Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
2 Jul 2016 · 1 min read

उनींदे से भटकते मेरे अब अरमान लगते हैं गज़ल

उनींदे से भटकते मेरे अब अरमान लगते हैं
कभी बेचैन लगते हैं कभी नादान लगते है

जहानत ही नहीं काफी ज़माना जीतना हो तो
झुके सर तो मशीखत की सदा पहचान लगते है

सभी भूले हुए जीवन के सुख दुःख याद आते है
कभी वो फूल लगते हैं कभी पैकान लगते है

नज़ारे गाँव के बीता हुया कल हो गए अब तो
वो गलियांऔर पनघट अब मुझे वीरान लगते है

छुपे बैठे हैं पलकों में न जीने चैन से देते
वो मेरे ख़्वाब ही मुझ को कहीं शैतान लगते है

कई हैं मंजिलें सोची कई हैं रास्ते अपने
वो छूने मील के पत्थर नहीं आसान लगते है

कोई कंधा मिला होता हमें सर रख के रोने को
खुशी दी जिनको’ मेरे दुख से’ वो अनजान लगते है

उफनते सागरों के दर्द कोई क्या भला जाने
जो उसके गर्भ में उठते कई तूफ़ान लगते है

जहां वाले कभी निर्मल परों को आजमाते है
बडी हैरत सी होती है जरा नादान लगते हैं1

2 Comments · 337 Views
You may also like:
प्यार तुम्हीं पर लुटा दूँगा।
Buddha Prakash
✴️जो बिखर गया उसका टूटना कैसा✴️
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
जंगल की सैर
जगदीश लववंशी
सवाल सिर्फ आँखों में बचे थे, जुबान तो खामोश हो...
Manisha Manjari
"मेरा मन"
Dr Meenu Poonia
भगतसिंह
Shekhar Chandra Mitra
दर्दों ने घेरा।
Taj Mohammad
*खिलता है भीतर कमल 【कुंडलिया】*
Ravi Prakash
बगीचे में फूलों को
Manoj Tanan
जन्मदिन कन्हैया का
Jayanti Prasad Sharma
इश्क एक बिमारी है तो दवाई क्यू नही
Anurag pandey
मां के आंचल
Nitu Sah
सूरज दादा छुट्टी पर (हास्य कविता)
डॉ. शिव लहरी
प्रेम के रिश्ते
Rashmi Sanjay
जले स्नेह का दीप।
लक्ष्मी सिंह
जंगल में कवि सम्मेलन
मनोज कर्ण
व्यंग्य- प्रदूषण वाली दीवाली
जयति जैन 'नूतन'
कोशिश करने वालों की हार नहीं होती हैं
DR ARUN KUMAR SHASTRI
तेरा पापा मेरा बाप
Satish Srijan
प्राणदायी श्वास हो तुम।
Neelam Sharma
लड़की भी तो इंसान है
gurudeenverma198
Right way
Dr.sima
कलम नही लिख पाया
Anamika Singh
✍️यंत्रतंत्र के बदलाव✍️
'अशांत' शेखर
हर दिल तिरंगा लाते हैं, हर घर तिरंगा लाते हैं
Seema 'Tu hai na'
हरियाली और बंजर
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
इंसानों की इस भीड़ में
Dr fauzia Naseem shad
■ सत्यमेव जयते!!
*Author प्रणय प्रभात*
प्रतियोगिता
krishan saini
सावन आया झूम के .....!!!
Kanchan Khanna
Loading...