Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
12 Feb 2024 · 1 min read

उफ़ तेरी ये अदायें सितम ढा रही है।

उफ़ तेरी ये अदायें सितम ढा रही है।
दीवानों को कितना ये तड़पा रही है ।
लगे ना नज़र तेरे चेहरे को उम्र भर।
जवानी मौहब्बत को झुठला रही है।।
Phool gufran

99 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
मतदान
मतदान
साहिल
Alahda tu bhi nhi mujhse,
Alahda tu bhi nhi mujhse,
Sakshi Tripathi
उगते विचार.........
उगते विचार.........
विमला महरिया मौज
बुंदेली दोहा- पलका (पलंग)
बुंदेली दोहा- पलका (पलंग)
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
ऋतुराज
ऋतुराज
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
" ब्रह्माण्ड की चेतना "
Dr Meenu Poonia
कविता: मेरी अभिलाषा- उपवन बनना चाहता हूं।
कविता: मेरी अभिलाषा- उपवन बनना चाहता हूं।
Rajesh Kumar Arjun
You call out
You call out
Bidyadhar Mantry
एक नज़र में
एक नज़र में
Dr fauzia Naseem shad
*त्रिशूल (बाल कविता)*
*त्रिशूल (बाल कविता)*
Ravi Prakash
प्रकृति का गुलदस्ता
प्रकृति का गुलदस्ता
Madhu Shah
ग़ज़ल सगीर
ग़ज़ल सगीर
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
*चांद नहीं मेरा महबूब*
*चांद नहीं मेरा महबूब*
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
"जरा गौर करिए तो"
Dr. Kishan tandon kranti
सब कुछ हो जब पाने को,
सब कुछ हो जब पाने को,
manjula chauhan
मत फैला तू हाथ अब उसके सामने
मत फैला तू हाथ अब उसके सामने
gurudeenverma198
यूनिवर्सिटी के गलियारे
यूनिवर्सिटी के गलियारे
Surinder blackpen
नव वर्ष
नव वर्ष
RAKESH RAKESH
GOD BLESS EVERYONE
GOD BLESS EVERYONE
Baldev Chauhan
बस कट, पेस्ट का खेल
बस कट, पेस्ट का खेल
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
World Emoji Day
World Emoji Day
Tushar Jagawat
वर्तमान, अतीत, भविष्य...!!!!
वर्तमान, अतीत, भविष्य...!!!!
Jyoti Khari
बुराई कर मगर सुन हार होती है अदावत की
बुराई कर मगर सुन हार होती है अदावत की
आर.एस. 'प्रीतम'
जिसने सिखली अदा गम मे मुस्कुराने की.!!
जिसने सिखली अदा गम मे मुस्कुराने की.!!
शेखर सिंह
दोस्ती के नाम.....
दोस्ती के नाम.....
Naushaba Suriya
आजमाइश
आजमाइश
Suraj Mehra
*मर्यादा पुरूषोत्तम राम*
*मर्यादा पुरूषोत्तम राम*
Shashi kala vyas
*वो बीता हुआ दौर नजर आता है*(जेल से)
*वो बीता हुआ दौर नजर आता है*(जेल से)
Dushyant Kumar
जब जब भूलने का दिखावा किया,
जब जब भूलने का दिखावा किया,
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
#दोहा
#दोहा
*Author प्रणय प्रभात*
Loading...