Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
25 May 2024 · 1 min read

इंसान भी बड़ी अजीब चीज है।।

इंसान भी बड़ी अजीब चीज है

लोभ लालच भरा गुब्बारा है,
काम क्रोध भरा कटोरा है,
मोह माया में डूबा जहाज है,
वह नश्वर खिलौना है,
इंसान भी बड़ी अजीब चीज है,
प्रकृति का शत्रु है,
इंसान का इंसान भक्षक है,
इंसान का इंसान दुश्मन है,
उसमें कुछ भी स्थायीत्व नहीं है,
वह पल पल बलदता हैं,
कथनी करनी भिन्न भिन्न है,
फिर भी सब प्राणियों में बुद्धिमान कहलाता हैं,
इंसान भी बड़ा अजीब चीज है,
इंसान भी बड़ी अजीब चीज है।।
: राकेश देवडे़ बिरसावादी

Language: Hindi
28 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
मोहे हिंदी भाये
मोहे हिंदी भाये
Satish Srijan
"तुम्हारी गली से होकर जब गुजरता हूं,
Aman Kumar Holy
★मां का प्यार★
★मां का प्यार★
★ IPS KAMAL THAKUR ★
माह -ए -जून में गर्मी से राहत के लिए
माह -ए -जून में गर्मी से राहत के लिए
सिद्धार्थ गोरखपुरी
"चाहत " ग़ज़ल
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
दृष्टिबाधित भले हूँ
दृष्टिबाधित भले हूँ
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
उम्मीद कभी तू ऐसी मत करना
उम्मीद कभी तू ऐसी मत करना
gurudeenverma198
नहीं देखी सूरज की गर्मी
नहीं देखी सूरज की गर्मी
Sonam Puneet Dubey
अभी कुछ बरस बीते
अभी कुछ बरस बीते
shabina. Naaz
दिल सचमुच आनंदी मीर बना।
दिल सचमुच आनंदी मीर बना।
Pt. Brajesh Kumar Nayak
जिनका हम जिक्र तक नहीं करते हैं
जिनका हम जिक्र तक नहीं करते हैं
ruby kumari
नहीं मैं -गजल
नहीं मैं -गजल
Dr Mukesh 'Aseemit'
अपने ही हाथों
अपने ही हाथों
Dr fauzia Naseem shad
चीजें खुद से नहीं होती, उन्हें करना पड़ता है,
चीजें खुद से नहीं होती, उन्हें करना पड़ता है,
Sunil Maheshwari
हिन्दी दोहे- इतिहास
हिन्दी दोहे- इतिहास
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
बुजुर्ग ओनर किलिंग
बुजुर्ग ओनर किलिंग
Mr. Rajesh Lathwal Chirana
सन्तानों  ने  दर्द   के , लगा   दिए    पैबंद ।
सन्तानों ने दर्द के , लगा दिए पैबंद ।
sushil sarna
आख़िरी मुलाकात !
आख़िरी मुलाकात !
The_dk_poetry
मैत्री//
मैत्री//
Madhavi Srivastava
हमेशा सही के साथ खड़े रहें,
हमेशा सही के साथ खड़े रहें,
नेताम आर सी
दिल कि आवाज
दिल कि आवाज
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
जाने वाले बस कदमों के निशाँ छोड़ जाते हैं
जाने वाले बस कदमों के निशाँ छोड़ जाते हैं
VINOD CHAUHAN
बचपन का प्रेम
बचपन का प्रेम
निरंजन कुमार तिलक 'अंकुर'
👺 #स्टूडियो_वाले_रणबांकुरों_की_शान_में...
👺 #स्टूडियो_वाले_रणबांकुरों_की_शान_में...
*प्रणय प्रभात*
*अहिल्या (कुंडलिया)*
*अहिल्या (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
आप या तुम
आप या तुम
DR ARUN KUMAR SHASTRI
खुशी -उदासी
खुशी -उदासी
SATPAL CHAUHAN
"हर कोई अपने होते नही"
Yogendra Chaturwedi
शीर्षक - खामोशी
शीर्षक - खामोशी
Neeraj Agarwal
धीरे धीरे  निकल  रहे  हो तुम दिल से.....
धीरे धीरे निकल रहे हो तुम दिल से.....
Rakesh Singh
Loading...