Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
30 Jul 2016 · 1 min read

इसीलिए मै लिखता हूँ

खुद ही’ खुद के आशियाँ को क्यों जलाते फिर रहे
विश्व भर में जगहँसाई क्यों कराते फिर रहे।

है वतन ये आपका और है चमन ये आपका
तुम चमन के बागवाँ हो क्यों भुलाते फिर रहे।

लहलहाता वृक्ष है हैं डालियाँ इसकी हरी
क्यों वतन की डाल पर आरी चलाते फिर रहे।

कर्ज है तुम पर वतन का पागलों तुम जान लो
पत्थरों की बारिशों से क्या जताते फिर रहे।

गर कहा गद्दार तुमको क्या गलत है कह दिया
दुश्मनों की मौत पर आँसू बहाते फिर रहे।

विवेक प्रजापति ‘विवेक’

3 Comments · 204 Views
You may also like:
Writing Challenge- नायक (Hero)
Sahityapedia
लकड़ी में लड़की / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
एक पत्नि की मन की भावना
Ram Krishan Rastogi
■ आज के नुस्खे
*Author प्रणय प्रभात*
🌻🌻अन्यानां जनानां हितं🌻🌻
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
कहियो तऽ भेटब(भगवती गीत)
मनोज कर्ण
काफ़िर का ईमाँ
DEVSHREE PAREEK 'ARPITA'
जीवन की सांझ
Dr. Girish Chandra Agarwal
औरों को देखने की ज़रूरत
Dr fauzia Naseem shad
बाल कहानी-पूजा और राधा
SHAMA PARVEEN
भगतसिंह की फांसी
Shekhar Chandra Mitra
चार साहबजादे
Satish Srijan
★दर्द भरा जीवन तेरा दर्दों से घबराना नहीं★
★ IPS KAMAL THAKUR ★
एक शाम ऐसी कभी आये, जहां हम खुद को हीं...
Manisha Manjari
✍️गुलिस्ताँ सरज़मी के बंदिश में है✍️
'अशांत' शेखर
नवनिर्माण करें राष्ट्र का, करें श्रेष्ठ अपना अर्पण
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
धरा करे मनुहार…
Rekha Drolia
*मुरली की तान देना (भक्ति गीतिका)*
Ravi Prakash
शख्सियत - मॉं भारती की सेवा के लिए समर्पित योद्धा...
Deepak Kumar Tyagi
ਰੁੱਤ ਵਸਲ ਮੈਂ ਵੇਖੀ ਨਾ
Kaur Surinder
हट जा हट जा भाल से रेखा
सूर्यकांत द्विवेदी
ठान लिया है
Buddha Prakash
" वर्ष 2023 धमाकेदार होगा बालीवुड बाक्स आफ़िस के लिए...
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
हर किसी में अदबो-लिहाज़ ना होता है।
Taj Mohammad
इंसानी दिमाग
विजय कुमार अग्रवाल
*मेरे देश का सैनिक*
Prabhudayal Raniwal
हक
shabina. Naaz
हमारी सभ्यता
Anamika Singh
कविता: एक राखी मुझे भेज दो, रक्षाबंधन आने वाला है।
Rajesh Kumar Arjun
मेरा आजादी का भाषण
ज्ञानीचोर ज्ञानीचोर
Loading...