Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
30 Jan 2024 · 1 min read

उठ जाग मेरे मानस

उठ जाग मेरे मानस, बेहोश सो रहा है
अनमोल है ये नर तन, क्यों व्यर्थ खो रहा है ।उठ……
मानस जनम सुधारो, सत्कर्म मन में धारो
अब तो जरा विचारों, यह रोज खो रहा है ।उठ……..
भगवान ने धरा तन, संसार को सिखाने
कभी राम के बहाने, कभी कृष्ण के बहाने
जीवन में ये उतारो, ये व्यर्थ हो रहा है ।उठ……
मौत है बहाना, एक दिन सभी को जाना
आंखों से तुम निहारो,मन में जरा विचारों
पल पल ये जिंदगी का,सोने में खो रहा है ।उठ…..

सुरेश कुमार चतुर्वेदी

Language: Hindi
Tag: गीत
98 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from सुरेश कुमार चतुर्वेदी
View all
You may also like:
बेवफ़ाई
बेवफ़ाई
Dipak Kumar "Girja"
कविता : चंद्रिका
कविता : चंद्रिका
Sushila joshi
वृद्धाश्रम में कुत्ता / by AFROZ ALAM
वृद्धाश्रम में कुत्ता / by AFROZ ALAM
Dr MusafiR BaithA
रिश्तों से अब स्वार्थ की गंध आने लगी है
रिश्तों से अब स्वार्थ की गंध आने लगी है
Bhupendra Rawat
यूं हाथ खाली थे मेरे, शहर में तेरे आते जाते,
यूं हाथ खाली थे मेरे, शहर में तेरे आते जाते,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
आन-बान-शान हमारी हिंदी भाषा
आन-बान-शान हमारी हिंदी भाषा
Raju Gajbhiye
अभी तो वो खफ़ा है लेकिन
अभी तो वो खफ़ा है लेकिन
gurudeenverma198
मशीनों ने इंसान को जन्म दिया है
मशीनों ने इंसान को जन्म दिया है
Bindesh kumar jha
कविता: जर्जर विद्यालय भवन की पीड़ा
कविता: जर्जर विद्यालय भवन की पीड़ा
Rajesh Kumar Arjun
🥀 *अज्ञानी की कलम*🥀
🥀 *अज्ञानी की कलम*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
लालची नेता बंटता समाज
लालची नेता बंटता समाज
विजय कुमार अग्रवाल
बदलाव जरूरी है
बदलाव जरूरी है
Surinder blackpen
लम्हा भर है जिंदगी
लम्हा भर है जिंदगी
Dr. Sunita Singh
तख्तापलट
तख्तापलट
Shekhar Chandra Mitra
श्री गणेश वंदना:
श्री गणेश वंदना:
जगदीश शर्मा सहज
सूरज
सूरज
PRATIBHA ARYA (प्रतिभा आर्य )
2538.पूर्णिका
2538.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
जिंदगी मौत तक जाने का एक कांटो भरा सफ़र है
जिंदगी मौत तक जाने का एक कांटो भरा सफ़र है
Rekha khichi
डॉ अरूण कुमार शास्त्री
डॉ अरूण कुमार शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
यूँ ही क्यूँ - बस तुम याद आ गयी
यूँ ही क्यूँ - बस तुम याद आ गयी
Atul "Krishn"
रूठकर के खुदसे
रूठकर के खुदसे
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
प्रेमिका को उपालंभ
प्रेमिका को उपालंभ
Praveen Bhardwaj
अभिव्यक्ति का दुरुपयोग एक बहुत ही गंभीर और चिंता का विषय है। भाग - 06 Desert Fellow Rakesh Yadav
अभिव्यक्ति का दुरुपयोग एक बहुत ही गंभीर और चिंता का विषय है। भाग - 06 Desert Fellow Rakesh Yadav
Desert fellow Rakesh
🚩जाग्रत हिंदुस्तान चाहिए
🚩जाग्रत हिंदुस्तान चाहिए
Pt. Brajesh Kumar Nayak
प्रकृति हर पल आपको एक नई सीख दे रही है और आपकी कमियों और खूब
प्रकृति हर पल आपको एक नई सीख दे रही है और आपकी कमियों और खूब
Rj Anand Prajapati
कू कू करती कोयल
कू कू करती कोयल
Mohan Pandey
वक्त गुजर जायेगा
वक्त गुजर जायेगा
Sonu sugandh
"शहीद वीर नारायण सिंह"
Dr. Kishan tandon kranti
“It is not for nothing that our age cries out for the redeem
“It is not for nothing that our age cries out for the redeem
पूर्वार्थ
सीख
सीख
Sanjay ' शून्य'
Loading...