इस दिल को आराम नहीं हैं

यूँ तो हम गुलफाम नहीं हैं
लेकिन हम गुमनाम नहीं हैं

आदत है कवितायेँ लिखना
यूँ न समझना काम नहीं हैं

खेत और खलिहानों जैसा
कोई तीरथ धाम नहीं हैं

वो भी सबके जैसे निकले
ख़ास हुए अब, आम नहीं हैं

तितली भँवरे आयें कैसे
कलियों के पैगाम नहीं हैं

आदर्शों की बात न करना
कलयुग है अब, राम नहीं हैं

सोच-विचारों में है डूबा
इस दिल को आराम नहीं हैं

1 Like · 123 Views
You may also like:
बुद्ध धाम
Buddha Prakash
खेसारी लाल बानी
Ranjeet Kumar
हौसलों की उड़ान।
Taj Mohammad
पहाड़ों की रानी
Shailendra Aseem
ऐ मेघ
सिद्धार्थ गोरखपुरी
तुम्हारी चाय की प्याली / लवकुश यादव "अज़ल"
लवकुश यादव "अज़ल"
प्रकृति का उपहार
Anamika Singh
मेरे पापा
ओनिका सेतिया 'अनु '
मै पैसा हूं दोस्तो मेरे रूप बने है अनेक
Ram Krishan Rastogi
श्रेय एवं प्रेय मार्ग
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
पिता का महत्व
ओनिका सेतिया 'अनु '
धर्म बला है...?
मनोज कर्ण
अरविंद सवैया
संजीव शुक्ल 'सचिन'
फिर कभी तुम्हें मैं चाहकर देखूंगा.............
Nasib Sabharwal
उस दिन
Alok Saxena
"मैंने दिल तुझको दिया"
Ajit Kumar "Karn"
बहंगी लचकत जाय
डा. सूर्यनारायण पाण्डेय
खाली मन से लिखी गई कविता क्या होगी
Sadanand Kumar
दिल मुझसे लगाकर,औरों से लगाया न करो
Ram Krishan Rastogi
ग़ज़ल
Mahendra Narayan
जंगल में कवि सम्मेलन
मनोज कर्ण
$ग़ज़ल
आर.एस. 'प्रीतम'
मत भूलो देशवासियों.!
Prabhudayal Raniwal
कर्ज
Vikas Sharma'Shivaaya'
शादी से पहले और शादी के बाद
gurudeenverma198
विभाजन की व्यथा
Anamika Singh
बाबा भैरण के जनैत छी ?
श्रीहर्ष आचार्य
पिता का प्यार
pradeep nagarwal
बेपनाह गम था।
Taj Mohammad
परिंदों सा।
Taj Mohammad
Loading...