Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
6 Oct 2016 · 1 min read

इक नया भारत

अब एक् न्य भारत बनाना है लेकिन जरा हौले हौले,
उनको भी सबक सिखाना है लेकिन जरा हौले हौले।
लूट लिया मेरे हिन्द को देश के गद्दारों ने,
खा लिया सब कुछ नोचकर इन्ही सिपहसालारों ने,
अब बस, अब बस
अब एक् नया पाठ पढ़ाना है लेकिन जरा हौले हौले
इक नया भारत बनाना है लेकिन जरा हौले हौले

कही लाखो के तो कही करोडों के घोटाले हुए,
कोई इससे भी अधिक के था अरमाँ पाले हुए,
हम तो जीरो की कीमत भी भूल गए थे,
इनके घोटालो ने याद दिलाई लेकिन जरा हौले हौले,
अब जीरो का मोल ही बताना है लेकिन ज़रा हौले हौले।
अब एक् नया भारत बनाना है लेकिन ज़रा हौले हौले।
‘जोशी’अब ये बेड़िया तोड़ देने को मन करता है,
हर दिन एक् नया घोटाला हर बार अखरता है,
इक नया अरमाँ दिल में जागने लगा है अभी ,
बस उसी अरमाँ को हर दिल में जगाना है लेकिन जरा हौले हौले,
अब एक् नया भारत बनाना है लेकिन जरा हौले हौले

Language: Hindi
444 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
International Self Care Day
International Self Care Day
Tushar Jagawat
समय आयेगा
समय आयेगा
नूरफातिमा खातून नूरी
हम तुम्हारे साथ हैं
हम तुम्हारे साथ हैं
विक्रम कुमार
रास्ता गलत था फिर भी मिलो तब चले आए
रास्ता गलत था फिर भी मिलो तब चले आए
कवि दीपक बवेजा
❤️🌺मेरी मां🌺❤️
❤️🌺मेरी मां🌺❤️
निरंजन कुमार तिलक 'अंकुर'
कुकुरा
कुकुरा
Sushil chauhan
कर्मठ व्यक्ति की सहनशीलता ही धैर्य है, उसके द्वारा किया क्षम
कर्मठ व्यक्ति की सहनशीलता ही धैर्य है, उसके द्वारा किया क्षम
Sanjay ' शून्य'
तारों के मोती अम्बर में।
तारों के मोती अम्बर में।
Anil Mishra Prahari
आधुनिक युग और नशा
आधुनिक युग और नशा
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
"मेरा भोला बाबा"
Dr Meenu Poonia
समय बड़ा बलवान है भैया,जो न इसके साथ चले
समय बड़ा बलवान है भैया,जो न इसके साथ चले
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
दासी
दासी
Bodhisatva kastooriya
मनहरण घनाक्षरी
मनहरण घनाक्षरी
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
मानव-जीवन से जुड़ा, कृत कर्मों का चक्र।
मानव-जीवन से जुड़ा, कृत कर्मों का चक्र।
डॉ.सीमा अग्रवाल
2336.पूर्णिका
2336.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
तुम्हारे बार बार रुठने पर भी
तुम्हारे बार बार रुठने पर भी
gurudeenverma198
मिट्टी की खुश्बू
मिट्टी की खुश्बू
Dr fauzia Naseem shad
दलदल में फंसी
दलदल में फंसी
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
*अज्ञानी की कलम*
*अज्ञानी की कलम*
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
"बोलते अहसास"
Dr. Kishan tandon kranti
चंद्रयान 3
चंद्रयान 3
बिमल तिवारी “आत्मबोध”
ईश्वर, कौआ और आदमी के कान
ईश्वर, कौआ और आदमी के कान
Dr MusafiR BaithA
■ भाषा का रिश्ता दिल ही नहीं दिमाग़ के साथ भी होता है।
■ भाषा का रिश्ता दिल ही नहीं दिमाग़ के साथ भी होता है।
*Author प्रणय प्रभात*
*सुख-दुख में जीवन-भर साथी, कहलाते पति-पत्नी हैं【हिंदी गजल/गी
*सुख-दुख में जीवन-भर साथी, कहलाते पति-पत्नी हैं【हिंदी गजल/गी
Ravi Prakash
दोहा
दोहा
प्रीतम श्रावस्तवी
रमेशराज की वर्णिक एवं लघु छंदों में 16 तेवरियाँ
रमेशराज की वर्णिक एवं लघु छंदों में 16 तेवरियाँ
कवि रमेशराज
प्रेम मे डुबी दो रुहएं
प्रेम मे डुबी दो रुहएं
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
हवन - दीपक नीलपदम्
हवन - दीपक नीलपदम्
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
💐💐यह सफ़र कभी ख़त्म नहीं होगा💐💐
💐💐यह सफ़र कभी ख़त्म नहीं होगा💐💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
******छोटी चिड़ियाँ*******
******छोटी चिड़ियाँ*******
Dr. Vaishali Verma
Loading...