Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
26 May 2023 · 1 min read

इस जग में हैं हम सब साथी

इस जग में हैं हम सब साथी
आओ पथ निर्माण करें
तुम बन जाओ पावन गंगा
हर हर हर सब,स्नान करें ।।

सूर्यकांत

272 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
सोच~
सोच~
दिनेश एल० "जैहिंद"
2936.*पूर्णिका*
2936.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
अमूक दोस्त ।
अमूक दोस्त ।
SATPAL CHAUHAN
अगर वास्तव में हम अपने सामर्थ्य के अनुसार कार्य करें,तो दूसर
अगर वास्तव में हम अपने सामर्थ्य के अनुसार कार्य करें,तो दूसर
Paras Nath Jha
फूलों की है  टोकरी,
फूलों की है टोकरी,
Mahendra Narayan
नंगा चालीसा [ रमेशराज ]
नंगा चालीसा [ रमेशराज ]
कवि रमेशराज
जय मां शारदे
जय मां शारदे
Mukesh Kumar Sonkar
बचपन की अठखेलियाँ
बचपन की अठखेलियाँ
लक्ष्मी सिंह
International Hindi Day
International Hindi Day
Tushar Jagawat
* चलते रहो *
* चलते रहो *
surenderpal vaidya
यदि आप किसी काम को वक्त देंगे तो वह काम एक दिन आपका वक्त नही
यदि आप किसी काम को वक्त देंगे तो वह काम एक दिन आपका वक्त नही
Rj Anand Prajapati
जो लिखा नहीं.....लिखने की कोशिश में हूँ...
जो लिखा नहीं.....लिखने की कोशिश में हूँ...
Vishal babu (vishu)
■ सामयिक सवाल...
■ सामयिक सवाल...
*Author प्रणय प्रभात*
खुशनुमा – खुशनुमा सी लग रही है ज़मीं
खुशनुमा – खुशनुमा सी लग रही है ज़मीं
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
अजीब सी चुभन है दिल में
अजीब सी चुभन है दिल में
हिमांशु Kulshrestha
इंसान VS महान
इंसान VS महान
Dr MusafiR BaithA
ख़ामोशी से बातें करते है ।
ख़ामोशी से बातें करते है ।
Buddha Prakash
!! हे लोकतंत्र !!
!! हे लोकतंत्र !!
Akash Yadav
चुप रहो
चुप रहो
Sûrëkhâ Rãthí
शातिर दुनिया
शातिर दुनिया
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
*हमेशा साथ में आशीष, सौ लाती बुआऍं हैं (हिंदी गजल)*
*हमेशा साथ में आशीष, सौ लाती बुआऍं हैं (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
प्रेम तो हर कोई चाहता है;
प्रेम तो हर कोई चाहता है;
Dr Manju Saini
परिश्रम
परिश्रम
Neeraj Agarwal
खुद को संवार लूँ.... के खुद को अच्छा लगूँ
खुद को संवार लूँ.... के खुद को अच्छा लगूँ
सिद्धार्थ गोरखपुरी
कह्र ....
कह्र ....
sushil sarna
उनसे पूंछो हाल दिले बे करार का।
उनसे पूंछो हाल दिले बे करार का।
Taj Mohammad
कोई तंकीद
कोई तंकीद
Dr fauzia Naseem shad
आसमानों को छूने की चाह में निकले थे
आसमानों को छूने की चाह में निकले थे
कवि दीपक बवेजा
जय माँ जगदंबे 🙏
जय माँ जगदंबे 🙏
डॉ.सीमा अग्रवाल
शब्द लौटकर आते हैं,,,,
शब्द लौटकर आते हैं,,,,
Shweta Soni
Loading...