Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
30 Jan 2024 · 1 min read

इश्क समंदर

मुहब्बत का समंदर देख लेना।
मिरी आँखों के अंदर देख लेना।
बड़ा मुश्किल है प्यारे पार पाना,
कभी तुम दिल लगाकर देख लेना।
तमन्ना है अगर मिलने की मुझ से,
गुज़ारिश है पलटकर देख लेना।
मिरी यादें रुलाएँ ग़र कभी तो,
मुझे अपने ही अंदर देख लेना ।
इश्क़ गुंचा इश्क़ मकरंद ‘नीलम’
कभी तुम भी महक कर देख लेना।
नीलम शर्मा ✍️

Language: Hindi
1 Like · 74 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
आ जाओ
आ जाओ
हिमांशु Kulshrestha
"सहेज सको तो"
Dr. Kishan tandon kranti
उम्मीद की आँखों से अगर देख रहे हो,
उम्मीद की आँखों से अगर देख रहे हो,
Shweta Soni
मेरे खतों को अगर,तुम भी पढ़ लेते
मेरे खतों को अगर,तुम भी पढ़ लेते
gurudeenverma198
कीलों की क्या औकात ?
कीलों की क्या औकात ?
Anand Sharma
♥️राधे कृष्णा ♥️
♥️राधे कृष्णा ♥️
Vandna thakur
* साधा जिसने जाति को, उसका बेड़ा पार【कुंडलिया】*
* साधा जिसने जाति को, उसका बेड़ा पार【कुंडलिया】*
Ravi Prakash
???
???
शेखर सिंह
जो जुल्फों के साये में पलते हैं उन्हें राहत नहीं मिलती।
जो जुल्फों के साये में पलते हैं उन्हें राहत नहीं मिलती।
Phool gufran
प्रेम
प्रेम
Mamta Rani
सप्तपदी
सप्तपदी
Arti Bhadauria
ग़ज़ल के क्षेत्र में ये कैसा इन्क़लाब आ रहा है?
ग़ज़ल के क्षेत्र में ये कैसा इन्क़लाब आ रहा है?
कवि रमेशराज
वंसत पंचमी
वंसत पंचमी
Raju Gajbhiye
कद्र जिनकी अब नहीं वो भी हीरा थे कभी
कद्र जिनकी अब नहीं वो भी हीरा थे कभी
Mahesh Tiwari 'Ayan'
घरौंदा
घरौंदा
Madhavi Srivastava
■ आज का #दोहा...
■ आज का #दोहा...
*Author प्रणय प्रभात*
तू सरिता मै सागर हूँ
तू सरिता मै सागर हूँ
Satya Prakash Sharma
भुजरियों, कजलियों की राम राम जी 🎉🙏
भुजरियों, कजलियों की राम राम जी 🎉🙏
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
औरतें
औरतें
Kanchan Khanna
लघुकथा- धर्म बचा लिया।
लघुकथा- धर्म बचा लिया।
Dr Tabassum Jahan
शुभ मंगल हुई सभी दिशाऐं
शुभ मंगल हुई सभी दिशाऐं
Ritu Asooja
क्या यह महज संयोग था या कुछ और.... (2)
क्या यह महज संयोग था या कुछ और.... (2)
Dr. Pradeep Kumar Sharma
तुम कहते हो राम काल्पनिक है
तुम कहते हो राम काल्पनिक है
Harinarayan Tanha
आसान शब्द में समझिए, मेरे प्यार की कहानी।
आसान शब्द में समझिए, मेरे प्यार की कहानी।
पूर्वार्थ
🙏 *गुरु चरणों की धूल* 🙏
🙏 *गुरु चरणों की धूल* 🙏
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
चाय-समौसा (हास्य)
चाय-समौसा (हास्य)
दुष्यन्त 'बाबा'
डोला कड़वा -
डोला कड़वा -
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
अहं का अंकुर न फूटे,बनो चित् मय प्राण धन
अहं का अंकुर न फूटे,बनो चित् मय प्राण धन
Pt. Brajesh Kumar Nayak
3289.*पूर्णिका*
3289.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
मधुर व्यवहार
मधुर व्यवहार
Paras Nath Jha
Loading...