Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
28 Oct 2016 · 1 min read

उतर जाते हो

जब कलम बन कागज पर उतर जाते हो
प्रणय का एक पैगाम मुझे दे रहे होते हो ।
होठ कहते कहते अनायास रूक जाते है
मुस्कराता चेहरा भेद सब खोल जाता है।

Language: Hindi
Tag: कविता
70 Likes · 261 Views
You may also like:
वन्दना
पं.आशीष अविरल चतुर्वेदी
चलो जिन्दगी को।
Taj Mohammad
मन को मत हारने दो
जगदीश लववंशी
बाल कहानी- रोहित
SHAMA PARVEEN
कहाँवा से तु अइलू तुलसी
Gouri tiwari
✍️पवित्र गीता✍️
'अशांत' शेखर
स्वर्गीय सावन कुमार को समर्पित
RAFI ARUN GAUTAM
Father's Compassion
Buddha Prakash
बहाना
Vikas Sharma'Shivaaya'
उसे चाहना
Nitu Sah
बुद्ध पूर्णिमा पर तीन मुक्तक।
Anamika Singh
राम घोष गूंजें नभ में
शेख़ जाफ़र खान
तेरा साथ मुझको गवारा नहीं है।
सत्य कुमार प्रेमी
करुणा के बादल...
डॉ.सीमा अग्रवाल
*सावन की जय हो (गीत)*
Ravi Prakash
स्पंदित अरदास!
Rashmi Sanjay
कलाकार की कला
Skanda Joshi
यत्र नार्यस्तु पूज्यन्ते
Prakash Chandra
ఇదే నా తెలంగాణ!
विजय कुमार 'विजय'
गुजरात माडल ध्वस्त
Shekhar Chandra Mitra
🚩माँ, हर बचपन का भगवान
Pt. Brajesh Kumar Nayak
पापा जी
सत्येन्द्र पटेल ‘प्रखर’
हिंदी व डोगरी की चहेती लेखिका पद्मा सचदेव का निधन
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
उसकी मासूमियत
VINOD KUMAR CHAUHAN
डूब जाता हूँ
Varun Singh Gautam
शिखर छुऊंगा एक दिन
AMRESH KUMAR VERMA
जिस्म खूबसूरत नहीं होता
गायक और लेखक अजीत कुमार तलवार
शीर्षक: "मैं तेरे शहर आ भी जाऊं तो"
MSW Sunil SainiCENA
कभी बेबसी को समझो
Dr fauzia Naseem shad
लांगुरिया
Subhash Singhai
Loading...