Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
1 May 2018 · 1 min read

इस जमीन को अपना बना

इस जमीं भू को अपना बना प्यार से
मुँह कभी तू न लग अब किसी यार से

तू इधर औ उधर मत करे आज फिर
मिल हमेशा चले तू तो परिवार से

व्याप्त आतंक रहा देश में हर तरफ
शान्ति दो राष्ट्र के बीच इकरार से

हम सभी उस प्रभू की अलौकिक कृती
मत दुखा दिल किसी का यूँ तिरस्कार से

Language: Hindi
74 Likes · 291 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from DR.MDHU TRIVEDI
View all
You may also like:
दिल के रिश्ते
दिल के रिश्ते
Surinder blackpen
सत्य का संधान
सत्य का संधान
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
बेटा
बेटा
अनिल "आदर्श"
रक्षाबन्धन
रक्षाबन्धन
कार्तिक नितिन शर्मा
* जगो उमंग में *
* जगो उमंग में *
surenderpal vaidya
एक बनी थी शक्कर मिल
एक बनी थी शक्कर मिल
Dhirendra Singh
मझधार
मझधार
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
कुछ ऐसे भी लोग कमाए हैं मैंने ,
कुछ ऐसे भी लोग कमाए हैं मैंने ,
Ashish Morya
क्या देखा है मैंने तुझमें?....
क्या देखा है मैंने तुझमें?....
Amit Pathak
मैंने नींदों से
मैंने नींदों से
Dr fauzia Naseem shad
देख रही हूँ जी भर कर अंधेरे को
देख रही हूँ जी भर कर अंधेरे को
ruby kumari
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Dr. Sunita Singh
मुक्तक
मुक्तक
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
श्रम साधिका
श्रम साधिका
पंकज पाण्डेय सावर्ण्य
Fight
Fight
AJAY AMITABH SUMAN
प्रेम.... मन
प्रेम.... मन
Neeraj Agarwal
..
..
*प्रणय प्रभात*
दोहे
दोहे
अशोक कुमार ढोरिया
सुरभित पवन फिज़ा को मादक बना रही है।
सुरभित पवन फिज़ा को मादक बना रही है।
सत्य कुमार प्रेमी
3481🌷 *पूर्णिका* 🌷
3481🌷 *पूर्णिका* 🌷
Dr.Khedu Bharti
*नव वर्ष पर सुबह पाँच बजे बधाई * *(हास्य कुंडलिया)*
*नव वर्ष पर सुबह पाँच बजे बधाई * *(हास्य कुंडलिया)*
Ravi Prakash
क्या होता है रोना ?
क्या होता है रोना ?
पूर्वार्थ
ख़ुदा करे ये कयामत के दिन भी बड़े देर से गुजारे जाएं,
ख़ुदा करे ये कयामत के दिन भी बड़े देर से गुजारे जाएं,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
"कलम की अभिलाषा"
Dr. Kishan tandon kranti
ज़िंदगी हमें हर पल सबक नए सिखाती है
ज़िंदगी हमें हर पल सबक नए सिखाती है
Sonam Puneet Dubey
चाहत
चाहत
Bodhisatva kastooriya
कि हम मजदूर है
कि हम मजदूर है
gurudeenverma198
*
*"बापू जी"*
Shashi kala vyas
खिड़कियां हवा और प्रकाश को खींचने की एक सुगम यंत्र है।
खिड़कियां हवा और प्रकाश को खींचने की एक सुगम यंत्र है।
Rj Anand Prajapati
खंड काव्य लिखने के महारथी तो हो सकते हैं,
खंड काव्य लिखने के महारथी तो हो सकते हैं,
DrLakshman Jha Parimal
Loading...