Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
28 May 2023 · 1 min read

आसमान में छाए बादल, हुई दिवस में रात।

आसमान में छाए बादल, हुई दिवस में रात।
सूरज की किरनें अलसाईं, मुरझाए जलजात।
विरहित चकवा-चकवी रोवें, कौन सुने फरियाद।
गरजें-खौफ जगाएँ बदरा, हों जैसे जल्लाद।

सीमा अग्रवाल

1 Like · 306 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from डॉ.सीमा अग्रवाल
View all
You may also like:
2621.पूर्णिका
2621.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
"बेहतर है चुप रहें"
Dr. Kishan tandon kranti
साहित्य में साहस और तर्क का संचार करने वाले लेखक हैं मुसाफ़िर बैठा : ARTICLE – डॉ. कार्तिक चौधरी
साहित्य में साहस और तर्क का संचार करने वाले लेखक हैं मुसाफ़िर बैठा : ARTICLE – डॉ. कार्तिक चौधरी
Dr MusafiR BaithA
शायद कुछ अपने ही बेगाने हो गये हैं
शायद कुछ अपने ही बेगाने हो गये हैं
Ravi Ghayal
फितरत................एक आदत
फितरत................एक आदत
Neeraj Agarwal
किसी ज्योति ने मुझको यूं जीवन दिया
किसी ज्योति ने मुझको यूं जीवन दिया
gurudeenverma198
जमाना है
जमाना है
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
संज्ञा
संज्ञा
पंकज कुमार कर्ण
*शादी के खर्चे बढ़े, महॅंगा होटल भोज(कुंडलिया)*
*शादी के खर्चे बढ़े, महॅंगा होटल भोज(कुंडलिया)*
Ravi Prakash
कुछ टूट गया
कुछ टूट गया
Dr fauzia Naseem shad
" सुप्रभात "
Yogendra Chaturwedi
मन की चंचलता बहुत बड़ी है
मन की चंचलता बहुत बड़ी है
पूर्वार्थ
न मैंने अबतक बुद्धत्व प्राप्त किया है
न मैंने अबतक बुद्धत्व प्राप्त किया है
ruby kumari
क्या जानते हो ----कुछ नही ❤️
क्या जानते हो ----कुछ नही ❤️
Rohit yadav
आपकी अच्छाईया बेशक अदृष्य हो सकती है
आपकी अच्छाईया बेशक अदृष्य हो सकती है
Rituraj shivem verma
मुझे किसी को रंग लगाने की जरूरत नहीं
मुझे किसी को रंग लगाने की जरूरत नहीं
Ranjeet kumar patre
वक़्त की पहचान🙏
वक़्त की पहचान🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
⚘*अज्ञानी की कलम*⚘
⚘*अज्ञानी की कलम*⚘
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
*संवेदना*
*संवेदना*
Dr. Priya Gupta
बेटी की शादी
बेटी की शादी
विजय कुमार अग्रवाल
I have recognized myself by understanding the values of the constitution. – Desert Fellow Rakesh Yadav
I have recognized myself by understanding the values of the constitution. – Desert Fellow Rakesh Yadav
Desert fellow Rakesh
"चाँद को शिकायत" संकलित
Radhakishan R. Mundhra
* निशाने आपके *
* निशाने आपके *
surenderpal vaidya
ऐ ज़ालिम....!
ऐ ज़ालिम....!
Srishty Bansal
मारी थी कभी कुल्हाड़ी अपने ही पांव पर ,
मारी थी कभी कुल्हाड़ी अपने ही पांव पर ,
ओनिका सेतिया 'अनु '
#लघुकथा
#लघुकथा
*Author प्रणय प्रभात*
श्री कृष्ण का चक्र चला
श्री कृष्ण का चक्र चला
Vishnu Prasad 'panchotiya'
दिलबर दिलबर
दिलबर दिलबर
DR ARUN KUMAR SHASTRI
मैं तो महज एक ख्वाब हूँ
मैं तो महज एक ख्वाब हूँ
VINOD CHAUHAN
जिन्दगी की किताब में
जिन्दगी की किताब में
Mangilal 713
Loading...