Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
20 Feb 2023 · 1 min read

💐प्रेम कौतुक-198💐

इश्क़ का सौदा करिए सबेरे, मेरी मानिंद,
शाम को कह ही चुके हो ‘एतिबार नहीं’।

©®अभिषेक: पाराशरः “आनन्द”

Language: Hindi
161 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
कोई शुहरत का मेरी है, कोई धन का वारिस
कोई शुहरत का मेरी है, कोई धन का वारिस
Sarfaraz Ahmed Aasee
अपने आसपास
अपने आसपास "काम करने" वालों की कद्र करना सीखें...
Radhakishan R. Mundhra
कंधे पे अपने मेरा सर रहने दीजिए
कंधे पे अपने मेरा सर रहने दीजिए
rkchaudhary2012
2734. *पूर्णिका*
2734. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
सैनिक की कविता
सैनिक की कविता
Jeewan Singh 'जीवनसवारो'
मुझे बिखरने मत देना
मुझे बिखरने मत देना
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
ये 'लोग' हैं!
ये 'लोग' हैं!
Srishty Bansal
💐💐दोहा निवेदन💐💐
💐💐दोहा निवेदन💐💐
भवानी सिंह धानका 'भूधर'
भारत की है शान तिरंगा
भारत की है शान तिरंगा
surenderpal vaidya
*धन्य रामकथा(कुंडलिया)*
*धन्य रामकथा(कुंडलिया)*
Ravi Prakash
एक गिलहरी
एक गिलहरी
अटल मुरादाबादी, ओज व व्यंग कवि
बदले नहीं है आज भी लड़के
बदले नहीं है आज भी लड़के
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
"अन्तर"
Dr. Kishan tandon kranti
The greatest luck generator - show up
The greatest luck generator - show up
पूर्वार्थ
हर पाँच बरस के बाद
हर पाँच बरस के बाद
Johnny Ahmed 'क़ैस'
नववर्ष।
नववर्ष।
Manisha Manjari
जबकि ख़ाली हाथ जाना है सभी को एक दिन,
जबकि ख़ाली हाथ जाना है सभी को एक दिन,
Shyam Vashishtha 'शाहिद'
#मीडियाई_मखौल
#मीडियाई_मखौल
*प्रणय प्रभात*
आप वो नहीं है जो आप खुद को समझते है बल्कि आप वही जो दुनिया आ
आप वो नहीं है जो आप खुद को समझते है बल्कि आप वही जो दुनिया आ
Rj Anand Prajapati
సమాచార వికాస సమితి
సమాచార వికాస సమితి
डॉ गुंडाल विजय कुमार 'विजय'
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Mahendra Narayan
-बहुत देर कर दी -
-बहुत देर कर दी -
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
कैसे प्रियवर मैं कहूँ,
कैसे प्रियवर मैं कहूँ,
sushil sarna
वफ़ाओं की खुशबू मुझ तक यूं पहुंच जाती है,
वफ़ाओं की खुशबू मुझ तक यूं पहुंच जाती है,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
गर्मी ने दिल खोलकर,मचा रखा आतंक
गर्मी ने दिल खोलकर,मचा रखा आतंक
Dr Archana Gupta
जीवन में चुनौतियां हर किसी
जीवन में चुनौतियां हर किसी
नेताम आर सी
अस्थिर मन
अस्थिर मन
Dr fauzia Naseem shad
" अब कोई नया काम कर लें "
DrLakshman Jha Parimal
जीवन की रंगीनियत
जीवन की रंगीनियत
Dr Mukesh 'Aseemit'
बेपरवाह
बेपरवाह
Omee Bhargava
Loading...