Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
14 Jul 2016 · 1 min read

उधार नही उतरा है—

क़िताबों मे कभी करार नही उतरा है।
जुनूँ था सर पे जो सवार, नही उतरा है।

गज़ल कहकर कभी गुबार भले कम कर लो
अभी तक बनिये का उधार नही उतरा है ।

उठाते हैं वो उंगलिया कि हुये दाना सब,
कसौटी पे बस सुनार नही उतरा है।

उसे निसबत है भूख पेट निवालो से बस,
यहा पर इश्क़ का बुखार नही उतरा है ।

सडक पे शहर की वो नाच लिये क्या दो दिन
बडे कक्का का तो ख़ुमार नही उतरा है ।
—-सुदेश कुमार मेहर

2 Comments · 514 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
साहित्यकार ओमप्रकाश वाल्मीकि का परिचय।
साहित्यकार ओमप्रकाश वाल्मीकि का परिचय।
Dr. Narendra Valmiki
चाँदनी रातों में बसी है ख़्वाबों का हसीं समां,
चाँदनी रातों में बसी है ख़्वाबों का हसीं समां,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
#justareminderdrarunkumarshastri
#justareminderdrarunkumarshastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
बेमेल रिश्ता
बेमेल रिश्ता
Dr. Kishan tandon kranti
अगर मेघों से धरती की, मुलाकातें नहीं होतीं (मुक्तक)
अगर मेघों से धरती की, मुलाकातें नहीं होतीं (मुक्तक)
Ravi Prakash
विश्राम   ...
विश्राम ...
sushil sarna
जिसने अस्मत बेचकर किस्मत बनाई हो,
जिसने अस्मत बेचकर किस्मत बनाई हो,
Sanjay ' शून्य'
🇮🇳मेरा देश भारत🇮🇳
🇮🇳मेरा देश भारत🇮🇳
Dr. Vaishali Verma
तन माटी का
तन माटी का
Neeraj Agarwal
*.....मै भी उड़ना चाहती.....*
*.....मै भी उड़ना चाहती.....*
Naushaba Suriya
मुश्किल है अपना मेल प्रिय।
मुश्किल है अपना मेल प्रिय।
Kumar Kalhans
कड़वी  बोली बोल के
कड़वी बोली बोल के
Paras Nath Jha
*Keep Going*
*Keep Going*
Poonam Matia
प्रथम गुरु
प्रथम गुरु
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
पूजा
पूजा
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
दुनिया बदल गयी ये नज़ारा बदल गया ।
दुनिया बदल गयी ये नज़ारा बदल गया ।
Phool gufran
#शेर-
#शेर-
*प्रणय प्रभात*
पनघट
पनघट
krishna waghmare , कवि,लेखक,पेंटर
नारी के मन की पुकार
नारी के मन की पुकार
Anamika Tiwari 'annpurna '
दिल पर साजे बस हिन्दी भाषा
दिल पर साजे बस हिन्दी भाषा
Sandeep Pande
कुछ नमी अपने साथ लाता है
कुछ नमी अपने साथ लाता है
Dr fauzia Naseem shad
मास्टर जी: एक अनकही प्रेमकथा (प्रतिनिधि कहानी)
मास्टर जी: एक अनकही प्रेमकथा (प्रतिनिधि कहानी)
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
हम हो जायेंगें दूर तूझसे,
हम हो जायेंगें दूर तूझसे,
$úDhÁ MãÚ₹Yá
शहीद की अंतिम यात्रा
शहीद की अंतिम यात्रा
Nishant Kumar Mishra
2756. *पूर्णिका*
2756. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
बचपन कितना सुंदर था।
बचपन कितना सुंदर था।
Surya Barman
फूल अब खिलते नहीं , खुशबू का हमको पता नहीं
फूल अब खिलते नहीं , खुशबू का हमको पता नहीं
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
आप देखो जो मुझे सीने  लगाओ  तभी
आप देखो जो मुझे सीने लगाओ तभी
दीपक झा रुद्रा
थोड़ी मोहब्बत तो उसे भी रही होगी हमसे
थोड़ी मोहब्बत तो उसे भी रही होगी हमसे
शेखर सिंह
"You are still here, despite it all. You are still fighting
पूर्वार्थ
Loading...