Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
17 Jun 2016 · 1 min read

आ गये

नारिकेल और मृदु नीम के सहस्त्रों वृक्ष
देखे तो ये दृश्य मेरे चित्त में समा गये।
मन्दिरों का वास्तु यमदिशा में अलौकिक है
ग्राम मी वहाँ के मेरे मन को लुभा गये।
मेरे स्वागत को हुए तत्पर जो पञ्चतत्त्व
हर्ष के सघन घन उर मध्य छा गये।
देव देवियाँ समस्त मेरे अभिनन्दन को
स्वर्ग से उतर कर भूमि पर आ गये।।
रचनाकार
डॉ आशुतोष वाजपेयी
ज्योतिषाचार्य
लखनऊ

Language: Hindi
Tag: कविता
195 Views
You may also like:
" आपके दिल का अचार बनाना है ? "
DrLakshman Jha Parimal
कुछ लोग यूँ ही बदनाम नहीं होते...
मनोज कर्ण
प्रेम
Dr.Priya Soni Khare
पंख कटे पांखी
सूर्यकांत द्विवेदी
गीत - याद तुम्हारी
Mahendra Narayan
तुम्हारा ध्यान कहाँ है.....
पंकज कुमार शर्मा 'प्रखर'
*फिर बंसी बजाओ रे (भक्ति गीतिका )*
Ravi Prakash
इनक मोतियो का
shabina. Naaz
💎🌴अब न उम्मीद बची है न इन्तजार बचा है🌴💎
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
सोशल मीडिया पर नकेल
Shekhar Chandra Mitra
सावन में साजन को संदेश
Er.Navaneet R Shandily
इतने मधुर बनो जीवन में।
लक्ष्मी सिंह
रेलगाड़ी- ट्रेनगाड़ी
Buddha Prakash
दया***
Prabhavari Jha
मैं सोता रहा......
Avinash Tripathi
इक दिल के दो टुकड़े
D.k Math { ਧਨੇਸ਼ }
कहानी,✍️✍️
Ray's Gupta
घिसी चप्पल
N.ksahu0007@writer
जब गुलशन ही नहीं है तो गुलाब किस काम का...
लवकुश यादव "अज़ल"
गज़ल
Saraswati Bajpai
दो शरारती गुड़िया
Prabhudayal Raniwal
विधाता
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
दुनिया जवाब पूछेगी
Swami Ganganiya
मत्तगयंद सवैया छंद
संजीव शुक्ल 'सचिन'
कल्पना एवं कल्पनाशीलता
Shyam Sundar Subramanian
ज़िंदगी पर भारी
Dr fauzia Naseem shad
बुंदेली दोहा-डबला
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
✍️मेरी वो कमी छुपा लेना
'अशांत' शेखर
दाने दाने पर नाम लिखा है
Ram Krishan Rastogi
दया के तुम हो सागर पापा।
Taj Mohammad
Loading...