Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
18 Mar 2023 · 1 min read

💐प्रेम कौतुक-467💐

उनकी तलाश जारी रहेगी मेरी तरफ़ से,
उनसे क़रार को बे-क़रारी रहेगी मेरी तरफ़ से,
भुलाने की बात कहतें हैं,पर वो भुलाएँगे नहीं,
मेरे रूख़ की इत्तिला चाहते हैं,मेरी तरफ़ से।

©®अभिषेक: पाराशरः “आनन्द”

Language: Hindi
303 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
■ जागो या फिर भागो...!!
■ जागो या फिर भागो...!!
*Author प्रणय प्रभात*
सर्द और कोहरा भी सच कहता हैं
सर्द और कोहरा भी सच कहता हैं
Neeraj Agarwal
अवधी स्वागत गीत
अवधी स्वागत गीत
प्रीतम श्रावस्तवी
कोरोना का रोना! / MUSAFIR BAITHA
कोरोना का रोना! / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
उनको शौक़ बहुत है,अक्सर हीं ले आते हैं
उनको शौक़ बहुत है,अक्सर हीं ले आते हैं
Shweta Soni
spam
spam
DR ARUN KUMAR SHASTRI
*।।ॐ।।*
*।।ॐ।।*
Satyaveer vaishnav
यादों की शमा जलती है,
यादों की शमा जलती है,
Pushpraj Anant
गुमराह होने के लिए, हम निकल दिए ,
गुमराह होने के लिए, हम निकल दिए ,
Smriti Singh
"याद रहे"
Dr. Kishan tandon kranti
विषधर
विषधर
आनन्द मिश्र
आहिस्ता चल
आहिस्ता चल
Dr.Priya Soni Khare
ख्वाबों में मेरे इस तरह आया न करो,
ख्वाबों में मेरे इस तरह आया न करो,
Ram Krishan Rastogi
भगवान ने कहा-“हम नहीं मनुष्य के कर्म बोलेंगे“
भगवान ने कहा-“हम नहीं मनुष्य के कर्म बोलेंगे“
कवि रमेशराज
* सताना नहीं *
* सताना नहीं *
surenderpal vaidya
जीवन
जीवन
Bodhisatva kastooriya
सुप्रभात
सुप्रभात
डॉक्टर रागिनी
*जानो होता है टिकट, राजनीति का सार (कुंडलिया)*
*जानो होता है टिकट, राजनीति का सार (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
बकरी
बकरी
ganjal juganoo
मुक्तक।
मुक्तक।
Pankaj sharma Tarun
एक ऐसा दोस्त
एक ऐसा दोस्त
Vandna Thakur
ये आंखों से बहती अश्रुधरा ,
ये आंखों से बहती अश्रुधरा ,
ज्योति
उपदेशों ही मूर्खाणां प्रकोपेच न च शांतय्
उपदेशों ही मूर्खाणां प्रकोपेच न च शांतय्
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
संस्कार मनुष्य का प्रथम और अपरिहार्य सृजन है। यदि आप इसका सृ
संस्कार मनुष्य का प्रथम और अपरिहार्य सृजन है। यदि आप इसका सृ
Sanjay ' शून्य'
Rebel
Rebel
Shekhar Chandra Mitra
💐प्रेम कौतुक-441💐
💐प्रेम कौतुक-441💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
माँ सच्ची संवेदना, माँ कोमल अहसास।
माँ सच्ची संवेदना, माँ कोमल अहसास।
डॉ.सीमा अग्रवाल
तुम्हीं हो
तुम्हीं हो
हिमांशु बडोनी (दयानिधि)
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
मीठी वाणी
मीठी वाणी
Kavita Chouhan
Loading...