Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
14 Feb 2024 · 1 min read

उनकी जब ये ज़ेह्न बुराई कर बैठा

ग़ज़ल
उनकी जब ये ज़ेह्न बुराई कर बैठा
ये दिल मेरा हाथापाई कर बैठा

अच्छा बनना था अच्छाई कर बैठा
मैं रिश्तों में ख़ुद ही खाई कर बैठा

रोज़ मुझे वो बे-इज़्ज़त करता है अब
मैं उसकी इज़्ज़त-अफ़जाई कर बैठा

मुझ में लोग उतरने से कतराते हैं
क्यों ख़ुद में इतनी गहराई कर बैठा

आस्तीन में ख़ंजर रखने की लत में
मैं अपनी ही ज़ख़्मी कलाई कर बैठा

इक ही दीया रौशन था, मैं उसे बुझा कर
और ज़ियादा ही तन्हाई कर बैठा

मेरी दुनिया को करके बे-रंग ‘अनीस’
वो हरजाई दस्त-ए-हिनाई¹ कर बैठा

– – अनीस शाह ‘अनीस ‘

1. मेंहदी से सजे हाथ

Language: Hindi
1 Like · 59 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
ज़िद
ज़िद
Dr. Seema Varma
मिट न सके, अल्फ़ाज़,
मिट न सके, अल्फ़ाज़,
Mahender Singh
To be Invincible,
To be Invincible,
Dhriti Mishra
अंबेडकर की मूर्ति तोड़े जाने पर
अंबेडकर की मूर्ति तोड़े जाने पर
Shekhar Chandra Mitra
👨‍🎓मेरा खाली मटका माइंड
👨‍🎓मेरा खाली मटका माइंड
Ms.Ankit Halke jha
"I’m now where I only want to associate myself with grown p
पूर्वार्थ
सुकून की चाबी
सुकून की चाबी
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
(9) डूब आया मैं लहरों में !
(9) डूब आया मैं लहरों में !
Kishore Nigam
School ke bacho ko dusre shehar Matt bhejo
School ke bacho ko dusre shehar Matt bhejo
Tushar Jagawat
Arj Kiya Hai...
Arj Kiya Hai...
Nitesh Kumar Srivastava
एक उलझन में हूं मैं
एक उलझन में हूं मैं
हिमांशु Kulshrestha
ग़ज़ल _रखोगे कब तलक जिंदा....
ग़ज़ल _रखोगे कब तलक जिंदा....
शायर देव मेहरानियां
तेवरी
तेवरी
कवि रमेशराज
कैमिकल वाले रंगों से तो,पड़े रंग में भंग।
कैमिकल वाले रंगों से तो,पड़े रंग में भंग।
Neelam Sharma
अपने अच्छे कर्मों से अपने व्यक्तित्व को हम इतना निखार लें कि
अपने अच्छे कर्मों से अपने व्यक्तित्व को हम इतना निखार लें कि
Paras Nath Jha
◆कुटिल नीति◆
◆कुटिल नीति◆
*Author प्रणय प्रभात*
उधार  ...
उधार ...
sushil sarna
एक नायक भक्त महान 🌿🌿
एक नायक भक्त महान 🌿🌿
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
सहयोग आधारित संकलन
सहयोग आधारित संकलन
Dr. Pradeep Kumar Sharma
जहां आपका सही और सटीक मूल्यांकन न हो वहां  पर आपको उपस्थित ह
जहां आपका सही और सटीक मूल्यांकन न हो वहां पर आपको उपस्थित ह
Rj Anand Prajapati
-- तभी तक याद करते हैं --
-- तभी तक याद करते हैं --
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
ज़िंदगी थी कहां
ज़िंदगी थी कहां
Dr fauzia Naseem shad
* साथ जब बढ़ना हमें है *
* साथ जब बढ़ना हमें है *
surenderpal vaidya
" मित्रता का सम्मान “
DrLakshman Jha Parimal
जो तेरे दिल पर लिखा है एक पल में बता सकती हूं ।
जो तेरे दिल पर लिखा है एक पल में बता सकती हूं ।
Phool gufran
रिश्ता ये प्यार का
रिश्ता ये प्यार का
Mamta Rani
मुक्तक
मुक्तक
प्रीतम श्रावस्तवी
तेरी गली में बदनाम हों, हम वो आशिक नहीं
तेरी गली में बदनाम हों, हम वो आशिक नहीं
The_dk_poetry
*सूरज ने क्या पता कहॉ पर, सारी रात बिताई (हिंदी गजल)*
*सूरज ने क्या पता कहॉ पर, सारी रात बिताई (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
बस माटी के लिए
बस माटी के लिए
Pratibha Pandey
Loading...