Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
3 Feb 2024 · 1 min read

इंसान ऐसा ही होता है

इंसान इतना ख़ुदग़र्ज़ है
कि ताली एक हाथ से बजा सकता
तो अपने दूसरे हाथ को
बहुत आसानी से नकार देता ,

इसकी फितरत तो देखो
बस उगते सूरज को प्रणाम करो ये कहता
लेकिन मतलब साधते वक्त
डूबते सूरज को भी अर्घ है देता ,

मौकापरस्त तो कमाल का है
अपना काम निकालने के लिए
साम-दाम-दंड-भेद को साथ ले
उसकी भनक उस मौके को भी नहीं लगने देता ,

चालाकी से इतना भरा है
अपनी सारी की सारी धूर्तता
सीधी सादी बेजुबान बेचारी
लोमड़ी के सर है मढ़ देता ,

दिमाग देखिए इसका
ख़ुद तो वफ़ादार हो नहीं सकता
अपनी दिलदारी दिखाकर
कुत्ते को वफ़ादारी का जिम्मा है देता ,

इस इंसान को कभी भी
कोई मात नहीं दे सकता
ये ख़ुद से ही ख़ुद को
रिश्ते-दोस्ती की आड़ में है मात देता ।

स्वरचित एवं मौलिक
( ममता सिंह देवा )

113 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Mamta Singh Devaa
View all
You may also like:
डॉ अरूण कुमार शास्त्री
डॉ अरूण कुमार शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
गुनाहों के देवता तो हो सकते हैं
गुनाहों के देवता तो हो सकते हैं
Dheeru bhai berang
सावन में शिव गुणगान
सावन में शिव गुणगान
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
"मेरा गलत फैसला"
Dr Meenu Poonia
*नारियों को आजकल, खुद से कमाना आ गया (हिंदी गजल/ गीतिका)*
*नारियों को आजकल, खुद से कमाना आ गया (हिंदी गजल/ गीतिका)*
Ravi Prakash
#संघ_शक्ति_कलियुगे
#संघ_शक्ति_कलियुगे
*प्रणय प्रभात*
नन्हीं परी आई है
नन्हीं परी आई है
Mukesh Kumar Sonkar
मोहे हिंदी भाये
मोहे हिंदी भाये
Satish Srijan
अपने क़द से
अपने क़द से
Dr fauzia Naseem shad
इक परी हो तुम बड़ी प्यारी हो
इक परी हो तुम बड़ी प्यारी हो
Piyush Prashant
कई आबादियों में से कोई आबाद होता है।
कई आबादियों में से कोई आबाद होता है।
Sanjay ' शून्य'
आखिर कब तक
आखिर कब तक
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
करम के नांगर  ला भूत जोतय ।
करम के नांगर ला भूत जोतय ।
Lakhan Yadav
"हर कोई अपने होते नही"
Yogendra Chaturwedi
खुद्दारी ( लघुकथा)
खुद्दारी ( लघुकथा)
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
एकादशी
एकादशी
Shashi kala vyas
क्यों हो गया अब हमसे खफ़ा
क्यों हो गया अब हमसे खफ़ा
gurudeenverma198
अन्ना जी के प्रोडक्ट्स की चर्चा,अब हो रही है गली-गली
अन्ना जी के प्रोडक्ट्स की चर्चा,अब हो रही है गली-गली
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
सावन में संदेश
सावन में संदेश
Er.Navaneet R Shandily
"दूसरा मौका"
Dr. Kishan tandon kranti
छंद घनाक्षरी...
छंद घनाक्षरी...
डॉ.सीमा अग्रवाल
तड़ाग के मुँह पर......समंदर की बात
तड़ाग के मुँह पर......समंदर की बात
सिद्धार्थ गोरखपुरी
सावन में घिर घिर घटाएं,
सावन में घिर घिर घटाएं,
Seema gupta,Alwar
निभा गये चाणक्य सा,
निभा गये चाणक्य सा,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
यादों की महफिल सजी, दर्द हुए गुलजार ।
यादों की महफिल सजी, दर्द हुए गुलजार ।
sushil sarna
मात पिता
मात पिता
विजय कुमार अग्रवाल
3349.⚘ *पूर्णिका* ⚘
3349.⚘ *पूर्णिका* ⚘
Dr.Khedu Bharti
राज
राज
Neeraj Agarwal
गुरु
गुरु
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
मौसम....
मौसम....
sushil yadav
Loading...