Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
21 Dec 2022 · 1 min read

आ जाते जो एक बार

आ जाते जो एक बार…….

आ जाते जो एक बार
आनंदित सा हो मन
मिट जाते अवसाद
आ जाते जो एक बार

परे निर्बल मरुस्थल
स्नेह का गहरा सागर
वो बहता अभिसार
आ जाते जो एक बार

विरह निशि को मद्धम
कर तीव्र हो उठता
मिलन मधुर उजास
आ जाते जो एक बार

गा लेता प्राणों का तार
अनुराग भरा राग
आ जाते जो एक बार

छूता अधरों को स्नेह
दूर हो जाते विषाद
आ जाते जो एक बार

निर्बल होती प्राचीर
परे बैर तिरस्कार
आ जाते जो एक बार

मन के तार झंकृत
करके गूँजता प्रेम
से संचित मधुर राग
आ जाते जो एक बार

कणकण जगमग
श्वेत लौ से रोशन
घर आँगन निवास
आ जाते जो एक बार

होते सजल शुष्क
नयन हर्ष अपार
आ जाते जो एक बार

✍️””कविता चौहान
स्वरचित एवं मौलिक

1 Like · 290 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
मेरी तकलीफ़
मेरी तकलीफ़
Dr fauzia Naseem shad
"दिल में"
Dr. Kishan tandon kranti
काग़ज़ ना कोई क़लम,
काग़ज़ ना कोई क़लम,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
19-कुछ भूली बिसरी यादों की
19-कुछ भूली बिसरी यादों की
Ajay Kumar Vimal
रंगमंच
रंगमंच
लक्ष्मी सिंह
तन्हाई बिछा के शबिस्तान में
तन्हाई बिछा के शबिस्तान में
सिद्धार्थ गोरखपुरी
2283.🌷खून बोलता है 🌷
2283.🌷खून बोलता है 🌷
Dr.Khedu Bharti
स्वरचित कविता..✍️
स्वरचित कविता..✍️
Shubham Pandey (S P)
जय जय नंदलाल की ..जय जय लड्डू गोपाल की
जय जय नंदलाल की ..जय जय लड्डू गोपाल की"
Harminder Kaur
ग़ज़ल/नज़्म - आज़ मेरे हाथों और पैरों में ये कम्पन सा क्यूँ है
ग़ज़ल/नज़्म - आज़ मेरे हाथों और पैरों में ये कम्पन सा क्यूँ है
अनिल कुमार
हालात ए शोख निगाहों से जब बदलती है ।
हालात ए शोख निगाहों से जब बदलती है ।
Phool gufran
Ram Mandir
Ram Mandir
Sanjay ' शून्य'
शिवोहं
शिवोहं
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
Mathematics Introduction .
Mathematics Introduction .
Nishant prakhar
सुबह आंख लग गई
सुबह आंख लग गई
Ashwani Kumar Jaiswal
नारी
नारी
Mamta Rani
कैसे निभाऍं उस से, कैसे करें गुज़ारा।
कैसे निभाऍं उस से, कैसे करें गुज़ारा।
सत्य कुमार प्रेमी
समृद्धि
समृद्धि
Paras Nath Jha
कितने बड़े हैवान हो तुम
कितने बड़े हैवान हो तुम
मानक लाल मनु
★
पूर्वार्थ
नारी हूँ मैं
नारी हूँ मैं
Kavi praveen charan
रिश्तों में आपसी मजबूती बनाए रखने के लिए भावना पर ध्यान रहना
रिश्तों में आपसी मजबूती बनाए रखने के लिए भावना पर ध्यान रहना
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
कहां जाऊं सत्य की खोज में।
कहां जाऊं सत्य की खोज में।
Taj Mohammad
*चुनावी कुंडलिया*
*चुनावी कुंडलिया*
Ravi Prakash
जीव कहे अविनाशी
जीव कहे अविनाशी
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
क्या अजब दौर है आजकल चल रहा
क्या अजब दौर है आजकल चल रहा
Johnny Ahmed 'क़ैस'
जिंदा होने का सबूत
जिंदा होने का सबूत
Dr. Pradeep Kumar Sharma
मोर
मोर
Manu Vashistha
शिक्षक
शिक्षक
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
धानी चूनर में लिपटी है धरती जुलाई में
धानी चूनर में लिपटी है धरती जुलाई में
Anil Mishra Prahari
Loading...