Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
8 Jun 2016 · 1 min read

इधर फितरत बदलती जा रही है

इधर फितरत बदलती जा रही है
उधर उल्फत बिखरती जा रही है

इमारत ऊँची ऊँची थाम कर अब
कमर धरती की झुकती जा रही है

चढ़ा कर स्वार्थ का चश्मा नज़र पे
नमी आँखों की पुछती जा रही है

समय के साथ देखो ज़िन्दगी भी
किये बन्द आँख चलती जा रही है

कभी रिश्तों भरी होती थी दुनिया
एकाकी आज बनती जा रही है

यहाँ पर ‘अर्चना’ के नाम कितने
ये दुनिया ढोंग करती जा रही है

डॉ अर्चना गुप्ता
मुरादाबाद(उ प्र)

416 Views
You may also like:
बंधन बाधा हर हरो
Dr. Rajendra Singh 'Rahi'
जितना आवश्यक है बस उतना ही
पंकज कुमार शर्मा 'प्रखर'
त्याग
मनोज कर्ण
गुमनाम मुहब्बत का आशिक
श्री रमण 'श्रीपद्'
Writing Challenge- भूख (Hunger)
Sahityapedia
मेरे अल्फाज़...
श्रद्धा
अहीर छंद (अभीर छंद)
Subhash Singhai
अब फक़त तेरा सहारा, न सहारा कोई।
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
राब्ते सबसे अपने
Dr fauzia Naseem shad
मेरी आजादी बाकी है
Deepak Kohli
बेटी से मुस्कान है...
जगदीश लववंशी
मेरा आजादी का भाषण
ज्ञानीचोर ज्ञानीचोर
ग़ज़ल
Anis Shah
भोले भंडारी
DR ARUN KUMAR SHASTRI
बंद हैं भारत में विद्यालय.
Pt. Brajesh Kumar Nayak
साथ तुम्हारा
मोहन
जख्म
Anamika Singh
अमृत महोत्सव
Mahender Singh Hans
हे जग जननी !
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
बेजुबां जीव
साहित्य लेखन- एहसास और जज़्बात
“LOVELY FRIEND”
DrLakshman Jha Parimal
किसे फर्क पड़ता है।(कविता)
sangeeta beniwal
✍️थोड़ी मजाकियां✍️
'अशांत' शेखर
हरिगीतिका
शेख़ जाफ़र खान
आसमाँ के परिंदे
VINOD KUMAR CHAUHAN
उपहार
विजय कुमार अग्रवाल
*माँ बकरे की रोती(बाल कविता)*
Ravi Prakash
"खुद की तलाश"
Ajit Kumar "Karn"
" सब्र बचपन का"
Dr Meenu Poonia
बेटियाँ
Neha
Loading...