Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
7 Aug 2023 · 1 min read

इक तमन्ना थी

इक तमन्ना थी

इक तमन्ना थी
पलकों में अपनी
बसाकर तुम्हें
अपना बनाने की।
इक तमन्ना थी
मनमंदिर में तुम्हारे
अपनी चाहत का
शंख बजाने की।
इक तमन्ना थी
राह में तुम्हारे
चाँद-तारे नहीं
खुद को बिछाने की।
इक तमन्ना थी
संग तुम्हारे
सजाकर महफिल
रात-दिन बिताने की
इक तमन्ना थी
प्रेरणा से तुम्हारी
जीवन-पथ के
हर बहाव में बह जाने की।
इक तमन्ना थी
तुम पर
एक कविता ही नहीं
पूरा महाकाव्य रचने की।
इक तमन्ना थी
माँग में तुम्हारी
अपने नाम का
सिन्दूर भरने की।
तमन्ना
जो सिर्फ़
तमन्ना ही
बनकर रह गई।
– डॉ. प्रदीप कुमार शर्मा
रायपुर, छत्तीसगढ़

1 Like · 120 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
गाँव कुछ बीमार सा अब लग रहा है
गाँव कुछ बीमार सा अब लग रहा है
Pt. Brajesh Kumar Nayak
"परीक्षा के भूत "
Yogendra Chaturwedi
सीख
सीख
Ashwani Kumar Jaiswal
सीढ़ियों को दूर से देखने की बजाय नजदीक आकर सीढ़ी पर चढ़ने का
सीढ़ियों को दूर से देखने की बजाय नजदीक आकर सीढ़ी पर चढ़ने का
Paras Nath Jha
बिखर गई INDIA की टीम बारी बारी ,
बिखर गई INDIA की टीम बारी बारी ,
ओनिका सेतिया 'अनु '
क्षमा करें तुफैलजी! + रमेशराज
क्षमा करें तुफैलजी! + रमेशराज
कवि रमेशराज
#गीत /
#गीत /
*Author प्रणय प्रभात*
सपनों में खो जाते अक्सर
सपनों में खो जाते अक्सर
Dr Archana Gupta
3218.*पूर्णिका*
3218.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
बारम्बार प्रणाम
बारम्बार प्रणाम
Pratibha Pandey
स्मृति प्रेम की
स्मृति प्रेम की
Dr. Kishan tandon kranti
तीन बुंदेली दोहा- #किवरिया / #किवरियाँ
तीन बुंदेली दोहा- #किवरिया / #किवरियाँ
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
तकलीफ ना होगी मरने मे
तकलीफ ना होगी मरने मे
Anil chobisa
बेपनाह थी मोहब्बत, गर मुकाम मिल जाते
बेपनाह थी मोहब्बत, गर मुकाम मिल जाते
Aditya Prakash
जीवन में सुख-चैन के,
जीवन में सुख-चैन के,
sushil sarna
National Symbols of India
National Symbols of India
VINOD CHAUHAN
दिवाली मुबारक नई ग़ज़ल विनीत सिंह शायर
दिवाली मुबारक नई ग़ज़ल विनीत सिंह शायर
Vinit kumar
माँ की आँखों में पिता / मुसाफ़िर बैठा
माँ की आँखों में पिता / मुसाफ़िर बैठा
Dr MusafiR BaithA
नज़रें बयां करती हैं, लेकिन इज़हार नहीं करतीं,
नज़रें बयां करती हैं, लेकिन इज़हार नहीं करतीं,
Keshav kishor Kumar
श्रीराम का पता
श्रीराम का पता
नन्दलाल सुथार "राही"
सज जाऊं तेरे लबों पर
सज जाऊं तेरे लबों पर
Surinder blackpen
बहुत देखें हैं..
बहुत देखें हैं..
Srishty Bansal
भाई
भाई
Dr.sima
चंचल मन
चंचल मन
उमेश बैरवा
ऊपर बने रिश्ते
ऊपर बने रिश्ते
विजय कुमार अग्रवाल
दूसरी दुनिया का कोई
दूसरी दुनिया का कोई
Dr fauzia Naseem shad
केहिकी करैं बुराई भइया,
केहिकी करैं बुराई भइया,
Kaushal Kumar Pandey आस
सारी जिंदगी कुछ लोगों
सारी जिंदगी कुछ लोगों
shabina. Naaz
सत्य छिपकर तू कहां बैठा है।
सत्य छिपकर तू कहां बैठा है।
Taj Mohammad
जीवन को पैगाम समझना पड़ता है
जीवन को पैगाम समझना पड़ता है
कवि दीपक बवेजा
Loading...