Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
10 Feb 2017 · 1 min read

आशियाना मिला जिंदगी मिल गई

आशियाना मिला जिंदगी मिल गई|
तेरी तिरछी नजर से नजर मिल गई||

मंजिल भी मिली आशिकी मिल गई|
इक रोते हुये को हँसी मिल गई||

मेरे प्यार की हर बंदगी मिल गई|
बंद आँखे यूँ रोशनी मिल गई||

मुझको काँटो मे प्यारी कली गई|
मेरे सपनो की रानी परी मिल गई||

कृष्णा को इक संगनी मिल गई|
आँशियाना मिला जिदंगी मिल गई||

2 Likes · 626 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
"स्वप्न".........
Kailash singh
ఇదే నా భారత దేశం.
ఇదే నా భారత దేశం.
डॉ गुंडाल विजय कुमार 'विजय'
आज बेरोजगारों की पहली सफ़ में बैठे हैं
आज बेरोजगारों की पहली सफ़ में बैठे हैं
गुमनाम 'बाबा'
"समय"
Dr. Kishan tandon kranti
चलो मैं आज अपने बारे में कुछ बताता हूं...
चलो मैं आज अपने बारे में कुछ बताता हूं...
Shubham Pandey (S P)
आख़री तकिया कलाम
आख़री तकिया कलाम
Rohit yadav
पैसा बोलता है
पैसा बोलता है
Mukesh Kumar Sonkar
* सुन्दर झुरमुट बांस के *
* सुन्दर झुरमुट बांस के *
surenderpal vaidya
क़िताबों में दफ़न है हसरत-ए-दिल के ख़्वाब मेरे,
क़िताबों में दफ़न है हसरत-ए-दिल के ख़्वाब मेरे,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
प्यार गर सच्चा हो तो,
प्यार गर सच्चा हो तो,
Sunil Maheshwari
"ॐ नमः शिवाय"
Radhakishan R. Mundhra
“ मैथिली ग्रुप आ मिथिला राज्य ”
“ मैथिली ग्रुप आ मिथिला राज्य ”
DrLakshman Jha Parimal
जिसके ना बोलने पर और थोड़ा सा नाराज़ होने पर तुम्हारी आँख से
जिसके ना बोलने पर और थोड़ा सा नाराज़ होने पर तुम्हारी आँख से
Vishal babu (vishu)
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
शीर्षक तेरी रुप
शीर्षक तेरी रुप
Neeraj Agarwal
फ़ानी
फ़ानी
Shyam Sundar Subramanian
देख भाई, सामने वाले से नफ़रत करके एनर्जी और समय दोनो बर्बाद ह
देख भाई, सामने वाले से नफ़रत करके एनर्जी और समय दोनो बर्बाद ह
ruby kumari
इशारा दोस्ती का
इशारा दोस्ती का
Sandeep Pande
*Fruits of Karma*
*Fruits of Karma*
Poonam Matia
एक
एक
हिमांशु Kulshrestha
सत्ता अपनी सुविधा अपनी खर्चा सिस्टम सब सरकारी।
सत्ता अपनी सुविधा अपनी खर्चा सिस्टम सब सरकारी।
*Author प्रणय प्रभात*
गजब गांव
गजब गांव
Sanjay ' शून्य'
पर्यावरण संरक्षण*
पर्यावरण संरक्षण*
Madhu Shah
रेत मुट्ठी से फिसलता क्यूं है
रेत मुट्ठी से फिसलता क्यूं है
Shweta Soni
घबराना हिम्मत को दबाना है।
घबराना हिम्मत को दबाना है।
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
न्याय यात्रा
न्याय यात्रा
Bodhisatva kastooriya
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Mahendra Narayan
♥️मां ♥️
♥️मां ♥️
Vandna thakur
अच्छा लगने लगा है !!
अच्छा लगने लगा है !!
गुप्तरत्न
सत्ता परिवर्तन
सत्ता परिवर्तन
Dr. Pradeep Kumar Sharma
Loading...