Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
7 Jul 2016 · 1 min read

आशियाना ढूंढता हूँ

उड़ता फिरता हूँ बादलों की तरह,
मैं रास्तों से मंजिल का पता पूछता हूँ,
कही खो सी गयी हैं मेरी खुशियाँ,
मैं अपनी खुशियों का पता ढूँढता हूँ,
गर कभी हो मुलाकात उनसे तो बता देना,
मैं हर कही बस उसे ही देखता हूँ,
रातों को अक्सर आसमान निहारते हुए,
अपनी किस्मत का तारा ढूंढता हूँ,
लोग आवारा कहने लगे हैं मुझे,
मैं इस आवारगी में अपना बचपन ढूंढता हूँ,
ये महलों का शहर है,
मैं भी इसमें एक आशियाना ढूंढता हूँ!

“संदीप कुमार”

Language: Hindi
2 Comments · 285 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
When conversations occur through quiet eyes,
When conversations occur through quiet eyes,
पूर्वार्थ
तलाश
तलाश
Vandna Thakur
Dr Arun Kumar shastri
Dr Arun Kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
"गाँव की सड़क"
Radhakishan R. Mundhra
"प्यार का रोग"
Pushpraj Anant
जिंदगी की पहेली
जिंदगी की पहेली
RAKESH RAKESH
त्रिशरण गीत
त्रिशरण गीत
Buddha Prakash
खुद के वजूद की
खुद के वजूद की
Dr fauzia Naseem shad
गज़ल सी रचना
गज़ल सी रचना
Kanchan Khanna
"किरायेदार"
Dr. Kishan tandon kranti
2787. *पूर्णिका*
2787. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
दोय चिड़कली
दोय चिड़कली
Rajdeep Singh Inda
फौजी की पत्नी
फौजी की पत्नी
लक्ष्मी सिंह
रूह को खुशबुओं सा महकाने वाले
रूह को खुशबुओं सा महकाने वाले
कवि दीपक बवेजा
रिश्ते
रिश्ते
Mamta Rani
नस-नस में रस पूरता, आया फागुन मास।
नस-नस में रस पूरता, आया फागुन मास।
डॉ.सीमा अग्रवाल
श्रृंगारिक दोहे
श्रृंगारिक दोहे
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
■ दूसरा पहलू...
■ दूसरा पहलू...
*Author प्रणय प्रभात*
हिन्दी की मिठास, हिन्दी की बात,
हिन्दी की मिठास, हिन्दी की बात,
Swara Kumari arya
मैं तो महज एक माँ हूँ
मैं तो महज एक माँ हूँ
VINOD CHAUHAN
अलविदा कहने से पहले
अलविदा कहने से पहले
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
ମୁଁ ତୁମକୁ ଭଲପାଏ
ମୁଁ ତୁମକୁ ଭଲପାଏ
Otteri Selvakumar
वक्त
वक्त
Namrata Sona
गुम सूम क्यूँ बैठी हैं जरा ये अधर अपने अलग कीजिए ,
गुम सूम क्यूँ बैठी हैं जरा ये अधर अपने अलग कीजिए ,
Sukoon
पहले देखें, सोचें,पढ़ें और मनन करें,
पहले देखें, सोचें,पढ़ें और मनन करें,
DrLakshman Jha Parimal
पग बढ़ाते चलो
पग बढ़ाते चलो
surenderpal vaidya
तो तुम कैसे रण जीतोगे, यदि स्वीकार करोगे हार?
तो तुम कैसे रण जीतोगे, यदि स्वीकार करोगे हार?
महेश चन्द्र त्रिपाठी
जिंदगी जीने के लिए जिंदा होना जरूरी है।
जिंदगी जीने के लिए जिंदा होना जरूरी है।
Aniruddh Pandey
कविता -
कविता - "करवा चौथ का उपहार"
Anand Sharma
फ़ितरत
फ़ितरत
Priti chaudhary
Loading...