Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
29 Nov 2022 · 1 min read

इतनी उम्मीद

ज़िंदगी से हमें शिकायत हो ।
इतनी उम्मीद हम नहीं रखते ।।

डाॅ फौज़िया नसीम शाद

Language: Hindi
Tag: शेर
12 Likes · 490 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr fauzia Naseem shad
View all
You may also like:
*रंगीला रे रंगीला (Song)*
*रंगीला रे रंगीला (Song)*
Dushyant Kumar
मैं इस दुनिया का सबसे बुरा और मुर्ख आदमी हूँ
मैं इस दुनिया का सबसे बुरा और मुर्ख आदमी हूँ
Jitendra kumar
कुछ कहूं ना कहूं तुम भी सोचा करो,
कुछ कहूं ना कहूं तुम भी सोचा करो,
Sanjay ' शून्य'
किसी से दोस्ती ठोक–बजा कर किया करो, नहीं तो, यह बालू की भीत साबित
किसी से दोस्ती ठोक–बजा कर किया करो, नहीं तो, यह बालू की भीत साबित
Dr MusafiR BaithA
"नशा इन्तजार का"
Dr. Kishan tandon kranti
शेष कुछ
शेष कुछ
Dr.Priya Soni Khare
जीवन का सम्बल
जीवन का सम्बल
डॉ०छोटेलाल सिंह 'मनमीत'
मैं माँ हूँ
मैं माँ हूँ
Arti Bhadauria
आकाश के नीचे
आकाश के नीचे
मनमोहन लाल गुप्ता 'अंजुम'
ऊपर बने रिश्ते
ऊपर बने रिश्ते
विजय कुमार अग्रवाल
ख़ास तो बहुत थे हम भी उसके लिए...
ख़ास तो बहुत थे हम भी उसके लिए...
Dr Manju Saini
आज़ादी की जंग में यूं कूदा पंजाब
आज़ादी की जंग में यूं कूदा पंजाब
कवि रमेशराज
जोश,जूनून भरपूर है,
जोश,जूनून भरपूर है,
Vaishaligoel
हों जो तुम्हे पसंद वही बात कहेंगे।
हों जो तुम्हे पसंद वही बात कहेंगे।
Rj Anand Prajapati
कंठ तक जल में गड़ा, पर मुस्कुराता है कमल ।
कंठ तक जल में गड़ा, पर मुस्कुराता है कमल ।
Satyaveer vaishnav
माँ कहने के बाद भला अब, किस समर्थ कुछ देने को,
माँ कहने के बाद भला अब, किस समर्थ कुछ देने को,
pravin sharma
उम्र ए हासिल
उम्र ए हासिल
Dr fauzia Naseem shad
रोकोगे जो तुम...
रोकोगे जो तुम...
डॉ.सीमा अग्रवाल
कमरा उदास था
कमरा उदास था
Shweta Soni
It is not necessary to be beautiful for beauty,
It is not necessary to be beautiful for beauty,
Sakshi Tripathi
तन्हाईयाँ
तन्हाईयाँ
Shyam Sundar Subramanian
मौत से किसकी यारी
मौत से किसकी यारी
Satish Srijan
*भक्ति के दोहे*
*भक्ति के दोहे*
Ravi Prakash
प्रेमचन्द के पात्र अब,
प्रेमचन्द के पात्र अब,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
2546.पूर्णिका
2546.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
शायद कुछ अपने ही बेगाने हो गये हैं
शायद कुछ अपने ही बेगाने हो गये हैं
Ravi Ghayal
■ संडे इज द फन-डे
■ संडे इज द फन-डे
*Author प्रणय प्रभात*
" बोलती आँखें सदा "
भगवती प्रसाद व्यास " नीरद "
गर गुलों की गुल गई
गर गुलों की गुल गई
Mahesh Tiwari 'Ayan'
रुपया-पैसा~
रुपया-पैसा~
दिनेश एल० "जैहिंद"
Loading...