजरा अतीत बन जाता है (हिंदी गजल)*
*वर्तमान पल भर में ही, गुजरा अतीत बन जाता है (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
हम जिएँ न जिएँ दोस्त
हम जिएँ न जिएँ दोस्त
Vivek Mishra
बरखा
बरखा
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
सब बिकाऊ है
सब बिकाऊ है
Dr Mukesh 'Aseemit'
हार
हार
पूर्वार्थ
बना चाँद का उड़न खटोला
बना चाँद का उड़न खटोला
Vedha Singh
Dard-e-madhushala
Dard-e-madhushala
Tushar Jagawat
विधवा
विधवा
Buddha Prakash
चलो मौसम की बात करते हैं।
चलो मौसम की बात करते हैं।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
साहित्य का बुनियादी सरोकार +रमेशराज
साहित्य का बुनियादी सरोकार +रमेशराज
कवि रमेशराज
तुमसे मिलना इतना खुशनुमा सा था
तुमसे मिलना इतना खुशनुमा सा था
Kumar lalit
प्रेम छिपाये ना छिपे
प्रेम छिपाये ना छिपे
शेखर सिंह
मेरी बेटी मेरी सहेली
मेरी बेटी मेरी सहेली
लक्ष्मी सिंह
Loading...