Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
30 Apr 2022 · 1 min read

इश्क़ में जूतियों का भी रहता है डर

पीठ पर पति के इतना क्यूँ सामान है
कोई गदहा नहीं यह भी इंसान है

रोड पर झूमना इक हुनर है हुनर
बिन पिये जो चले वह तो नादान है

इश्क़ में जूतियों का भी रहता है डर
ये सफर तो नहीं इतना आसान है

बेचकर बाप का धन लुटाता है जो
अपने घर का वही सच में सुल्तान है

तेल तो ब्रांड का ही लगाते थे तुम
क्यों चमन हो गया इतना वीरान है

दाग लाया हूँ फिर मैं तो बाजार से
कौन आखिर वहाँ बेचता पान है

पाँव ‘आकाश’ बीवी के पड़ने लगा
तबसे घर में न उसके घमासान है

– आकाश महेशपुरी
दिनांक- 30/04/2022

10 Likes · 10 Comments · 916 Views
You may also like:
तकनीकी के अग्रदूत राजीव गांधी का शिक्षा के प्रति दृष्टिकोण
पंकज कुमार शर्मा 'प्रखर'
जितनी बार निहारा उसको
Shivkumar Bilagrami
"आम की महिमा"
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
नया साल मुबारक
Shekhar Chandra Mitra
कहां पता था
dks.lhp
बहाना क्यूँ बनाते हो ( सवाल-1 )
bhandari lokesh
ईद मनाते हैं।
Taj Mohammad
हाथों को मंदिर में नहीं, मरघट में जोड़ गयी वो।
Manisha Manjari
मध्यप्रदेश पर कुण्डलियाँ
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
बेताब दिल
VINOD KUMAR CHAUHAN
परमूल्यांकन की न हो
Dr fauzia Naseem shad
I feel h
Swami Ganganiya
बच्चे (कुंडलिया )
Ravi Prakash
“ मूक बधिर ना बनकर रहना ”
DrLakshman Jha Parimal
✍️तो ऐसा नहीं होता✍️
'अशांत' शेखर
मन तेरा भी करता होगा
Ram Krishan Rastogi
कृष्ण पधारो आँगना
लक्ष्मी सिंह
सच सच बोलो
सूर्यकांत द्विवेदी
बचपन की साईकिल
Buddha Prakash
"उलझी हुई जिन्दगानी"
MSW Sunil SainiCENA
पूर्णाहुति
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
आज के ख़्वाब ने मुझसे पूछा
Vivek Pandey
■ तेवरी / देसी ग़ज़ल
*Author प्रणय प्रभात*
मिलना , क्यों जरूरी है ?
Rakesh Bahanwal
"हैप्पी बर्थडे हिन्दी"
पंकज कुमार कर्ण
प्रेम गीत
Harshvardhan "आवारा"
दो शरारती गुड़िया
Prabhudayal Raniwal
शादी
विनोद सिल्ला
अपने शून्य पटल से
Rashmi Sanjay
★उसकी यादें ★
★ IPS KAMAL THAKUR ★
Loading...