Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings

उनींदे से भटकते मेरे अब अरमान लगते हैं गज़ल

उनींदे से भटकते मेरे अब अरमान लगते हैं
कभी बेचैन लगते हैं कभी नादान लगते है

जहानत ही नहीं काफी ज़माना जीतना हो तो
झुके सर तो मशीखत की सदा पहचान लगते है

सभी भूले हुए जीवन के सुख दुःख याद आते है
कभी वो फूल लगते हैं कभी पैकान लगते है

नज़ारे गाँव के बीता हुया कल हो गए अब तो
वो गलियांऔर पनघट अब मुझे वीरान लगते है

छुपे बैठे हैं पलकों में न जीने चैन से देते
वो मेरे ख़्वाब ही मुझ को कहीं शैतान लगते है

कई हैं मंजिलें सोची कई हैं रास्ते अपने
वो छूने मील के पत्थर नहीं आसान लगते है

कोई कंधा मिला होता हमें सर रख के रोने को
खुशी दी जिनको’ मेरे दुख से’ वो अनजान लगते है

उफनते सागरों के दर्द कोई क्या भला जाने
जो उसके गर्भ में उठते कई तूफ़ान लगते है

जहां वाले कभी निर्मल परों को आजमाते है
बडी हैरत सी होती है जरा नादान लगते हैं1

2 Comments · 309 Views
You may also like:
कुछ पंक्तियाँ
आकांक्षा राय
कुछ नहीं इंसान को
Dr fauzia Naseem shad
समय को भी तलाश है ।
Abhishek Pandey Abhi
वरिष्ठ गीतकार स्व.शिवकुमार अर्चन को समर्पित श्रद्धांजलि नवगीत
ईश्वर दयाल गोस्वामी
घनाक्षरी छंद
शेख़ जाफ़र खान
महँगाई
आकाश महेशपुरी
✍️बदल गए है ✍️
Vaishnavi Gupta
बाबासाहेब 'अंबेडकर '
Buddha Prakash
सब अपने नसीबों का
Dr fauzia Naseem shad
बेजुबां जीव
साहित्य लेखन- एहसास और जज़्बात
याद तेरी फिर आई है
Anamika Singh
आज अपना सुधार लो
Anamika Singh
हम तुमसे जब मिल नहीं पाते
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
रुक-रुक बरस रहे मतवारे / (सावन गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
राम घोष गूंजें नभ में
शेख़ जाफ़र खान
ज़िंदगी में न ज़िंदगी देखी
Dr fauzia Naseem shad
मिसाले हुस्न का
Dr fauzia Naseem shad
भगवान हमारे पापा हैं
Lucky Rajesh
माँ की भोर / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
सपनों में खोए अपने
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
कोई मरहम
Dr fauzia Naseem shad
मुझको कबतक रोकोगे
Abhishek Pandey Abhi
अमर शहीद चंद्रशेखर "आज़ाद" (कुण्डलिया)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
गुमनाम मुहब्बत का आशिक
श्री रमण 'श्रीपद्'
यादें
kausikigupta315
हम सब एक है।
Anamika Singh
पहाड़ों की रानी शिमला
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
इश्क
Anamika Singh
छलकता है जिसका दर्द
Dr fauzia Naseem shad
आह! भूख और गरीबी
Dr fauzia Naseem shad
Loading...