Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
7 Oct 2022 · 1 min read

इश्क़ की जुर्रत

जलवों की जुस्तजू है तो
जुर्रत पैदा कर!
मासुमियों की हिफाज़त की
ताकत पैदा कर!!
तुझ पर आंच भी आए तो
वे फूंक डालें दुनिया
दिलवालों के बीच इतनी
शोहरत पैदा कर!!
#शायरी #इंकलाबी #रोमांटिक #urdu
#poetry #love #beauty #सौंदर्य
#bravery #कविता #rebel #youth

Language: Hindi
168 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
// अंधविश्वास //
// अंधविश्वास //
Dr. Pradeep Kumar Sharma
राष्ट्रपिता
राष्ट्रपिता
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
‘लोक कवि रामचरन गुप्त’ के 6 यथार्थवादी ‘लोकगीत’
‘लोक कवि रामचरन गुप्त’ के 6 यथार्थवादी ‘लोकगीत’
कवि रमेशराज
"दो मीठे बोल"
Dr. Kishan tandon kranti
चन्द्रयान तीन क्षितिज के पार🙏
चन्द्रयान तीन क्षितिज के पार🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
- जन्म लिया इस धरती पर तो कुछ नेक काम कर जाओ -
- जन्म लिया इस धरती पर तो कुछ नेक काम कर जाओ -
bharat gehlot
कहां खो गए
कहां खो गए
अभिषेक पाण्डेय 'अभि ’
हाँ देख रहा हूँ सीख रहा हूँ
हाँ देख रहा हूँ सीख रहा हूँ
विकास शुक्ल
तुम्हारे
तुम्हारे
हिमांशु Kulshrestha
अंतरराष्ट्रीय मातृभाषा दिवस पर हार्दिक शुभकामनाएं
अंतरराष्ट्रीय मातृभाषा दिवस पर हार्दिक शुभकामनाएं
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
रंगों की दुनिया में हम सभी रहते हैं
रंगों की दुनिया में हम सभी रहते हैं
Neeraj Agarwal
कलेवा
कलेवा
Satish Srijan
अब तो इस वुज़ूद से नफ़रत होने लगी मुझे।
अब तो इस वुज़ूद से नफ़रत होने लगी मुझे।
Phool gufran
बाल कविता: लाल भारती माँ के हैं हम
बाल कविता: लाल भारती माँ के हैं हम
नाथ सोनांचली
Mai koi kavi nhi hu,
Mai koi kavi nhi hu,
Sakshi Tripathi
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Jitendra Kumar Noor
माँ तेरे चरणों
माँ तेरे चरणों
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
बुद्धि सबके पास है, चालाकी करनी है या
बुद्धि सबके पास है, चालाकी करनी है या
Shubham Pandey (S P)
शेरे-पंजाब
शेरे-पंजाब
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
जय श्री राम
जय श्री राम
goutam shaw
#दोहा
#दोहा
*Author प्रणय प्रभात*
ज़िंदगी थी कहां
ज़िंदगी थी कहां
Dr fauzia Naseem shad
बढ़ी शय है मुहब्बत
बढ़ी शय है मुहब्बत
shabina. Naaz
कैसे बचेगी मानवता
कैसे बचेगी मानवता
Dr. Man Mohan Krishna
उदास देख कर मुझको उदास रहने लगे।
उदास देख कर मुझको उदास रहने लगे।
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
कुछ रिश्ते भी रविवार की तरह होते हैं।
कुछ रिश्ते भी रविवार की तरह होते हैं।
Manoj Mahato
अरे वो बाप तुम्हें,
अरे वो बाप तुम्हें,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
फुटपाथों पर लोग रहेंगे
फुटपाथों पर लोग रहेंगे
Chunnu Lal Gupta
+जागृत देवी+
+जागृत देवी+
Ms.Ankit Halke jha
बच्चों के साथ बच्चा बन जाना,
बच्चों के साथ बच्चा बन जाना,
लक्ष्मी सिंह
Loading...