Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
15 Feb 2017 · 1 min read

इस बार की दिवाली कुछ ऐसे मना लेना।

????
इस बार की दिवीली
कुछ ऐसे मना लेना।

प्रेम की बाहें खोल कर
बुजुर्गों को गले लगा लेना।
घायल नम आँखों में एक
आशा का दीप जला देना।

इस बार की दिवाली
कुछ ऐसे मना लेना।

जिनकी देख नहीं पाती आँखे
कुछ पैसे उनको दे आना।
जिनसे दुनिया वो देख सके
एक ऐसी दीप जला देना।

इस बार की दिवाली
कुछ ऐसे मना लेना।

खील – खिलौने, खांड – बतासे
मिठाई-कपड़े, फुलझरी-पटाखे।
अनाथों को भी दे आना
मन ही मन घुटते,तरसतेआँखों में
खुशियों का दीप जला देना।

इस बार की दिवाली
कुछ ऐसे मना लेना।

जिस घर में अंधेरा छाया हो
उस घर में उजाला कर देना।
झोपड़ी में ज्योति जीवन का
नन्हा सा प्रकाश फैला देना।
भूखे गरीब के आँगन में
एक स्नेह का दीप जला देना।

इस बार की दिवाली
कुछ ऐसे मना लेना।

अमीरी-गरीबी का फर्क मिटा
जाति – पाती का धर्म हटा
हर दिल को गले लगा लेना।
रोते-बिलखते हर चेहरे को
एक बार खुशी से हँसा देना।

इस बार की दिवाली
कुछ ऐसे मना लेना।
????—लक्ष्मी सिंह

Language: Hindi
463 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from लक्ष्मी सिंह
View all
You may also like:
अन्तिम स्वीकार ....
अन्तिम स्वीकार ....
sushil sarna
जिंदगी एक सफर
जिंदगी एक सफर
Neeraj Agarwal
सभी धर्म महान
सभी धर्म महान
RAKESH RAKESH
एक इस आदत से, बदनाम यहाँ हम हो गए
एक इस आदत से, बदनाम यहाँ हम हो गए
gurudeenverma198
बींसवीं गाँठ
बींसवीं गाँठ
Shashi Dhar Kumar
*गोल- गोल*
*गोल- गोल*
Dushyant Kumar
'सरदार' पटेल
'सरदार' पटेल
Vishnu Prasad 'panchotiya'
अब जमाना आ गया( गीतिका )
अब जमाना आ गया( गीतिका )
Ravi Prakash
क्या है उसके संवादों का सार?
क्या है उसके संवादों का सार?
Manisha Manjari
💐प्रेम कौतुक-265💐
💐प्रेम कौतुक-265💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
ख्वाहिशों के कारवां में
ख्वाहिशों के कारवां में
Satish Srijan
दिव्य ज्ञान~
दिव्य ज्ञान~
दिनेश एल० "जैहिंद"
मां स्कंदमाता
मां स्कंदमाता
Mukesh Kumar Sonkar
संसार चलाएंगी बेटियां
संसार चलाएंगी बेटियां
Shekhar Chandra Mitra
मैंने खुद को बदल के रख डाला
मैंने खुद को बदल के रख डाला
Dr fauzia Naseem shad
#OMG
#OMG
*Author प्रणय प्रभात*
सुबह की चाय है इश्क,
सुबह की चाय है इश्क,
Aniruddh Pandey
*मन का मीत छले*
*मन का मीत छले*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
मम्मी की डांट फटकार
मम्मी की डांट फटकार
Ms.Ankit Halke jha
ए दिल मत घबरा
ए दिल मत घबरा
Harminder Kaur
कितना भी दे  ज़िन्दगी, मन से रहें फ़कीर
कितना भी दे ज़िन्दगी, मन से रहें फ़कीर
Dr Archana Gupta
“मेरे जीवन साथी”
“मेरे जीवन साथी”
DrLakshman Jha Parimal
कविता: मेरी अभिलाषा- उपवन बनना चाहता हूं।
कविता: मेरी अभिलाषा- उपवन बनना चाहता हूं।
Rajesh Kumar Arjun
डूबें अक्सर जो करें,
डूबें अक्सर जो करें,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
#  कर्म श्रेष्ठ या धर्म  ??
# कर्म श्रेष्ठ या धर्म ??
Seema Verma
घोंसले
घोंसले
Dr P K Shukla
महान् बनना सरल है
महान् बनना सरल है
प्रेमदास वसु सुरेखा
जय प्रकाश
जय प्रकाश
Jay Dewangan
यारा ग़म नहीं अब किसी बात का।
यारा ग़म नहीं अब किसी बात का।
rajeev ranjan
माना कि मेरे इस कारवें के साथ कोई भीड़ नहीं है |
माना कि मेरे इस कारवें के साथ कोई भीड़ नहीं है |
Jitendra kumar
Loading...