Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
13 Jun 2023 · 1 min read

इश्क में डूबी हुई इक जवानी चाहिए

इश्क में डूबी हुई इक जवानी चाहिए
राझें और मजनूं माफिक कहानी चाहिए
हुए बस अपने ही गमजदा तो क्या जिए
मरने पर गैरों के आंखों में भी पानी चाहिए।।

1 Like · 252 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
मत फैला तू हाथ अब उसके सामने
मत फैला तू हाथ अब उसके सामने
gurudeenverma198
मुश्किल में जो देख किसी को, बनता उसकी ढाल।
मुश्किल में जो देख किसी को, बनता उसकी ढाल।
डॉ.सीमा अग्रवाल
सफर
सफर
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
"एक भगोड़ा"
*Author प्रणय प्रभात*
ओम साईं रक्षक शरणम देवा
ओम साईं रक्षक शरणम देवा
Sidhartha Mishra
दिहाड़ी मजदूर
दिहाड़ी मजदूर
Vishnu Prasad 'panchotiya'
उदारता
उदारता
RAKESH RAKESH
💐💐संसारस्य सर्वे सम्बन्धा: परस्पर: सेवाया: कृते💐💐
💐💐संसारस्य सर्वे सम्बन्धा: परस्पर: सेवाया: कृते💐💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
हिंदी
हिंदी
पंकज कुमार कर्ण
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
काव्य की आत्मा और रीति +रमेशराज
काव्य की आत्मा और रीति +रमेशराज
कवि रमेशराज
मुर्गासन,
मुर्गासन,
Satish Srijan
मेरी चाहत रही..
मेरी चाहत रही..
हिमांशु Kulshrestha
दुख आधे तो पस्त
दुख आधे तो पस्त
RAMESH SHARMA
अहा!नव सृजन की भोर है
अहा!नव सृजन की भोर है
नूरफातिमा खातून नूरी
ट्रस्टीशिप-विचार / 1982/प्रतिक्रियाएं
ट्रस्टीशिप-विचार / 1982/प्रतिक्रियाएं
Ravi Prakash
दलाल ही दलाल (हास्य कविता)
दलाल ही दलाल (हास्य कविता)
Dr. Kishan Karigar
धर्म की खूंटी
धर्म की खूंटी
मनोज कर्ण
Sometimes you have to
Sometimes you have to
Prachi Verma
यूएफओ के रहस्य का अनावरण एवं उन्नत परालोक सभ्यता की संभावनाओं की खोज
यूएफओ के रहस्य का अनावरण एवं उन्नत परालोक सभ्यता की संभावनाओं की खोज
Shyam Sundar Subramanian
2311.
2311.
Dr.Khedu Bharti
हर सांस का कर्ज़ बस
हर सांस का कर्ज़ बस
Dr fauzia Naseem shad
हरा न पाये दौड़कर,
हरा न पाये दौड़कर,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
*भव-पालक की प्यारी गैय्या कलियुग में लाचार*
*भव-पालक की प्यारी गैय्या कलियुग में लाचार*
Poonam Matia
अवधी मुक्तक
अवधी मुक्तक
प्रीतम श्रावस्तवी
मैं जी रहीं हूँ, क्योंकि अभी चंद साँसे शेष है।
मैं जी रहीं हूँ, क्योंकि अभी चंद साँसे शेष है।
लक्ष्मी सिंह
कोई गीता समझता है कोई कुरान पढ़ता है ।
कोई गीता समझता है कोई कुरान पढ़ता है ।
Dr. Man Mohan Krishna
उमंग
उमंग
Akash Yadav
आज फिर किसी की बातों ने बहकाया है मुझे,
आज फिर किसी की बातों ने बहकाया है मुझे,
Vishal babu (vishu)
लाल बचा लो इसे जरा👏
लाल बचा लो इसे जरा👏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
Loading...