Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
29 Mar 2017 · 1 min read

उनके नाम का जादू होठो से हाथो पे आये जाये………

उनके नाम का जादू होठो से हाथो पे आये जाये
नाम उनका सबसे छुपाऊ फिर भी दिख ही जाये
सब कहते है किसको लिखते मैं ना कुछ भी बोलू
बस जो भी करता उसको दीखता ये दुआ हो जाये।
(अवनीश कुमार)

Language: Hindi
182 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
तू सरिता मै सागर हूँ
तू सरिता मै सागर हूँ
Satya Prakash Sharma
मां की आँखों में हीरे चमकते हैं,
मां की आँखों में हीरे चमकते हैं,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
'गुमान' हिंदी ग़ज़ल
'गुमान' हिंदी ग़ज़ल
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
ग़ज़ल /
ग़ज़ल /
ईश्वर दयाल गोस्वामी
अन्तर्राष्ट्रीय नर्स दिवस
अन्तर्राष्ट्रीय नर्स दिवस
Dr. Kishan tandon kranti
😊 व्यक्तिगत मत :--
😊 व्यक्तिगत मत :--
*प्रणय प्रभात*
खाटू श्याम जी
खाटू श्याम जी
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
2729.*पूर्णिका*
2729.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
-अपनी कैसे चलातें
-अपनी कैसे चलातें
Seema gupta,Alwar
गीतांश....
गीतांश....
Yogini kajol Pathak
ये  दुनियाँ है  बाबुल का घर
ये दुनियाँ है बाबुल का घर
Sushmita Singh
पत्नी की प्रतिक्रिया
पत्नी की प्रतिक्रिया
नंदलाल सिंह 'कांतिपति'
कुलदीप बनो तुम
कुलदीप बनो तुम
Anamika Tiwari 'annpurna '
पर्यावरण और प्रकृति
पर्यावरण और प्रकृति
Dhriti Mishra
*जग में होता मान उसी का, पैसा जिसके पास है (हिंदी गजल)*
*जग में होता मान उसी का, पैसा जिसके पास है (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
माया फील गुड की [ व्यंग्य ]
माया फील गुड की [ व्यंग्य ]
कवि रमेशराज
तरक़्क़ी देखकर फुले नहीं समा रहे थे ….
तरक़्क़ी देखकर फुले नहीं समा रहे थे ….
Piyush Goel
वृद्धाश्रम में कुत्ता / by AFROZ ALAM
वृद्धाश्रम में कुत्ता / by AFROZ ALAM
Dr MusafiR BaithA
वह एक हीं फूल है
वह एक हीं फूल है
Shweta Soni
अकेला
अकेला
Vansh Agarwal
Aaj samna khud se kuch yun hua aankho m aanshu thy aaina ru-
Aaj samna khud se kuch yun hua aankho m aanshu thy aaina ru-
Sangeeta Sangeeta
ଧରା ଜଳେ ନିଦାଘରେ
ଧରା ଜଳେ ନିଦାଘରେ
Bidyadhar Mantry
हारता वो है
हारता वो है
नेताम आर सी
*वो मेरी जान, मुझे बहुत याद आती है(जेल से)*
*वो मेरी जान, मुझे बहुत याद आती है(जेल से)*
Dushyant Kumar
पेड़ लगाओ पर्यावरण बचाओ
पेड़ लगाओ पर्यावरण बचाओ
Buddha Prakash
मुहब्बत
मुहब्बत
Dr. Upasana Pandey
स्वच्छंद प्रेम
स्वच्छंद प्रेम
Dr Parveen Thakur
धर्म और सिध्दांत
धर्म और सिध्दांत
Santosh Shrivastava
अधूरी मुलाकात
अधूरी मुलाकात
Neeraj Agarwal
मंज़िलों से गुमराह भी कर देते हैं कुछ लोग.!
मंज़िलों से गुमराह भी कर देते हैं कुछ लोग.!
शेखर सिंह
Loading...