Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
28 Oct 2016 · 1 min read

उतर जाते हो

जब कलम बन कागज पर उतर जाते हो
प्रणय का एक पैगाम मुझे दे रहे होते हो ।
होठ कहते कहते अनायास रूक जाते है
मुस्कराता चेहरा भेद सब खोल जाता है।

Language: Hindi
70 Likes · 327 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from DR.MDHU TRIVEDI
View all
You may also like:
मन से उतरे लोग दाग धब्बों की तरह होते हैं
मन से उतरे लोग दाग धब्बों की तरह होते हैं
ruby kumari
Don't let people who have given up on your dreams lead you a
Don't let people who have given up on your dreams lead you a
पूर्वार्थ
"चापलूसी"
Dr. Kishan tandon kranti
بدل گیا انسان
بدل گیا انسان
Ahtesham Ahmad
अजीब बात है
अजीब बात है
umesh mehra
क्यों इतना मुश्किल है
क्यों इतना मुश्किल है
Surinder blackpen
भूला प्यार
भूला प्यार
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
इल्तिजा
इल्तिजा
Bodhisatva kastooriya
*प्रेमचंद (पॉंच दोहे)*
*प्रेमचंद (पॉंच दोहे)*
Ravi Prakash
आसमान में छाए बादल, हुई दिवस में रात।
आसमान में छाए बादल, हुई दिवस में रात।
डॉ.सीमा अग्रवाल
Biography Sauhard Shiromani Sant Shri Dr Saurabh
Biography Sauhard Shiromani Sant Shri Dr Saurabh
World News
💐💐बेबी मेरा टेस्ट ले रही💐💐
💐💐बेबी मेरा टेस्ट ले रही💐💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
2990.*पूर्णिका*
2990.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
"बचपन"
Tanveer Chouhan
*अपना अंतस*
*अपना अंतस*
Rambali Mishra
रण
रण
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
प्रेम
प्रेम
Sanjay ' शून्य'
आपसी बैर मिटा रहे हैं क्या ?
आपसी बैर मिटा रहे हैं क्या ?
Buddha Prakash
सिपाहियों के दस्ता कर रहें गस्त हैं,
सिपाहियों के दस्ता कर रहें गस्त हैं,
Satish Srijan
ख़ामुश हुई ख़्वाहिशें - नज़्म
ख़ामुश हुई ख़्वाहिशें - नज़्म
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
इंसान से हिंदू मैं हुआ,
इंसान से हिंदू मैं हुआ,
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
राम की रहमत
राम की रहमत
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
ॐ
Prakash Chandra
शुभ प्रभात मित्रो !
शुभ प्रभात मित्रो !
Mahesh Jain 'Jyoti'
मेहनत
मेहनत
Anoop Kumar Mayank
वह एक वस्तु,
वह एक वस्तु,
Shweta Soni
निःशक्त, गरीब और यतीम को
निःशक्त, गरीब और यतीम को
gurudeenverma198
■ नज़्म-ए-मुख्तसर
■ नज़्म-ए-मुख्तसर
*Author प्रणय प्रभात*
शायरी
शायरी
goutam shaw
मधुर-मधुर मेरे दीपक जल
मधुर-मधुर मेरे दीपक जल
Pratibha Pandey
Loading...