Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
12 Apr 2024 · 1 min read

आहिस्था चल जिंदगी

आहिस्था चल जिंदगी
अभी कर्ज चुकाना बाकी है
कुछ फर्ज निभाना बाकी है
कुछ दर्द निभाना बाकी है
रफ्तार मे तेरे चलने से
कुछ छुट गये. कुछ रूठ गये
रूठो को मनाना बाकी है
रोते को हँसाना बाकी है
कुछ रिश्ते बनकर टूट गये
कुछ बनते बनते छुट गये
उन छुटे टूटे रिश्तों के
जख्मों को मिटाना बाकी है
कुछ हसरते अभी अधूरी है
कुछ काम जरूरी बाकी है
जीवन की उलझ पहेली को
पूरा सुलझाना बाकी हैं
अहिस्था चल जिंदगी अभी
कर्ज चुकाना बाकी है
ऋतुराज वर्मा
मो.., 8953057283

40 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
जमाना इस कदर खफा  है हमसे,
जमाना इस कदर खफा है हमसे,
Yogendra Chaturwedi
-अपनो के घाव -
-अपनो के घाव -
bharat gehlot
तेरा एहसास
तेरा एहसास
Dr fauzia Naseem shad
*संस्कारों की दात्री*
*संस्कारों की दात्री*
Poonam Matia
लम्हा भर है जिंदगी
लम्हा भर है जिंदगी
Dr. Sunita Singh
खेल सारा वक्त का है _
खेल सारा वक्त का है _
Rajesh vyas
भार्या
भार्या
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
कीलों की क्या औकात ?
कीलों की क्या औकात ?
Anand Sharma
आशा
आशा
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
"समझ का फेर"
Dr. Kishan tandon kranti
है प्यार तो जता दो
है प्यार तो जता दो
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
टूटी बटन
टूटी बटन
Awadhesh Singh
2337.पूर्णिका
2337.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
जनपक्षधरता के कालजयी कवि रमेश रंजक :/-- ईश्वर दयाल गोस्वामी
जनपक्षधरता के कालजयी कवि रमेश रंजक :/-- ईश्वर दयाल गोस्वामी
ईश्वर दयाल गोस्वामी
जिस तरह
जिस तरह
ओंकार मिश्र
अर्कान - फाइलातुन फ़इलातुन फैलुन / फ़अलुन बह्र - रमल मुसद्दस मख़्बून महज़ूफ़ो मक़़्तअ
अर्कान - फाइलातुन फ़इलातुन फैलुन / फ़अलुन बह्र - रमल मुसद्दस मख़्बून महज़ूफ़ो मक़़्तअ
Neelam Sharma
#दोहा-
#दोहा-
*प्रणय प्रभात*
गलत रास्ते, गलत रिश्ते, गलत परिस्तिथिया और गलत अनुभव जरूरी ह
गलत रास्ते, गलत रिश्ते, गलत परिस्तिथिया और गलत अनुभव जरूरी ह
पूर्वार्थ
पयसी
पयसी
DR ARUN KUMAR SHASTRI
दीप जगमगा रहे थे दिवाली के
दीप जगमगा रहे थे दिवाली के
VINOD CHAUHAN
लघुकथा - घर का उजाला
लघुकथा - घर का उजाला
अशोक कुमार ढोरिया
एक ख्वाब सजाया था मैंने तुमको सोचकर
एक ख्वाब सजाया था मैंने तुमको सोचकर
डॉ. दीपक मेवाती
मन का डर
मन का डर
Aman Sinha
देवर्षि नारद जी
देवर्षि नारद जी
Ramji Tiwari
फितरत से बहुत दूर
फितरत से बहुत दूर
Satish Srijan
*ज़िंदगी का सफर*
*ज़िंदगी का सफर*
sudhir kumar
विश्व पुस्तक दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं।।
विश्व पुस्तक दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं।।
Lokesh Sharma
ग़़ज़ल
ग़़ज़ल
आर.एस. 'प्रीतम'
हाँ, मेरा मकसद कुछ और है
हाँ, मेरा मकसद कुछ और है
gurudeenverma198
*मंथरा (कुंडलिया)*
*मंथरा (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
Loading...