Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
10 Mar 2019 · 1 min read

इंसान ही अकेला है

लोग साथ है
सड़क भरे है
इंसानों के भीड़ में
इंसान ही अकेला है

नई रांहे
अमर उजाले
है दिशा नई
फिर भी
खोया इंसान है

फैलाएं बाहें
सूरज ताक रहा
आनंद की
मूर्ति बना रहा
शुरू कर
अध्याय नया
नया साल जो
आ रहा,

खो मत जाना
भीड़ में
दुनिया के
चकाचौन्ध में
इंसान के भीड़ में
इंसानियत को
न खोना

ज़िन्दा रख
इंसान को
बना अपनी
पहचान को
शुरुवात कर
आगे बढ़
विकारों से
विजयी हो…

– आनंदश्री

Language: Hindi
2 Likes · 189 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
*कैसे बारिश आती (बाल कविता)*
*कैसे बारिश आती (बाल कविता)*
Ravi Prakash
आदमी हैं जी
आदमी हैं जी
Neeraj Agarwal
हाँ प्राण तुझे चलना होगा
हाँ प्राण तुझे चलना होगा
Ashok deep
हम रहें आजाद
हम रहें आजाद
surenderpal vaidya
मंद मंद बहती हवा
मंद मंद बहती हवा
Soni Gupta
प्रश्रयस्थल
प्रश्रयस्थल
Bodhisatva kastooriya
आँसू
आँसू
Dr. Kishan tandon kranti
किताबें
किताबें
Dr. Pradeep Kumar Sharma
धूप
धूप
Saraswati Bajpai
माना सच है वो कमजर्फ कमीन बहुत  है।
माना सच है वो कमजर्फ कमीन बहुत है।
सत्येन्द्र पटेल ‘प्रखर’
Laghukatha :-Kindness
Laghukatha :-Kindness
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
■सियासी फार्मूला■
■सियासी फार्मूला■
*Author प्रणय प्रभात*
" सब भाषा को प्यार करो "
DrLakshman Jha Parimal
मैं जवान हो गई
मैं जवान हो गई
Basant Bhagawan Roy
जीवन बरगद कीजिए
जीवन बरगद कीजिए
Mahendra Narayan
कहानियां ख़त्म नहीं होंगी
कहानियां ख़त्म नहीं होंगी
Shekhar Chandra Mitra
कहीं फूलों की बारिश है कहीं पत्थर बरसते हैं
कहीं फूलों की बारिश है कहीं पत्थर बरसते हैं
Phool gufran
सावन के पर्व-त्योहार
सावन के पर्व-त्योहार
लक्ष्मी सिंह
लोग महापुरुषों एवम् बड़ी हस्तियों के छोटे से विचार को भी काफ
लोग महापुरुषों एवम् बड़ी हस्तियों के छोटे से विचार को भी काफ
Rj Anand Prajapati
मोहब्बत के शरबत के रंग को देख कर
मोहब्बत के शरबत के रंग को देख कर
Shakil Alam
आओ प्रिय बैठो पास...
आओ प्रिय बैठो पास...
डॉ.सीमा अग्रवाल
#drarunkumarshastri
#drarunkumarshastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
वो शख्स लौटता नहीं
वो शख्स लौटता नहीं
Surinder blackpen
अभिव्यक्ति की सामरिकता - भाग 05 Desert Fellow Rakesh Yadav
अभिव्यक्ति की सामरिकता - भाग 05 Desert Fellow Rakesh Yadav
Desert fellow Rakesh
💐Prodigy Love-40💐
💐Prodigy Love-40💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
वही पर्याप्त है
वही पर्याप्त है
Satish Srijan
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
कहमुकरी
कहमुकरी
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
परमात्मा
परमात्मा
ओंकार मिश्र
बेगुनाह कोई नहीं है इस दुनिया में...
बेगुनाह कोई नहीं है इस दुनिया में...
Radhakishan R. Mundhra
Loading...