Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
19 Feb 2023 · 1 min read

आस्था और भक्ति की तुलना बेकार है ।

आस्था और भक्ति की तुलना बेकार है ।
इस रस का स्वाद घंटियों के कोलाहल , मंत्रों के उच्चारण , धर्म ग्रंथों के पठन और एकांत की एकाग्रता में सर्वथा एक समान ही है ।
” वस्तुतः पहुँचना तो हमें ईश्वर तक ही होता है ।”
सीमा वर्मा
🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏

346 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Seema Verma
View all
You may also like:
जी करता है...
जी करता है...
डॉ.सीमा अग्रवाल
"शिलालेख "
Slok maurya "umang"
जब ‘नानक’ काबा की तरफ पैर करके सोये
जब ‘नानक’ काबा की तरफ पैर करके सोये
कवि रमेशराज
आप हो न
आप हो न
Dr fauzia Naseem shad
आज की नारी
आज की नारी
Shriyansh Gupta
तन से अपने वसन घटाकर
तन से अपने वसन घटाकर
Suryakant Dwivedi
फकीरी
फकीरी
Sanjay ' शून्य'
Enchanting Bond
Enchanting Bond
Vedha Singh
मन को मना लेना ही सही है
मन को मना लेना ही सही है
शेखर सिंह
शिक्षकों को प्रणाम*
शिक्षकों को प्रणाम*
Madhu Shah
नित  हर्ष  रहे   उत्कर्ष  रहे,   कर  कंचनमय  थाल  रहे ।
नित हर्ष रहे उत्कर्ष रहे, कर कंचनमय थाल रहे ।
Ashok deep
संतोष
संतोष
Manju Singh
हर कदम बिखरे थे हजारों रंग,
हर कदम बिखरे थे हजारों रंग,
Kanchan Alok Malu
जिंदगी का सफर
जिंदगी का सफर
Dr. Pradeep Kumar Sharma
■उलाहना■
■उलाहना■
*प्रणय प्रभात*
ग़म बांटने गए थे उनसे दिल के,
ग़म बांटने गए थे उनसे दिल के,
ओसमणी साहू 'ओश'
*लोकमैथिली_हाइकु*
*लोकमैथिली_हाइकु*
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
वक्त और हालात जब साथ नहीं देते हैं।
वक्त और हालात जब साथ नहीं देते हैं।
Manoj Mahato
*होली में लगते भले, मुखड़े पर सौ रंग (कुंडलिया)*
*होली में लगते भले, मुखड़े पर सौ रंग (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
*चाल*
*चाल*
Harminder Kaur
दिल में बसाना नहीं चाहता
दिल में बसाना नहीं चाहता
Ramji Tiwari
अब बहुत हुआ बनवास छोड़कर घर आ जाओ बनवासी।
अब बहुत हुआ बनवास छोड़कर घर आ जाओ बनवासी।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
3419⚘ *पूर्णिका* ⚘
3419⚘ *पूर्णिका* ⚘
Dr.Khedu Bharti
मिट्टी के परिधान सब,
मिट्टी के परिधान सब,
sushil sarna
अक्षर ज्ञानी ही, कट्टर बनता है।
अक्षर ज्ञानी ही, कट्टर बनता है।
नेताम आर सी
जान हो तुम ...
जान हो तुम ...
SURYA PRAKASH SHARMA
🧟☠️अमावस की रात☠️🧟
🧟☠️अमावस की रात☠️🧟
SPK Sachin Lodhi
भूले से हमने उनसे
भूले से हमने उनसे
Sunil Suman
आसमाँ  इतना भी दूर नहीं -
आसमाँ इतना भी दूर नहीं -
Atul "Krishn"
@ !!
@ !! "हिम्मत की डोर" !!•••••®:
Prakhar Shukla
Loading...