Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
2 Jul 2016 · 1 min read

उनींदे से भटकते मेरे अब अरमान लगते हैं गज़ल

उनींदे से भटकते मेरे अब अरमान लगते हैं
कभी बेचैन लगते हैं कभी नादान लगते है

जहानत ही नहीं काफी ज़माना जीतना हो तो
झुके सर तो मशीखत की सदा पहचान लगते है

सभी भूले हुए जीवन के सुख दुःख याद आते है
कभी वो फूल लगते हैं कभी पैकान लगते है

नज़ारे गाँव के बीता हुया कल हो गए अब तो
वो गलियांऔर पनघट अब मुझे वीरान लगते है

छुपे बैठे हैं पलकों में न जीने चैन से देते
वो मेरे ख़्वाब ही मुझ को कहीं शैतान लगते है

कई हैं मंजिलें सोची कई हैं रास्ते अपने
वो छूने मील के पत्थर नहीं आसान लगते है

कोई कंधा मिला होता हमें सर रख के रोने को
खुशी दी जिनको’ मेरे दुख से’ वो अनजान लगते है

उफनते सागरों के दर्द कोई क्या भला जाने
जो उसके गर्भ में उठते कई तूफ़ान लगते है

जहां वाले कभी निर्मल परों को आजमाते है
बडी हैरत सी होती है जरा नादान लगते हैं1

2 Comments · 463 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
■ जारी रही दो जून की रोटी की जंग
■ जारी रही दो जून की रोटी की जंग
*Author प्रणय प्रभात*
दिल के रिश्ते
दिल के रिश्ते
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
💐प्रेम कौतुक-167💐
💐प्रेम कौतुक-167💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
लोकशैली में तेवरी
लोकशैली में तेवरी
कवि रमेशराज
वक़्त
वक़्त
विजय कुमार अग्रवाल
Job can change your vegetables.
Job can change your vegetables.
सिद्धार्थ गोरखपुरी
"कष्ट"
Dr. Kishan tandon kranti
कविता : याद
कविता : याद
Rajesh Kumar Arjun
शीर्षक:इक नज़र का सवाल है।
शीर्षक:इक नज़र का सवाल है।
Lekh Raj Chauhan
सत्य
सत्य
लक्ष्मी सिंह
चाहते नहीं अब जिंदगी को, करना दुःखी नहीं हरगिज
चाहते नहीं अब जिंदगी को, करना दुःखी नहीं हरगिज
gurudeenverma198
*इन्टरनेट का पैक (बाल कविता)*
*इन्टरनेट का पैक (बाल कविता)*
Ravi Prakash
एक अरसा हो गया गाँव गये हुए, बचपन मे कभी कभी ही जाने का मौका
एक अरसा हो गया गाँव गये हुए, बचपन मे कभी कभी ही जाने का मौका
पूर्वार्थ
Best ghazals of Shivkumar Bilagrami
Best ghazals of Shivkumar Bilagrami
Shivkumar Bilagrami
दोहा पंचक. . . नैन
दोहा पंचक. . . नैन
sushil sarna
माता की चौकी
माता की चौकी
Sidhartha Mishra
जेएनयू
जेएनयू
Shekhar Chandra Mitra
"मैं" का मैदान बहुत विस्तृत होता है , जिसमें अहम की ऊँची चार
Seema Verma
आजादी की शाम ना होने देंगे
आजादी की शाम ना होने देंगे
Ram Krishan Rastogi
ये वक्त कुछ ठहर सा गया
ये वक्त कुछ ठहर सा गया
Ray's Gupta
एक दिन की बात बड़ी
एक दिन की बात बड़ी
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
*ऐलान – ए – इश्क *
*ऐलान – ए – इश्क *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
तुम्हारा इक ख्याल ही काफ़ी है
तुम्हारा इक ख्याल ही काफ़ी है
Aarti sirsat
जो बीत गया उसके बारे में सोचा नहीं करते।
जो बीत गया उसके बारे में सोचा नहीं करते।
Slok maurya "umang"
खुद से ही बातें कर लेता हूं , तुम्हारी
खुद से ही बातें कर लेता हूं , तुम्हारी
श्याम सिंह बिष्ट
गाँव से चलकर पैदल आ जाना,
गाँव से चलकर पैदल आ जाना,
Anand Kumar
हर खुशी
हर खुशी
Dr fauzia Naseem shad
फौजी जवान
फौजी जवान
Satish Srijan
महात्मा गाँधी को राष्ट्रपिता क्यों कहा..?
महात्मा गाँधी को राष्ट्रपिता क्यों कहा..?
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
2617.पूर्णिका
2617.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
Loading...