Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
May 8, 2022 · 1 min read

उम्मीदों के परिन्दे

उम्मीदों के परिन्दे
जब परवाज़ करते है
ख्वाबों के ऊँचे आसमां में ,
उनके पसीने की बूंदें
दरार बना देती
सख्त से सख्त चट्टान में ,
बेबसी सहेज के
बेचते जो भूख को
दर्द की दुकान में ,
खुद को जला देते
रौशनी की चाह में
रात के जहान में ,
नज़र आते
तब उनके हौंसले
सफलता की दास्ताँ में ,
छेनी हथौड़ी की चोट से
जो पत्थर तराशे जाते
बदल जाते भगवान में ,

59 Views
You may also like:
प्रेम
Rashmi Sanjay
नर्मदा के घाट पर / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
=*तुम अन्न-दाता हो*=
Prabhudayal Raniwal
एक ख़्वाब।
Taj Mohammad
पनघट और मरघट में अन्तर
Ram Krishan Rastogi
मज़दूर की महत्ता
Dr. Alpa H. Amin
'दुष्टों का नाश करें' (ओज - रस)
Vishnu Prasad 'panchotiya'
तरबूज का हाल
श्री रमण
उपहार की भेंट
Buddha Prakash
प्रकृति के कण कण में ईश्वर बसता है।
Taj Mohammad
बांस का चावल
सिद्धार्थ गोरखपुरी
इच्छाओं का घर
Anamika Singh
सूर्यज्वाळा
"अशांत" शेखर
भोर
पंकज कुमार "कर्ण"
" इच्छापूर्ति अक्टूबर "
Dr Meenu Poonia
"मैं फ़िर से फ़ौजी कहलाऊँगा"
Lohit Tamta
पापा
Nitu Sah
दिल टूट करके।
Taj Mohammad
संडे की व्यथा
ज्ञानीचोर ज्ञानीचोर
भगवान सुनता क्यों नहीं ?
ओनिका सेतिया 'अनु '
पिताजी
विनोद शर्मा सागर
गुज़र रही है जिंदगी...!!
Ravi Malviya
जोशवान मनुष्य
AMRESH KUMAR VERMA
जाने क्यों
सूर्यकांत द्विवेदी
चलना ही पड़ेगा
Mahendra Narayan
हम आजाद पंछी
Anamika Singh
तुम्हें सुकूँ सा मिले।
Taj Mohammad
" ओ मेरी प्यारी माँ "
कुलदीप दहिया "मरजाणा दीप"
पीयूष छंद-पिताजी का योगदान
asha0963
✍️स्टेचू✍️
"अशांत" शेखर
Loading...