Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
22 Apr 2023 · 1 min read

ईद की दिली मुबारक बाद

ईद की दिली मुबारक बाद

दिली मुबारकबाद ईद की, रोजे और रमजान की
खुदा करे खुशियां मिल जाएं, तुमको सकल जहांन की
ये मालिक दोनों जहां के, कुबूल कर जायज दुआ
दुनिया में दहशत का मिटा दे, या नबी नामोनिशां
चांद से रोशन रहें, रोशनी दुनिया में फैलाएं
आप फूल से खिलें, जहां खुशबू से महकाएं
दिली मुरादें पूरी हों, खुशियां हर इंसान की
आओ मिलकर करें दुआ, दुनिया के इंसान की
दिली मुबारकबाद ईद की, रोजे और रमजान की

सुरेश कुमार चतुर्वेदी

572 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from सुरेश कुमार चतुर्वेदी
View all
You may also like:
हृदय में धड़कन सा बस जाये मित्र वही है
हृदय में धड़कन सा बस जाये मित्र वही है
इंजी. संजय श्रीवास्तव
सफलता
सफलता
Raju Gajbhiye
दौर ऐसा हैं
दौर ऐसा हैं
SHAMA PARVEEN
सुविचार
सुविचार
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
अजनबी !!!
अजनबी !!!
Shaily
हम कैसे कहें कुछ तुमसे सनम ..
हम कैसे कहें कुछ तुमसे सनम ..
Sunil Suman
मां तुम्हें सरहद की वो बाते बताने आ गया हूं।।
मां तुम्हें सरहद की वो बाते बताने आ गया हूं।।
Ravi Yadav
*न जाने रोग है कोई, या है तेरी मेहरबानी【मुक्तक】*
*न जाने रोग है कोई, या है तेरी मेहरबानी【मुक्तक】*
Ravi Prakash
Tlash
Tlash
Swami Ganganiya
* खूबसूरत इस धरा को *
* खूबसूरत इस धरा को *
surenderpal vaidya
यूँ ही क्यूँ - बस तुम याद आ गयी
यूँ ही क्यूँ - बस तुम याद आ गयी
Atul "Krishn"
बधाई का गणित / मुसाफ़िर बैठा
बधाई का गणित / मुसाफ़िर बैठा
Dr MusafiR BaithA
मीनाबाजार
मीनाबाजार
Suraj Mehra
#कालचक्र
#कालचक्र
*प्रणय प्रभात*
नेता सोये चैन से,
नेता सोये चैन से,
sushil sarna
माँ काली
माँ काली
Sidhartha Mishra
मुजरिम करार जब कोई क़ातिल...
मुजरिम करार जब कोई क़ातिल...
अश्क चिरैयाकोटी
ज्ञान तो बहुत लिखा है किताबों में
ज्ञान तो बहुत लिखा है किताबों में
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
23/192. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/192. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
जूते व जूती की महिमा (हास्य व्यंग)
जूते व जूती की महिमा (हास्य व्यंग)
Ram Krishan Rastogi
रिश्ता
रिश्ता
Dr fauzia Naseem shad
"सुबह की किरणें "
Yogendra Chaturwedi
"किसान"
Slok maurya "umang"
विपरीत परिस्थिति को चुनौती मान कर
विपरीत परिस्थिति को चुनौती मान कर
Paras Nath Jha
भले दिनों की बात
भले दिनों की बात
Sahil Ahmad
मैं कौन हूँ
मैं कौन हूँ
Sukoon
एक पीर उठी थी मन में, फिर भी मैं चीख ना पाया ।
एक पीर उठी थी मन में, फिर भी मैं चीख ना पाया ।
आचार्य वृन्दान्त
दोहे : प्रभात वंदना हेतु
दोहे : प्रभात वंदना हेतु
आर.एस. 'प्रीतम'
मुझसे गलतियां हों तो अपना समझकर बता देना
मुझसे गलतियां हों तो अपना समझकर बता देना
Sonam Puneet Dubey
चांद पर भारत । शीर्ष शिखर पर वैज्ञानिक, गौरवान्वित हर सीना ।
चांद पर भारत । शीर्ष शिखर पर वैज्ञानिक, गौरवान्वित हर सीना ।
Roshani jaiswal
Loading...