Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
19 Sep 2022 · 1 min read

उदासीनता

इतनी अकर्मण्यता और उदासीनता,
जीवन में आजकल क्यों हो रही है ?
हर घड़ी ,हर पल इतनी जायदा नीरस,
और जान पर बोझिल क्यों हो रही है ?
सारा जोश ,सारा उत्साह कहां गया ,
यह जिजीविषा क्यों कम हो रही है ?
मौत से पहले तो कौन मरना चाहेगा,
मगर वोह मौत की घड़ियां गिन रही है ।
तकदीर से हारी और विधि की मारी हुई ,
कोई अपने खुदा को पुकार रही है ।
उसकी आजकल और कोई चाह नहीं रही ,
बस एक मुक्ति की अभिलाषा हो रही है ।
शायद इसीलिए उसकी हर घड़ी ,
गहन उदासीनता में गुजर रही है ।

Language: Hindi
5 Likes · 7 Comments · 271 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from ओनिका सेतिया 'अनु '
View all
You may also like:
“STORY MIRROR AUTHOR OF THE YEAR 2022”
“STORY MIRROR AUTHOR OF THE YEAR 2022”
DrLakshman Jha Parimal
मुझे अंदाज़ है
मुझे अंदाज़ है
हिमांशु Kulshrestha
सैनिक
सैनिक
Mamta Rani
सियासी खबरों से बचने
सियासी खबरों से बचने
*Author प्रणय प्रभात*
एक नयी रीत
एक नयी रीत
Harish Chandra Pande
सत्य की खोज
सत्य की खोज
Neeraj Agarwal
Dr Arun Kumar shastri
Dr Arun Kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
*वर्ष दो हजार इक्कीस (छोटी कहानी))*
*वर्ष दो हजार इक्कीस (छोटी कहानी))*
Ravi Prakash
उसकी बाहो में ये हसीन रात आखिरी होगी
उसकी बाहो में ये हसीन रात आखिरी होगी
Ravi singh bharati
নির্মল নিশ্চল হৃদয় পল্লবিত আত্মজ্ঞান হোক
নির্মল নিশ্চল হৃদয় পল্লবিত আত্মজ্ঞান হোক
Sakhawat Jisan
शे'र
शे'र
Anis Shah
*एक चूहा*
*एक चूहा*
Ghanshyam Poddar
मैं अचानक चुप हो जाती हूँ
मैं अचानक चुप हो जाती हूँ
ruby kumari
रमेशराज के दो लोकगीत –
रमेशराज के दो लोकगीत –
कवि रमेशराज
बेरोजगार
बेरोजगार
Harminder Kaur
वो कड़वी हक़ीक़त
वो कड़वी हक़ीक़त
पूर्वार्थ
अपनी स्टाईल में वो,
अपनी स्टाईल में वो,
Dr. Man Mohan Krishna
AGRICULTURE COACHING CHANDIGARH
AGRICULTURE COACHING CHANDIGARH
★ IPS KAMAL THAKUR ★
कई बात अभी बाकी है
कई बात अभी बाकी है
Aman Sinha
फारवर्डेड लव मैसेज
फारवर्डेड लव मैसेज
Dr. Pradeep Kumar Sharma
फ्राॅड की कमाई
फ्राॅड की कमाई
Punam Pande
🌺🌺🌺🌺🌺🌺🌺🌺🌺🌺🌺🌺🌺🌺
🌺🌺🌺🌺🌺🌺🌺🌺🌺🌺🌺🌺🌺🌺
subhash Rahat Barelvi
शर्द एहसासों को एक सहारा मिल गया
शर्द एहसासों को एक सहारा मिल गया
ठाकुर प्रतापसिंह "राणाजी"
23/34.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/34.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
महाशिवरात्रि
महाशिवरात्रि
Ram Babu Mandal
दाम रिश्तों के
दाम रिश्तों के
Dr fauzia Naseem shad
I love you
I love you
Otteri Selvakumar
अकाल काल नहीं करेगा भक्षण!
अकाल काल नहीं करेगा भक्षण!
Neelam Sharma
कविता
कविता
Shiva Awasthi
"शर्म मुझे आती है खुद पर, आखिर हम क्यों मजदूर हुए"
Anand Kumar
Loading...