Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
Oct 6, 2016 · 1 min read

इक नया भारत

अब एक् न्य भारत बनाना है लेकिन जरा हौले हौले,
उनको भी सबक सिखाना है लेकिन जरा हौले हौले।
लूट लिया मेरे हिन्द को देश के गद्दारों ने,
खा लिया सब कुछ नोचकर इन्ही सिपहसालारों ने,
अब बस, अब बस
अब एक् नया पाठ पढ़ाना है लेकिन जरा हौले हौले
इक नया भारत बनाना है लेकिन जरा हौले हौले

कही लाखो के तो कही करोडों के घोटाले हुए,
कोई इससे भी अधिक के था अरमाँ पाले हुए,
हम तो जीरो की कीमत भी भूल गए थे,
इनके घोटालो ने याद दिलाई लेकिन जरा हौले हौले,
अब जीरो का मोल ही बताना है लेकिन ज़रा हौले हौले।
अब एक् नया भारत बनाना है लेकिन ज़रा हौले हौले।
‘जोशी’अब ये बेड़िया तोड़ देने को मन करता है,
हर दिन एक् नया घोटाला हर बार अखरता है,
इक नया अरमाँ दिल में जागने लगा है अभी ,
बस उसी अरमाँ को हर दिल में जगाना है लेकिन जरा हौले हौले,
अब एक् नया भारत बनाना है लेकिन जरा हौले हौले

256 Views
You may also like:
अनमोल जीवन
आकाश महेशपुरी
*!* "पिता" के चरणों को नमन *!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
यादें
kausikigupta315
पिता की नियति
Prabhudayal Raniwal
न कोई जगत से कलाकार जाता
आकाश महेशपुरी
किसकी पीर सुने ? (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
प्रकृति के चंचल नयन
मनोज कर्ण
कुछ कहना है..
Vaishnavi Gupta
ये दिल मेरा था, अब उनका हो गया
Ram Krishan Rastogi
माँ — फ़ातिमा एक अनाथ बच्ची
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
रावण का प्रश्न
Anamika Singh
'बाबूजी' एक पिता
पंकज कुमार कर्ण
दोहे एकादश ...
डॉ.सीमा अग्रवाल
जब बेटा पिता पे सवाल उठाता हैं
Nitu Sah
पिता
Santoshi devi
गरम हुई तासीर दही की / (गर्मी का नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
✍️सूरज मुट्ठी में जखड़कर देखो✍️
'अशांत' शेखर
प्यार में तुम्हें ईश्वर बना लूँ, वह मैं नहीं हूँ
Anamika Singh
पितृ वंदना
मनोज कर्ण
जिंदगी
Abhishek Pandey Abhi
सो गया है आदमी
कुमार अविनाश केसर
"समय का पहिया"
Ajit Kumar "Karn"
मेरे पापा
Anamika Singh
आंखों पर लिखे अशआर
Dr fauzia Naseem shad
गाँव की साँझ / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
"भोर"
Ajit Kumar "Karn"
इसलिए याद भी नहीं करते
Dr fauzia Naseem shad
मजबूर ! मजदूर
शेख़ जाफ़र खान
अनमोल राजू
Anamika Singh
छोड़ दो बांटना
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
Loading...