Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
14 May 2024 · 1 min read

इश्क की कीमत

जाननी है अगर इश्क की कीमत तुम्हें
तो जाकर पूछ लो उस गुलाब के पौधे से
जो खुद टूट जाता दो दिलों को मिलाने की खातिर

जाननी है अगर इश्क की कीमत तुम्हें
तो जाकर पूछ लो उस दिलजले से तुम
होती नहीं नसीब जिसे मोहब्बत करने के बाद भी

जाननी है अगर इश्क की कीमत तुम्हें
तो जाकर पूछ लो अपने माता पिता से
जिन्होंने कुर्बान सब कुछ कर दिया तेरे पालन पोषण में

जाननी है अगर इश्क की कीमत तुम्हें
तो जाकर पूछ लो उन पेड़ो से तुम
जो सदा धूप में जलते है तुम्हें छाया देने के खातिर

7 Likes · 49 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
यहां कोई बेरोजगार नहीं हर कोई अपना पक्ष मजबूत करने में लगा ह
यहां कोई बेरोजगार नहीं हर कोई अपना पक्ष मजबूत करने में लगा ह
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
हमारी हार के किस्सों के हिस्से हो गए हैं
हमारी हार के किस्सों के हिस्से हो गए हैं
सिद्धार्थ गोरखपुरी
”ज़िन्दगी छोटी नहीं होती
”ज़िन्दगी छोटी नहीं होती
शेखर सिंह
पेड़ काट निर्मित किए, घुटन भरे बहु भौन।
पेड़ काट निर्मित किए, घुटन भरे बहु भौन।
विमला महरिया मौज
जो हुक्म देता है वो इल्तिजा भी करता है
जो हुक्म देता है वो इल्तिजा भी करता है
Rituraj shivem verma
रूप तुम्हारा,  सच्चा सोना
रूप तुम्हारा, सच्चा सोना
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
इस क्षितिज से उस क्षितिज तक देखने का शौक था,
इस क्षितिज से उस क्षितिज तक देखने का शौक था,
Smriti Singh
समय एक जैसा किसी का और कभी भी नहीं होता।
समय एक जैसा किसी का और कभी भी नहीं होता।
पूर्वार्थ
वो साँसों की गर्मियाँ,
वो साँसों की गर्मियाँ,
sushil sarna
अधूरा प्रयास
अधूरा प्रयास
Sûrëkhâ
मुक्तक... छंद मनमोहन
मुक्तक... छंद मनमोहन
डॉ.सीमा अग्रवाल
दूर तलक कोई नजर नहीं आया
दूर तलक कोई नजर नहीं आया
ठाकुर प्रतापसिंह "राणाजी"
क्रांति की बात ही ना करो
क्रांति की बात ही ना करो
Rohit yadav
एक कथित रंग के चादर में लिपटे लोकतंत्र से जीवंत समाज की कल्प
एक कथित रंग के चादर में लिपटे लोकतंत्र से जीवंत समाज की कल्प
Anil Kumar
करवां उसका आगे ही बढ़ता रहा।
करवां उसका आगे ही बढ़ता रहा।
सत्य कुमार प्रेमी
"आभास " हिन्दी ग़ज़ल
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
आती रजनी सुख भरी, इसमें शांति प्रधान(कुंडलिया)
आती रजनी सुख भरी, इसमें शांति प्रधान(कुंडलिया)
Ravi Prakash
ग़ज़ल सगीर
ग़ज़ल सगीर
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
उसने मुझे बिहारी ऐसे कहा,
उसने मुझे बिहारी ऐसे कहा,
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
जिंदगी का सबूत
जिंदगी का सबूत
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
♥️राधे कृष्णा ♥️
♥️राधे कृष्णा ♥️
Vandna thakur
प्रेम ही जीवन है।
प्रेम ही जीवन है।
Acharya Rama Nand Mandal
दोहा
दोहा
गुमनाम 'बाबा'
सत्य कड़वा नहीं होता अपितु
सत्य कड़वा नहीं होता अपितु
Gouri tiwari
नारी
नारी
Dr Archana Gupta
राजू और माँ
राजू और माँ
SHAMA PARVEEN
बर्फ़ीली घाटियों में सिसकती हवाओं से पूछो ।
बर्फ़ीली घाटियों में सिसकती हवाओं से पूछो ।
Manisha Manjari
"आज का दौर"
Dr. Kishan tandon kranti
झकझोरती दरिंदगी
झकझोरती दरिंदगी
Dr. Harvinder Singh Bakshi
खुशियाँ
खुशियाँ
विजय कुमार अग्रवाल
Loading...