Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
27 Aug 2016 · 1 min read

“इन्कलाब लिखता हूँ “

ग़ज़ल लिखने की एक छोटी सी कोशिश

“इन्कलाब लिखता हूँ ”

ग़मज़दा होता हूँ जब कभी
अपने जज़्बात लिखता हूँ मैं

अन्दर से टूटने लगता हूँ जब भी
अपने अधूरे ख्वाब लिखता हूँ मैं

सोचता हूँ बैठकर हासिल क्या है
मेरी की हुई कोशिशें लिखता हूँ मैं

डूबता हूँ तनहाइयों में ग़र कभी
सोचों का समंदर लिखता हूँ मैं

खुश हो जाता हूँ थोड़ी सी ख़ुशी में
बस अपनी मुस्कान लिखता हूँ मैं

पूछते हैं सब ये क्या लिखते हो ‘कुमार’
मैं बोला कलम से इन्कलाब लिखता हूँ मैं

“सन्दीप कुमार”

479 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
संघर्ष ,संघर्ष, संघर्ष करना!
संघर्ष ,संघर्ष, संघर्ष करना!
Buddha Prakash
2247.
2247.
Dr.Khedu Bharti
मुस्कुराहटे जैसे छीन सी गई है
मुस्कुराहटे जैसे छीन सी गई है
Harminder Kaur
वह पढ़ता या पढ़ती है जब
वह पढ़ता या पढ़ती है जब
gurudeenverma198
*अपयश हार मुसीबतें , समझो गहरे मित्र (कुंडलिया)*
*अपयश हार मुसीबतें , समझो गहरे मित्र (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
सुकर्म से ...
सुकर्म से ...
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
इन आँखों में इतनी सी नमी रह गई।
इन आँखों में इतनी सी नमी रह गई।
लक्ष्मी सिंह
"कहाँ ठिकाना होगा?"
Dr. Kishan tandon kranti
असली नशा
असली नशा
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
अकेलापन
अकेलापन
Neeraj Agarwal
मौसम  सुंदर   पावन  है, इस सावन का अब क्या कहना।
मौसम सुंदर पावन है, इस सावन का अब क्या कहना।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
****** घूमते घुमंतू गाड़ी लुहार ******
****** घूमते घुमंतू गाड़ी लुहार ******
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
नैया फसी मैया है बीच भवर
नैया फसी मैया है बीच भवर
Basant Bhagawan Roy
सावन में घिर घिर घटाएं,
सावन में घिर घिर घटाएं,
Seema gupta,Alwar
ओ माँ... पतित-पावनी....
ओ माँ... पतित-पावनी....
Santosh Soni
“मेरी ख्वाहिशें”
“मेरी ख्वाहिशें”
DrLakshman Jha Parimal
कसम है तुम्हें भगतसिंह की
कसम है तुम्हें भगतसिंह की
Shekhar Chandra Mitra
खून के आंसू रोये
खून के आंसू रोये
Surinder blackpen
#शेर
#शेर
*Author प्रणय प्रभात*
आया क़िसमिस का त्यौहार
आया क़िसमिस का त्यौहार
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
जाते जाते मुझे वो उदासी दे गया
जाते जाते मुझे वो उदासी दे गया
Ram Krishan Rastogi
क़दर करना क़दर होगी क़दर से शूल फूलों में
क़दर करना क़दर होगी क़दर से शूल फूलों में
आर.एस. 'प्रीतम'
आपको दिल से हम दुआ देंगे।
आपको दिल से हम दुआ देंगे।
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
अपने ज्ञान को दबा कर पैसा कमाना नौकरी कहलाता है!
अपने ज्ञान को दबा कर पैसा कमाना नौकरी कहलाता है!
Suraj kushwaha
राम संस्कार हैं, राम संस्कृति हैं, राम सदाचार की प्रतिमूर्ति हैं...
राम संस्कार हैं, राम संस्कृति हैं, राम सदाचार की प्रतिमूर्ति हैं...
Anand Kumar
जाति-धर्म में सब बटे,
जाति-धर्म में सब बटे,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
हवन - दीपक नीलपदम्
हवन - दीपक नीलपदम्
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
💐प्रेम कौतुक-181💐
💐प्रेम कौतुक-181💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
कोशिश करना आगे बढ़ना
कोशिश करना आगे बढ़ना
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
*अज्ञानी की कलम*
*अज्ञानी की कलम*
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी
Loading...