Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
13 Apr 2022 · 1 min read

उत्साह एक प्रेरक है

उत्साहित होना जीवन में,
अत्यंत महत्वपूर्ण होता है,
बिन उत्साह के जीवन जीना,
नीरस-सा जग ही दिखता है ।….(१)

रौनक मन की कुंठित होती ,
तन भी बोझिल लगता है ,
उड़ जाती है चेहरे की खुशियांँ,
सुख भी फीका-सा लगता है ।…(२)

उत्साह बिना जग के रंग व्यंग हैं ,
पुष्प गुलाब की सुगंध व्यर्थ है ,
उत्साह बिन इस बड़े संसार में ,
अरुचि भाव-सा ही जगता है ।..(३)

मन में जगाओ उत्साह जीने का ,
उत्साह जीवन का अद्भुत मंत्र है ,
पथ प्रदर्शित करता है जो जग में ,
उत्साह ही उसका प्रेरक है ।..(४)

मन को करता प्रसन्न अत्यंत,
ऊर्जा भर देता एक नई उमंग,
जज्बा पाने का कर दिखाने का,
उत्साह ही होता है आदि से अंत ।..(५)

🙏
बुद्ध प्रकाश,
मौदहा हमीरपुर

3 Likes · 351 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Buddha Prakash
View all
You may also like:
वक्त गुजर जायेगा
वक्त गुजर जायेगा
Sonu sugandh
.... कुछ....
.... कुछ....
Naushaba Suriya
कब तक बरसेंगी लाठियां
कब तक बरसेंगी लाठियां
Shekhar Chandra Mitra
चन्द्रमाँ
चन्द्रमाँ
Sarfaraz Ahmed Aasee
🇭🇺 श्रीयुत अटल बिहारी जी
🇭🇺 श्रीयुत अटल बिहारी जी
Pt. Brajesh Kumar Nayak
"दर्पण बोलता है"
Ekta chitrangini
CUPID-STRUCK !
CUPID-STRUCK !
Ahtesham Ahmad
मैं अपने दिल की रानी हूँ
मैं अपने दिल की रानी हूँ
Dr Archana Gupta
फटा जूता
फटा जूता
Akib Javed
15🌸बस तू 🌸
15🌸बस तू 🌸
Mahima shukla
कविता
कविता
Alka Gupta
बंदूक से अत्यंत ज़्यादा विचार घातक होते हैं,
बंदूक से अत्यंत ज़्यादा विचार घातक होते हैं,
शेखर सिंह
जब भी अपनी दांत दिखाते
जब भी अपनी दांत दिखाते
AJAY AMITABH SUMAN
आपन गांव
आपन गांव
अनिल "आदर्श"
ज़िंदगी जीना
ज़िंदगी जीना
Dr fauzia Naseem shad
*मदमस्त है मौसम हवा में, फागुनी उत्कर्ष है (मुक्तक)*
*मदमस्त है मौसम हवा में, फागुनी उत्कर्ष है (मुक्तक)*
Ravi Prakash
हमारे पास हार मानने के सभी कारण थे, लेकिन फिर भी हमने एक-दूस
हमारे पास हार मानने के सभी कारण थे, लेकिन फिर भी हमने एक-दूस
पूर्वार्थ
भगवन नाम
भगवन नाम
लक्ष्मी सिंह
गम की मुहर
गम की मुहर
हरवंश हृदय
विछोह के पल
विछोह के पल
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
औरत की नजर
औरत की नजर
Annu Gurjar
#सत्यकथा
#सत्यकथा
*Author प्रणय प्रभात*
भीम के दीवाने हम,यह करके बतायेंगे
भीम के दीवाने हम,यह करके बतायेंगे
gurudeenverma198
"लिख दो"
Dr. Kishan tandon kranti
जाने इतनी बेहयाई तुममें कहां से आई है ,
जाने इतनी बेहयाई तुममें कहां से आई है ,
ओनिका सेतिया 'अनु '
3161.*पूर्णिका*
3161.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
💐प्रेम कौतुक-530💐
💐प्रेम कौतुक-530💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
हमें सलीका न आया।
हमें सलीका न आया।
Taj Mohammad
बितियाँ बात सुण लेना
बितियाँ बात सुण लेना
Anil chobisa
मै अपवाद कवि अभी जीवित हूं
मै अपवाद कवि अभी जीवित हूं
प्रेमदास वसु सुरेखा
Loading...