Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
3 May 2024 · 1 min read

आशा

कुछ तो है जो सूरज से ज्यादा चमकता है,
कुछ तो है जो चांद से ज्यादा दमकता है।

कोई तो है जो तूफान में भी किनारा दिखाता है,
कोई तो है जो रेगिस्तान में भी रास्ता दिखाता है।

कुछ तो है जो नन्हें घोंसलों का सहारा है,
कुछ तो है जो छलकती आँखों का तारा है।

कोई तो है जो मंजिलों से आवाज देता है,
कोई तो है जो थक कर गिरते हुए को थाम लेता है।

कुछ तो है जिसने हर दर्द को भुला रखा है,
कुछ तो है जिसके पास हर दर्द का दवा रखा है।

कोई तो है जो कभी अकेला होने नहीं देता,
कोई तो है जो दुख में भी रोने नहीं देता।

कुछ तो बात है जो बहते आंसू थम से जाते है,
कुछ तो बात है जो प्यासी आंखो में भी सपने भर जाते हैं।

कोई तो है जो आंधियों में भी दीपक जला लेता है,
कोई तो है जो जीवन – ज्योति को सजा लेता है।

जब हर तरफ़ हमें दिखे निराशा ही निराशा,
तब आगे बढ़ने की शक्ति देती है हमें हमारे मन की -आशा।

लक्ष्मी वर्मा “प्रतीक्षा”
खरियार रोड़ ओडिशा।

Language: Hindi
1 Like · 1 Comment · 31 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
*शक्तिपुंज यह नारी है (मुक्तक)*
*शक्तिपुंज यह नारी है (मुक्तक)*
Ravi Prakash
व्यवहारिकता का दौर
व्यवहारिकता का दौर
पूर्वार्थ
पिछले पन्ने 10
पिछले पन्ने 10
Paras Nath Jha
काम न आये
काम न आये
Dr fauzia Naseem shad
अल्फाज (कविता)
अल्फाज (कविता)
Monika Yadav (Rachina)
सपने
सपने
Divya kumari
वर्तमान परिस्थिति - एक चिंतन
वर्तमान परिस्थिति - एक चिंतन
Shyam Sundar Subramanian
अल्फाज़
अल्फाज़
Shweta Soni
भले वो चाँद के जैसा नही है।
भले वो चाँद के जैसा नही है।
Shah Alam Hindustani
*** बचपन : एक प्यारा पल....!!! ***
*** बचपन : एक प्यारा पल....!!! ***
VEDANTA PATEL
दोहा
दोहा
गुमनाम 'बाबा'
सरकारी जमाई -व्यंग कविता
सरकारी जमाई -व्यंग कविता
Dr Mukesh 'Aseemit'
😊न्यूज़ वर्ल्ड😊
😊न्यूज़ वर्ल्ड😊
*प्रणय प्रभात*
सुनो पहाड़ की....!!! (भाग - ११)
सुनो पहाड़ की....!!! (भाग - ११)
Kanchan Khanna
सबको   सम्मान दो ,प्यार  का पैगाम दो ,पारदर्शिता भूलना नहीं
सबको सम्मान दो ,प्यार का पैगाम दो ,पारदर्शिता भूलना नहीं
DrLakshman Jha Parimal
ज़माने की निगाहों से कैसे तुझपे एतबार करु।
ज़माने की निगाहों से कैसे तुझपे एतबार करु।
Phool gufran
मुझे इश्क से नहीं,झूठ से नफरत है।
मुझे इश्क से नहीं,झूठ से नफरत है।
लक्ष्मी सिंह
जिंदगी एक सफ़र अपनी 👪🧑‍🤝‍🧑👭
जिंदगी एक सफ़र अपनी 👪🧑‍🤝‍🧑👭
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
Where is love?
Where is love?
Otteri Selvakumar
अनजान दीवार
अनजान दीवार
Mahender Singh
कीलों की क्या औकात ?
कीलों की क्या औकात ?
Anand Sharma
शतरंज की बिसात सी बनी है ज़िन्दगी,
शतरंज की बिसात सी बनी है ज़िन्दगी,
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
जुगाड़
जुगाड़
Dr. Pradeep Kumar Sharma
आजकल / (नवगीत)
आजकल / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
"पैमाना"
Dr. Kishan tandon kranti
गलतफहमी
गलतफहमी
Sanjay ' शून्य'
सिर्फ तेरे चरणों में सर झुकाते हैं मुरलीधर,
सिर्फ तेरे चरणों में सर झुकाते हैं मुरलीधर,
कार्तिक नितिन शर्मा
हिंदी है पहचान
हिंदी है पहचान
Seema gupta,Alwar
चाय और सिगरेट
चाय और सिगरेट
आकाश महेशपुरी
#शर्माजीकेशब्द
#शर्माजीकेशब्द
pravin sharma
Loading...