Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
10 Jan 2024 · 1 min read

आसान होते संवाद मेरे,

आसान होते संवाद मेरे,
जब कथन हिंदी में करती हूं।
और लगे प्यारी मुझे ये,
जब हर शब्द इसका हिंदी मे लिखती हूं।
और भी मनमोहन लगे जब हिंदी में भाषण देती हूं
गर्व है मुझे इस हिंदी वर्णमाला पर ,
कठिन है मगर आसान समझती हूं।
होती हूं आनंद से विभोर मैं,
जब हर शब्द हिंदी का पढ़ता हूं।

जब लगे मुझे और भी आसान वेद पुराण ऋग्वेद उपनिषद में कथा हिंदी भाषा में सुनाती हूं।
कोई ना संशय रहता मन में,
हर शब्द को भावार्थ में समझती हूं।

हर भाषा का एक स्वरूप होता है,
मैं हिंदी को निजी भाषा समझती हूं।
आसान होते संवाद मेरे,
जब कत्ल हिंदी में कहती हूं।
स्वरा कुमारी आर्या ✍️

1 Like · 76 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
■ लघु व्यंग्य :-
■ लघु व्यंग्य :-
*Author प्रणय प्रभात*
इश्क के चादर में इतना न लपेटिये कि तन्हाई में डूब जाएँ,
इश्क के चादर में इतना न लपेटिये कि तन्हाई में डूब जाएँ,
Sukoon
"झूठ और सच" हिन्दी ग़ज़ल
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
दिल शीशे सा
दिल शीशे सा
Neeraj Agarwal
* खूबसूरत इस धरा को *
* खूबसूरत इस धरा को *
surenderpal vaidya
औरत
औरत
Shweta Soni
रूठा बैठा था मिला, मोटा ताजा आम (कुंडलिया)
रूठा बैठा था मिला, मोटा ताजा आम (कुंडलिया)
Ravi Prakash
**तीखी नजरें आर-पार कर बैठे**
**तीखी नजरें आर-पार कर बैठे**
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
अल्फाज़
अल्फाज़
हिमांशु Kulshrestha
प्रेमियों के भरोसे ज़िन्दगी नही चला करती मित्र...
प्रेमियों के भरोसे ज़िन्दगी नही चला करती मित्र...
पूर्वार्थ
♥️मां ♥️
♥️मां ♥️
Vandna thakur
* मणिपुर की जो घटना सामने एक विचित्र घटना उसके बारे में किसी
* मणिपुर की जो घटना सामने एक विचित्र घटना उसके बारे में किसी
Vicky Purohit
"तुम्हारे शिकवों का अंत चाहता हूँ
दुष्यन्त 'बाबा'
खुद को इंसान
खुद को इंसान
Dr fauzia Naseem shad
मैं ज़िंदगी के सफर मे बंजारा हो गया हूँ
मैं ज़िंदगी के सफर मे बंजारा हो गया हूँ
Bhupendra Rawat
बुद्ध सा करुणामयी कोई नहीं है।
बुद्ध सा करुणामयी कोई नहीं है।
Buddha Prakash
प्रिय
प्रिय
The_dk_poetry
దేవత స్వరూపం గో మాత
దేవత స్వరూపం గో మాత
डॉ गुंडाल विजय कुमार 'विजय'
ख्वाबों में मेरे इस तरह आया न करो,
ख्वाबों में मेरे इस तरह आया न करो,
Ram Krishan Rastogi
2843.*पूर्णिका*
2843.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
मजदूरों के साथ
मजदूरों के साथ
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
जिस दिन आप कैसी मृत्यु हो तय कर लेते है उसी दिन आपका जीवन और
जिस दिन आप कैसी मृत्यु हो तय कर लेते है उसी दिन आपका जीवन और
Sanjay ' शून्य'
" महखना "
Pushpraj Anant
A Beautiful Mind
A Beautiful Mind
Dhriti Mishra
बहुत जरूरी है तो मुझे खुद को ढूंढना
बहुत जरूरी है तो मुझे खुद को ढूंढना
Ranjeet kumar patre
माना  कि  शौक  होंगे  तेरे  महँगे-महँगे,
माना कि शौक होंगे तेरे महँगे-महँगे,
Kailash singh
"शब्द बोलते हैं"
Dr. Kishan tandon kranti
ख़ामोशी जो पढ़ सके,
ख़ामोशी जो पढ़ सके,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
शिव बन शिव को पूजिए, रखिए मन-संतोष।
शिव बन शिव को पूजिए, रखिए मन-संतोष।
डॉ.सीमा अग्रवाल
सजावट की
सजावट की
sushil sarna
Loading...