Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
1 Sep 2016 · 1 min read

उठो चलो ऐ युवा पीढी ….

उठो चलो ऐ युवा पीढी
अब समय तुम्हारा है,
जाग्रत कर जन जन को
स्वच्छ भारत बनाना है!
स्वच्छ भारत बोले तो
दिमागी फितूर , अपराधिक प्रवत्ति
दूर भगाना है!!
समाज में फैली अश्लीलता
के खिलाफ ,
आवाज उठाना है!
अपनी सभ्यता
संस्कृति को बचाना है!!
दोगली मानसिकता
हिन्दू मुस्लिम,
सब एक हैं बताना है!!
रेप जैसे कृत्य अब न होयेंगें
कुछ ऐसी नीति बनाना है,
नारी का सम्मान करें हम
स्वच्छ भारत बनाना है!!
तुम बुरे! की तुम बुरे!
तोहमत अब न किसी
पर लगाना है!!
स्वच्छ भारत बनाना है
उठो चलो …………..

Language: Hindi
1 Comment · 309 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
✍️रूह के एहसास...
✍️रूह के एहसास...
'अशांत' शेखर
प्रार्थना(कविता)
प्रार्थना(कविता)
श्रीहर्ष आचार्य
चोरबत्ति (मैथिली हायकू)
चोरबत्ति (मैथिली हायकू)
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
"धन वालों मान यहाँ"
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
हो तेरी ज़िद
हो तेरी ज़िद
Dr fauzia Naseem shad
दर्द जो आंखों से दिखने लगा है
दर्द जो आंखों से दिखने लगा है
Surinder blackpen
क्या रह गया है अब शेष जो
क्या रह गया है अब शेष जो
gurudeenverma198
पिता कुछ भी कर जाता है।
पिता कुछ भी कर जाता है।
Taj Mohammad
हर बला से दूर रखता,
हर बला से दूर रखता,
Satish Srijan
बच्चों के लिए
बच्चों के लिए
shabina. Naaz
सड़क दुर्घटना में अभिनेता दीप सिद्धू का निधन कई सवाल, अनुत्तरित !
सड़क दुर्घटना में अभिनेता दीप सिद्धू का निधन कई सवाल, अनुत्तरित !
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
लग जाए वो
लग जाए वो "दवा"
*Author प्रणय प्रभात*
#शुभरात्रि
#शुभरात्रि
आर.एस. 'प्रीतम'
चाहे जितना तू कर निहां मुझको
चाहे जितना तू कर निहां मुझको
Anis Shah
न  सूरत, न  शोहरत, न  नाम  आता  है
न सूरत, न शोहरत, न नाम आता है
Anil Mishra Prahari
संस्कार जगाएँ
संस्कार जगाएँ
Anamika Singh
💐प्रेम कौतुक-220💐
💐प्रेम कौतुक-220💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
*बिन बुलाए आ जाता है सवाल नहीं करता.!!*
*बिन बुलाए आ जाता है सवाल नहीं करता.!!*
AVINASH (Avi...) MEHRA
तब मानोगे
तब मानोगे
विजय कुमार नामदेव
*संस्मरण* #13जुलाई1983
*संस्मरण* #13जुलाई1983
Ravi Prakash
प्राकृतिक आजादी और कानून
प्राकृतिक आजादी और कानून
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
बंटते हिन्दू बंटता देश
बंटते हिन्दू बंटता देश
विजय कुमार अग्रवाल
निर्जन पथ का राही
निर्जन पथ का राही
नवीन जोशी 'नवल'
जिन्दगी के रंग
जिन्दगी के रंग
Santosh Shrivastava
मौसम  सुंदर   पावन  है, इस सावन का अब क्या कहना।
मौसम सुंदर पावन है, इस सावन का अब क्या कहना।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
देश के नौजवान
देश के नौजवान
Shekhar Chandra Mitra
"शतरंज के मोहरे"
Dr. Kishan tandon kranti
एकलव्य
एकलव्य
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
2326.पूर्णिका
2326.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
लघुकथा- 'रेल का डिब्बा'
लघुकथा- 'रेल का डिब्बा'
जगदीश शर्मा सहज
Loading...