Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
19 Apr 2023 · 1 min read

ईद आ गई है

शीर्षक – ” ईद आ गई है ”

लो फिर से ईद आ गई है ।
खुशियाँ दिल में छा गई है ।।

रमज़ान की इबादत का तोहफ़ा मिला है ।
किसी से नहीं शिकवा न कोई गिला है ।।
मोहब्बतों के शीर से दस्तरख्वान सजाना है ।
भूलाकर रंजिशें सारी गले सबको लगाना है ।।

महक सेवईयों की भा गई है ।
लो फिर से ईद आ गई है ।।

हमारे जिस्म -हमारी रूह को पाक कर दिया है ।
रोज़े की फज़ीलत ने हर बुराई को ख़ाक कर दिया है ।।
ईद के चांद ने रोशन किया है खुशनसीबी का रास्ता ।
नहीं लौटेंगे अब गुनाहों की और सबको ख़ुदा का वास्ता ।।

राह ईमान की दिखा गई है ।
लो फिर से ईद आ गई है ।।

आज ईदी मुहब्बत की बांटना है हमको ।
गमों से खुशियां अब छांटना है हमको ।।
नब्ज़ पर अपनी इख्तियार कर लिया था ।
दामन को अपनी नेकियों से भर लिया था ।।

ज़र्रे ज़र्रे में रौनक छा गई है ।
लो फिर से ईद आ गई है ।।
खुशियां दिल में छा गई है ।।

© डॉ वासिफ क़ाज़ी इंदौर
© काज़ी की कलम

28/3/2 , अहिल्या पल्टन , इक़बाल कॉलोनी
इंदौर, मध्यप्रदेश

Language: Hindi
Tag: Nazm
1 Like · 296 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
*देखने लायक नैनीताल (गीत)*
*देखने लायक नैनीताल (गीत)*
Ravi Prakash
वतन में रहने वाले ही वतन को बेचा करते
वतन में रहने वाले ही वतन को बेचा करते
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
अपनी सीमाओं को लांगा
अपनी सीमाओं को लांगा
कवि दीपक बवेजा
आदमी सा आदमी_ ये आदमी नही
आदमी सा आदमी_ ये आदमी नही
कृष्णकांत गुर्जर
होली
होली
सूरज राम आदित्य (Suraj Ram Aditya)
तुम लौट आओ ना
तुम लौट आओ ना
Anju ( Ojhal )
" ज़ख़्मीं पंख‌ "
Chunnu Lal Gupta
पापा
पापा
Kanchan Khanna
एक प्रयास अपने लिए भी
एक प्रयास अपने लिए भी
Dr fauzia Naseem shad
#मुक्तक-
#मुक्तक-
*Author प्रणय प्रभात*
मेरी माटी मेरा देश भाव
मेरी माटी मेरा देश भाव
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
आप और हम जीवन के सच
आप और हम जीवन के सच
Neeraj Agarwal
बोये बीज बबूल आम कहाँ से होय🙏
बोये बीज बबूल आम कहाँ से होय🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
या देवी सर्वभूतेषु विद्यारुपेण संस्थिता
या देवी सर्वभूतेषु विद्यारुपेण संस्थिता
Sandeep Kumar
विषय मेरा आदर्श शिक्षक
विषय मेरा आदर्श शिक्षक
कार्तिक नितिन शर्मा
विषय :- काव्य के शब्द चुनाव पर |
विषय :- काव्य के शब्द चुनाव पर |
Sûrëkhâ Rãthí
आईने से बस ये ही बात करता हूँ,
आईने से बस ये ही बात करता हूँ,
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
ब्याह  रचाने चल दिये, शिव जी ले बारात
ब्याह रचाने चल दिये, शिव जी ले बारात
Dr Archana Gupta
3096.*पूर्णिका*
3096.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
परेशानियों का सामना
परेशानियों का सामना
Paras Nath Jha
गौतम बुद्ध है बड़े महान
गौतम बुद्ध है बड़े महान
Buddha Prakash
"धोखा"
Dr. Kishan tandon kranti
करके ये वादे मुकर जायेंगे
करके ये वादे मुकर जायेंगे
Gouri tiwari
अब ये ना पूछना कि,
अब ये ना पूछना कि,
शेखर सिंह
अपने कदमों को बढ़ाती हूँ तो जल जाती हूँ
अपने कदमों को बढ़ाती हूँ तो जल जाती हूँ
SHAMA PARVEEN
एक चाय तो पी जाओ
एक चाय तो पी जाओ
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
दो सहोदर
दो सहोदर
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
विडंबना
विडंबना
Shyam Sundar Subramanian
गौरी सुत नंदन
गौरी सुत नंदन
हिमांशु बडोनी (दयानिधि)
Loading...