Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
22 Sep 2022 · 1 min read

आख़िरी मुलाक़ात

यार घुट घुट कर जी रहा हूँ दर्द अश्क़ पी रहा हूँ
शब-ए-वस्ल को आख़िरी मुलाकात कैसे कह दे

नूर रुख़ पर छा जाता है ,तुम जब याद आते हो
करते नही तुम्हे हम प्यार झूठी बात कैसे कह दे

खफ़ा होकर भी वफ़ा किया बेवफ़ा मोहब्बत से
भरे बज़्म में रुसवा किया वो हालात कैसे कह दे

प्यार के इम्तिहाँ में पास होकर भी फेल ही रहा
हम तुम मिले बहुत न मिले ख़्यालात कैसे कह दे

© प्रेमयाद कुमार नवीन
जिला – महासमुंद (छःग)

2 Likes · 173 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
आक्रोष
आक्रोष
Aman Sinha
दर्द ना मिटा दिल से तेरी चाहतों का।
दर्द ना मिटा दिल से तेरी चाहतों का।
Taj Mohammad
यहां कोई बेरोजगार नहीं हर कोई अपना पक्ष मजबूत करने में लगा ह
यहां कोई बेरोजगार नहीं हर कोई अपना पक्ष मजबूत करने में लगा ह
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
सादगी
सादगी
राजेंद्र तिवारी
क्या करें
क्या करें
Surinder blackpen
వీరుల స్వాత్యంత్ర అమృత మహోత్సవం
వీరుల స్వాత్యంత్ర అమృత మహోత్సవం
डॉ गुंडाल विजय कुमार 'विजय'
हिन्दी
हिन्दी
manjula chauhan
अपनी स्टाईल में वो,
अपनी स्टाईल में वो,
Dr. Man Mohan Krishna
अख़बारों में क्या रखा है?
अख़बारों में क्या रखा है?
Shekhar Chandra Mitra
फ़ासला पर लिखे अशआर
फ़ासला पर लिखे अशआर
Dr fauzia Naseem shad
अपनी सोच
अपनी सोच
Ravi Maurya
शिक्षक की भूमिका
शिक्षक की भूमिका
Rajni kapoor
2815. *पूर्णिका*
2815. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
हरि से मांगो,
हरि से मांगो,
Satish Srijan
बचपन की यादें
बचपन की यादें
प्रीतम श्रावस्तवी
■ जीवन-दर्शन...
■ जीवन-दर्शन...
*Author प्रणय प्रभात*
इन्द्रधनुष
इन्द्रधनुष
Dheerja Sharma
चलो चलो तुम अयोध्या चलो
चलो चलो तुम अयोध्या चलो
gurudeenverma198
मुक्तक
मुक्तक
sushil sarna
जिस बस्ती मेंआग लगी है
जिस बस्ती मेंआग लगी है
Mahendra Narayan
मैं हमेशा अकेली इसलिए रह  जाती हूँ
मैं हमेशा अकेली इसलिए रह जाती हूँ
Amrita Srivastava
कभी हुनर नहीं खिलता
कभी हुनर नहीं खिलता
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
#शिव स्तुति#
#शिव स्तुति#
rubichetanshukla 781
सोचा ना था ऐसे भी जमाने होंगे
सोचा ना था ऐसे भी जमाने होंगे
Jitendra Chhonkar
घमंड न करो ज्ञान पर
घमंड न करो ज्ञान पर
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
सफर में धूप तो होगी जो चल सको तो चलो
सफर में धूप तो होगी जो चल सको तो चलो
पूर्वार्थ
करिए विचार
करिए विचार
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
* मोरे कान्हा *
* मोरे कान्हा *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
पतंग
पतंग
Suryakant Dwivedi
आर्य समाज का वार्षिकोत्सव
आर्य समाज का वार्षिकोत्सव
Ravi Prakash
Loading...