Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
16 Jan 2024 · 1 min read

इतनी भी तकलीफ ना दो हमें ….

इतनी भी तकलीफ ना दो हमें ….

की सर्द रातों में तुम तन्हा रहो,
और हम तुम्हे याद भी ना करें…..

पुरानी यादों को टटोलकर तुम करवटें बदलती रहो,
और हम तुम्हे याद भी ना करें….

101 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
खाने पीने का ध्यान नहीं _ फिर भी कहते बीमार हुए।
खाने पीने का ध्यान नहीं _ फिर भी कहते बीमार हुए।
Rajesh vyas
कुछ यूं मेरा इस दुनिया में,
कुछ यूं मेरा इस दुनिया में,
Lokesh Singh
मैं पागल नहीं कि
मैं पागल नहीं कि
gurudeenverma198
"ख़ूबसूरत आँखे"
Ekta chitrangini
"आशा" के दोहे '
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
23/130.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/130.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
मेरे खाते में भी खुशियों का खजाना आ गया।
मेरे खाते में भी खुशियों का खजाना आ गया।
सत्य कुमार प्रेमी
जी करता है , बाबा बन जाऊं - व्यंग्य
जी करता है , बाबा बन जाऊं - व्यंग्य
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
#आज_का_आह्वान
#आज_का_आह्वान
*प्रणय प्रभात*
चली लोमड़ी मुंडन तकने....!
चली लोमड़ी मुंडन तकने....!
singh kunwar sarvendra vikram
नींद आती है......
नींद आती है......
Kavita Chouhan
शर्मिंदगी झेलनी पड़ती है दोस्तों यहां पर,
शर्मिंदगी झेलनी पड़ती है दोस्तों यहां पर,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
विश्व पुस्तक दिवस पर
विश्व पुस्तक दिवस पर
Mohan Pandey
वो न जाने कहाँ तक मुझको आजमाएंगे
वो न जाने कहाँ तक मुझको आजमाएंगे
VINOD CHAUHAN
हम जो भी कार्य करते हैं वो सब बाद में वापस लौट कर आता है ,चा
हम जो भी कार्य करते हैं वो सब बाद में वापस लौट कर आता है ,चा
Shashi kala vyas
अखंड भारत कब तक?
अखंड भारत कब तक?
जय लगन कुमार हैप्पी
THE MUDGILS.
THE MUDGILS.
Dhriti Mishra
जिम्मेदारी कौन तय करेगा
जिम्मेदारी कौन तय करेगा
Mahender Singh
हमारी भारतीय संस्कृति और सभ्यता
हमारी भारतीय संस्कृति और सभ्यता
SPK Sachin Lodhi
जिंदगी में हर पल खुशियों की सौगात रहे।
जिंदगी में हर पल खुशियों की सौगात रहे।
Phool gufran
अपवित्र मानसिकता से परे,
अपवित्र मानसिकता से परे,
शेखर सिंह
चार कंधों पर मैं जब, वे जान जा रहा था
चार कंधों पर मैं जब, वे जान जा रहा था
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
"ख़ामोशी"
Pushpraj Anant
एक बेजुबान की डायरी
एक बेजुबान की डायरी
Dr. Kishan tandon kranti
ये मानसिकता हा गलत आये के मोर ददा बबा मन‌ साग भाजी बेचत रहिन
ये मानसिकता हा गलत आये के मोर ददा बबा मन‌ साग भाजी बेचत रहिन
PK Pappu Patel
#विषय:- पुरूषोत्तम राम
#विषय:- पुरूषोत्तम राम
Pratibha Pandey
बेशर्मी से ... (क्षणिका )
बेशर्मी से ... (क्षणिका )
sushil sarna
किताब कहीं खो गया
किताब कहीं खो गया
Shweta Soni
मैं एक महल हूं।
मैं एक महल हूं।
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
अंतिम सत्य
अंतिम सत्य
विजय कुमार अग्रवाल
Loading...