Sep 1, 2016 · 1 min read

उठो चलो ऐ युवा पीढी ….

उठो चलो ऐ युवा पीढी
अब समय तुम्हारा है,
जाग्रत कर जन जन को
स्वच्छ भारत बनाना है!
स्वच्छ भारत बोले तो
दिमागी फितूर , अपराधिक प्रवत्ति
दूर भगाना है!!
समाज में फैली अश्लीलता
के खिलाफ ,
आवाज उठाना है!
अपनी सभ्यता
संस्कृति को बचाना है!!
दोगली मानसिकता
हिन्दू मुस्लिम,
सब एक हैं बताना है!!
रेप जैसे कृत्य अब न होयेंगें
कुछ ऐसी नीति बनाना है,
नारी का सम्मान करें हम
स्वच्छ भारत बनाना है!!
तुम बुरे! की तुम बुरे!
तोहमत अब न किसी
पर लगाना है!!
स्वच्छ भारत बनाना है
उठो चलो …………..

1 Comment · 171 Views
You may also like:
हम पे सितम था।
Taj Mohammad
The Sacrifice of Ravana
Abhineet Mittal
तुम ख़्वाबों की बात करते हो।
Taj Mohammad
।। मेरे तात ।।
Akash Yadav
फिर कभी तुम्हें मैं चाहकर देखूंगा.............
Nasib Sabharwal
पिता क्या है?
Varsha Chaurasiya
ये दिल मेरा था, अब उनका हो गया
Ram Krishan Rastogi
ये ख्वाब न होते तो क्या होता?
सिद्धार्थ गोरखपुरी
जय जगजननी ! मातु भवानी(भगवती गीत)
मनोज कर्ण
पवनपुत्र, हे ! अंजनि नंदन ....
ईश्वर दयाल गोस्वामी
हे राम! तुम लौट आओ ना,,!
ओनिका सेतिया 'अनु '
सुभाष चंद्र बोस
Anamika Singh
दो बिल्लियों की लड़ाई (हास्य कविता)
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
कहां चला अरे उड़ कर पंछी
VINOD KUMAR CHAUHAN
सम्भव कैसे मेल सखी...?
पंकज परिंदा
पिता बना हूं।
Taj Mohammad
परेशां हूं बहुत।
Taj Mohammad
पिता
pradeep nagarwal
कभी सोचा ना था मैंने मोहब्बत में ये मंजर भी...
Krishan Singh
¡~¡ कोयल, बुलबुल और पपीहा ¡~¡
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
कन्यादान क्यों और किसलिए [भाग८]
Anamika Singh
भारत को क्या हो चला है
Mr Ismail Khan
वतन से यारी....
Dr. Alpa H.
ग़ज़ल
Mahendra Narayan
नेकी कर इंटरनेट पर डाल
हरीश सुवासिया
💐प्रेम की राह पर-33💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
सद् गणतंत्र सु दिवस मनाएं
Pt. Brajesh Kumar Nayak
जंगल में एक बंदर आया
VINOD KUMAR CHAUHAN
ईद की दिली मुबारक बाद
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
खोलो मन की सारी गांठे
Saraswati Bajpai
Loading...