Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
8 May 2022 · 1 min read

उम्मीदों के परिन्दे

उम्मीदों के परिन्दे
जब परवाज़ करते है
ख्वाबों के ऊँचे आसमां में ,
उनके पसीने की बूंदें
दरार बना देती
सख्त से सख्त चट्टान में ,
बेबसी सहेज के
बेचते जो भूख को
दर्द की दुकान में ,
खुद को जला देते
रौशनी की चाह में
रात के जहान में ,
नज़र आते
तब उनके हौंसले
सफलता की दास्ताँ में ,
छेनी हथौड़ी की चोट से
जो पत्थर तराशे जाते
बदल जाते भगवान में ,

Language: Hindi
453 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
"पानी"
Dr. Kishan tandon kranti
ड्रीम-टीम व जुआ-सटा
ड्रीम-टीम व जुआ-सटा
Anil chobisa
जिंदगी
जिंदगी
विजय कुमार अग्रवाल
निर्णय
निर्णय
Dr fauzia Naseem shad
** राम बनऽला में एतना तऽ..**
** राम बनऽला में एतना तऽ..**
Chunnu Lal Gupta
कुछ नही हो...
कुछ नही हो...
Sapna K S
23/171.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/171.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
प्रभु गुण कहे न जाएं तुम्हारे। भजन
प्रभु गुण कहे न जाएं तुम्हारे। भजन
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
गीत मौसम का
गीत मौसम का
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
वो काजल से धार लगाती है अपने नैनों की कटारों को ,,
वो काजल से धार लगाती है अपने नैनों की कटारों को ,,
Vishal babu (vishu)
बहुत दम हो गए
बहुत दम हो गए
ऐ./सी.राकेश देवडे़ बिरसावादी
सितम गर हुआ है।
सितम गर हुआ है।
Taj Mohammad
🚩मिलन-सुख की गजल-जैसा तुम्हें फैसन ने ढाला है
🚩मिलन-सुख की गजल-जैसा तुम्हें फैसन ने ढाला है
Pt. Brajesh Kumar Nayak
सनम की शिकारी नजरें...
सनम की शिकारी नजरें...
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
अपार ज्ञान का समंदर है
अपार ज्ञान का समंदर है "शंकर"
Praveen Sain
वोट का सौदा
वोट का सौदा
Dr. Pradeep Kumar Sharma
दिल धोखे में है
दिल धोखे में है
शेखर सिंह
कामुकता एक ऐसा आभास है जो सब प्रकार की शारीरिक वीभत्सना को ख
कामुकता एक ऐसा आभास है जो सब प्रकार की शारीरिक वीभत्सना को ख
Rj Anand Prajapati
बंद मुट्ठी बंदही रहने दो
बंद मुट्ठी बंदही रहने दो
Abasaheb Sarjerao Mhaske
यकीन
यकीन
Sidhartha Mishra
हे राम !
हे राम !
Ghanshyam Poddar
लोग अब हमसे ख़फा रहते हैं
लोग अब हमसे ख़फा रहते हैं
Shweta Soni
मौन आँखें रहीं, कष्ट कितने सहे,
मौन आँखें रहीं, कष्ट कितने सहे,
Arvind trivedi
हो रहा अवध में इंतजार हे रघुनंदन कब आओगे।
हो रहा अवध में इंतजार हे रघुनंदन कब आओगे।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
■ ख़ास दिन...
■ ख़ास दिन...
*Author प्रणय प्रभात*
About [ Ranjeet Kumar Shukla ]
About [ Ranjeet Kumar Shukla ]
Ranjeet Kumar Shukla
अच्छे दामों बिक रहे,
अच्छे दामों बिक रहे,
sushil sarna
जीवन आसान नहीं है...
जीवन आसान नहीं है...
Ashish Morya
*रिश्ते भैया दूज के, सबसे अधिक पवित्र (कुंडलिया)*
*रिश्ते भैया दूज के, सबसे अधिक पवित्र (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
लाल दशरथ के है आने वाले
लाल दशरथ के है आने वाले
Neeraj Mishra " नीर "
Loading...